मुख्य समाचार:

क्या भारत से कारोबार समेटेगी Vodafone? सीईओ ने कहा- नाजुक है हालत

वोडाफोन का यह बयान लाइसेंस फीस को लेकर सुप्रीम कोर्ट के एक फैसले के बाद आया है, जिसके चलते ग्रुप को पहली छमाही में 1.9 अरब यूरो का नुकसान झेलना पड़ा है.

November 12, 2019 6:36 PM
Vodafone said Situation critical in india, future in doubt after supreme court rulingImage: Reuters

वोडाफोन ने कहा है कि भारत में कंपनी का भविष्य तब तक संदेहजनक है, जब तक सरकार टेलिकॉम ऑपरेटर्स पर उच्च टैक्स और चार्ज का बोझ डालना रोक नहीं देती. वोडाफोन का यह बयान लाइसेंस फीस को लेकर सुप्रीम कोर्ट के एक फैसले के बाद आया है, जिसके चलते ग्रुप को पहली छमाही में 1.9 अरब यूरो का नुकसान झेलना पड़ा है. सुप्रीम कोर्ट ने पिछले माह टेलिकॉम कंपनियों को बकाए और ब्याज के भुगतान के रूप में 13 अरब डॉलर चुकाने का आदेश दिया. इसकी मांग टेलिकॉम विभाग ने की थी. इस फैसले के चलते वोडाफोन आइडिया और भारती एयरटेल के शेयरों में गिरावट आई.

वोडाफोन के चीफ एग्जीक्यूटिव निक रीड ने कहा कि भारत में वोडाफोन ने 2018 में आइडिया सेल्युलर के साथ एक ज्वॉइंट वेंचर की शुरुआत की थी. वहां काफी लंबे समय से स्थिति बेहद चुनौतीपूर्ण है. लेकिन अभी भी वोडाफोन आइडिया के पास 30 करोड़ कस्टमर हैं. यह मार्केट की 30 फीसदी हिस्सेदारी के बराबर है.

भारत में ​बड़े वित्तीय बोझ का सामना कर रही कंपनी

आगे कहा कि वित्तीय रूप से असहयोगात्मक प्रावधानों, अत्यधिक टैक्स के चलते कंपनी पर भारत में काफी बोझ है. ऊपर से सुप्रीम कोर्ट ने लाइसेंस फीस को लेकर हमारे खिलाफ फैसला सुनाया है. वोडाफोन ने सरकार से राहत पैकेज की मांग की है. इसमें स्पेक्ट्रम पेमेंट्स पर 2 साल की रोक, कम लाइेंसस फीस व टैक्स और सुप्रीम कोर्ट केस के मामले में ब्याज व जुर्माने में छूट शामिल है.

अब तक 70,000 BSNL कर्मचारियों ने VRS के लिए किया आवेदन, 77,000 द्वारा अपनाने का है अनुमान

वोडाफोन और इंडियन अथॉरिटीज में शुरू से है टकराव

यह पूछे जाने पर कि क्या राहत पैकेज के बिना भारत में बने रहना वोडाफोन के लिए संभव है, सीईओ ने कहा कि यही कहना ठीक होगा कि हालात बेहद नाजुक हैं. वोडाफोन ने भारत में 2007 में एंट्री की थी. ग्रुप ने Hutchison Essar में 67 फीसदी हिस्सेदारी खरीदने के लिए 11 अरब डॉलर का सौदा किया था. तब से अब तक वोडाफोन और भारतीय अथॉरिटीज में टैक्स व नियामकीय मसलों पर टकराव चल रहा है. 2016 में रिलायंस जियो के आने के बाद वोडाफोन की परेशानियां और बढ़ गईं.

शेयर प्राइस में देश ने एड की जीरो वैल्यू

रीड ने आगे कहा कि वोडाफोन भारत के लिए और अधिक इक्विटी को लेकर प्रतिबद्धता नहीं जता रही है. देश ने कंपनी के शेयर प्राइस में जीरो वैल्यू का योगदान दिया है. सुप्रीम कोर्ट के फैसले के चलते वोडाफोन आइडिया में ग्रुप के शेयरों की वैल्यू शून्य पर आ गई है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. क्या भारत से कारोबार समेटेगी Vodafone? सीईओ ने कहा- नाजुक है हालत

Go to Top