सर्वाधिक पढ़ी गईं

Google Pay-Western Union करार : यूएस से भारत पैसा भेजना हुआ संभव, जानें- महामारी में राहत देने वाला यह सिस्टम कैसे करता है काम

अमेरिका से पैसे भेजने वाले गूगल पे यूजर को भारत में उस पे यूजर को सर्च करना पड़ता है, जिसे वह पैसा भेजना चाहता है. एक बार यूजर को सर्च कर लेने के बाद उसे 'Pay'बटन दबा कर Western Union दबाना पड़ता है.

June 17, 2021 6:01 PM
गूगल पे और वेस्टर्न यूनियन के गठबंधन से अमेरिका में भारत में मनी ट्रांसफर संभव

पिछले महीने गूगल पे ने वेस्टर्न यूनियन से गठजोड़ कर अमेरिका में अपने यूजर्स के लिए भारत पैसे भेजना संभव बना दिया था. दरअसल वेस्टर्न यूनियन ने अपने क्रॉस बॉर्डर प्लेटफॉर्म को गूगल पे ऐप के साथ जोड़ दिया था. वेस्टर्न यूनियन की ओर से गूगल पे को लिंक कर देने के बाद अमेरिकी यूजर्स के लिए डेबिट या क्रेडिट कार्ड से भारत में पैसे भेजना संभव हो गया था. इससे अमेरिका में बसे उन भारतीयों को काफी सुविधा हो गई,जो महामारी के दौर में भारत में जरूरतमंद अपने रिश्तेदारों, परिजनों या रिश्तेदारों को पैसे भेजना चाह रहे थे.

कैसे काम करता यह नया सिस्टम?

अमेरिका से पैसे भेजने वाले गूगल पे यूजर को भारत में उस पे यूजर को सर्च करना पड़ता है, जिसे वह पैसा भेजना चाहता है. एक बार यूजर को सर्च कर लेने के बाद उसे ‘Pay’बटन दबा कर Western Union दबाना पड़ता है. इसके बाद उन्हें पैसे भेजने के लिए बताए गए स्टेप को फॉलो करना होता है. इस समय अमेरिकी यूजर्स इस सुविधा का इस्तेमाल करते हुए भारत और सिंगापुर में पैसे भेज सकते हैं. आने वाले लगभग 200 देशों में भी इस सुविधा का इस्तेमाल करते हुए अमेरिका से भेजे जा सकेंगे. इन देशों में गूगल पे और वेस्टर्न यूनियन के गठबंधन के जरिये ही पैसे ट्रांसफर किए जा सकेंगे.

Battlegrounds Mobile India का बीटा वर्जन अब उपलब्ध, जानें कैसे करें डाउनलोड

कम आय वाले देशों में लगातार बढ़ता जा रहा है रेमिटेंस

वेस्टर्न यूनियन की मिडिल ईस्ट, एशिया पैसिफिक की रीजनल नेटवर्क चीफ सोहिनी रजोला ने फाइनेंशियल एक्सप्रेस ऑनलाइन से कहा कि अमेरिका में रहने वाले भारतीय और उनके परिवार के लोगों का भारत पैसा भेजना रेगुलर फीचर है. लिहाजा वेस्टर्न यूनियन ने गूगल पे के साथ मिलकर वेस्टर्न यूनियन ने इसे और आसान बनाने की कोशिश की है. खास कर कोरोना महामारी के इस दौर में यह बेहद जरूरी है. वर्ल्ड बैंक की एक रिपोर्ट के मुताबिक 2020 में कम और मध्य आय वर्ग वाले देशों में बाहर से आने वाला रेमिटेंस 540 अरब डॉलर तक पहुंच गया. 2019 में यह 548 अरब डॉलर था. वर्ल्ड बैंक के अनुमान के मुताबिक 2021 में रेमिटेंस 2.6 फीसदी बढ़ कर 553 अरब डॉलर पहुंच सकता है. वहीं 2022 में इसमें 2.2 फीसदी की बढ़ोतरी हो सकती है और यह 565 अरब डॉलर तक पहुंच सकता है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. Google Pay-Western Union करार : यूएस से भारत पैसा भेजना हुआ संभव, जानें- महामारी में राहत देने वाला यह सिस्टम कैसे करता है काम

Go to Top