सर्वाधिक पढ़ी गईं

Vijaya Diagnostic IPO: आईपीओ से पहले एंकर निवेशकों से जुटाए 566 करोड़, बुधवार को खुले इश्यू को लेकर जानिए क्या है एक्सपर्ट की राय

Vijaya Diagnostic IPO: विजया डायग्नोस्टिक सेंटर का आईपीओ बुधवार 1 सितंबर को सब्सक्रिप्शन के लिए खुल चुका है. इस इश्यू को लेकर एनालिस्ट्स की मिली-जुली राय है.

Updated: Sep 01, 2021 11:38 PM
Vijaya Diagnostic IPO Anchor investors pump in Rs 566 crore Goldman Sachs CLSA others buy stakeविजया डायग्नोस्टिक सेंटर के आईपीओ के तहत कोई भी नया शेयर नहीं जारी होगा

Vijaya Diagnostic IPO: दक्षिण भारत में सबसे बड़े इंटीग्रेटेड डायग्नोस्टिक चेन विजया डायग्नोस्टिक सेंटर लिमिटेड (VDCL) का आईपीओ 1 सितंबर को सब्सक्रिप्शन के लिए खुल चुका है. इस आईपीओ के खुलने के पहले कंपनी ने 29 एंकर निवेशकों से 566.12 करोड़ रुपये जुटाए हैं. कंपनी ने इन निवेशकों को 1,06,61,418 शेयर 531 रुपये के भाव पर शेयरों का आवंटन किया है. एंकर निवेशकों में गोल्डमैन सॉक्स, सीएलएसए, फिडेलिटी इंटरनेशनल और अबू धाबी इंवेस्टमेंट अथॉरिटी शामिल हैं. 1894 करोड़ रुपये का यह आईपीओ सब्सक्रिप्शन के लिए 3 सितंबर तक खुला है और इसके लिए 522-531 रुपये प्रति शेयर का प्राइस बैंड रखा गया है. इस आईपीओ को सब्सक्राइब करने को लेकर ब्रोकरेज फर्मों की मिली-जुली राय है.

Choice Broking: Avoid

  • वीडीसीएल की डायग्नोस्टिक व रेडियोलॉजी दोनों सेग्मेंट में उपस्थिति है लेकिन इसके पियर्स की सिर्फ डाग्नोस्टिक बिजनस में.
  • कंपनी की देश भर में उपस्थिति नहीं है और इसका लगभग 95 फीसदी कारोबार आंध्र प्रदेश और तेलंगाना में है जबकि पियर्स की कई क्षेत्रों में उपस्थिति है.
  • वीडीसीएल के अपने पियर्स की तुलना में अधिकतम ग्राहक वॉक-इन हैं यानी कि बिना प्री-बुकिंग के.
  • डायग्नोस्टिक सेक्टर में बेहतर कैश फ्लो के साथ ग्रोथ की मजबूत संभावना है. हालांकि इसके बावजूद बढ़ते हेल्थकेयर कॉस्ट के चलते इस सेक्टर के प्रॉफिट पर दबाव बढ़ा है.
  • प्राइस बैंड के अपर प्राइस 531 रुपये के हिसाब से विजया डायग्नोस्टिक का पी/ई 47x है जो पियर्स एवरेज के समान है. इससे कंपनी के आईपीओ के फुल्ली प्राइस्ड होने के संकेत दिख रहे हैं. ऐसे में इसमें निवेश को ‘अवाइड’ किया जाना चाहिए.

शेयर बाजार में बढ़ती दिलचस्पी के बीच Demat Account की सुरक्षा पर ध्यान देना भी है जरूरी, फर्जीवाड़े से बचने के लिए इन 8 बातों का रखें ध्यान

IIFL Securities: Subscribe Now

  • अपर प्राइस बैंड पर वित्त वर्ष 2021 के ईपीएस (प्रति शेयर आय) के आधार पर कंपनी 64.3 की पी/ई पर लिस्ट हो सकती है जबकि इंडस्ट्री का औसत पी/ई 90.8x है.
  • वित्त वर्ष 2019 से वित्त वर्ष 2021 के बीच कंपनी का ऑपरेशन रेवेन्यू 13.5 फीसदी, ईबीआईटीडीए 23.9 फीसदी और पीएटी (प्रॉफिट ऑफ्टर टैक्स यानी शुद्ध मुनाफा) 35.5 फीसदी की सीएजीएआर (कंपाउंड एनुअल ग्रोथ रेट) से बढ़ा है.
  • वित्त वर्ष 2021 में कंपनी का आरओई (इक्विटी पर रिटर्न) और आरओसीई (रिटर्न ऑन कैपिटल एंप्लॉयड) 42 फीसदी रहा.
  • हेल्थकेयर इंडस्ट्री में ग्रोथ की बेहतर संभावना है. विजया डायग्नोस्टिक एक कर्ज-मुक्त कंपनी है जो अधिग्रहण और विस्तार की योजना पर काम कर रही है.
  • निवेशकों को लांग टर्म के लिए आईपीओ में निवेश करना चाहिए.

Reliance Securities: Subscribe from long term perspective

  • वित्त 2021 की आय के आधार पर आईपीओ का वैल्यूएशन 64x पर किया गया है जो मेट्रोपोलिस व डॉ लाल पैथलैब की तुलना में 15-40 फीसदी डिस्काउंट पर है. हालांकि वित्त वर्ष 2022 के अनुमानित आय के आधार पर इसका वैल्यूएशन 41x है जो तर्कसंगत दिख रहा है.
  • हालांकि केआरएसएनएए डायग्नोस्टिक की फीकी लिस्टिंग के चलते निवेशकों को विजया डायग्नोस्टिक की लिस्टिंग से भी किसी खास गेन की उम्मीद नहीं करनी चाहिए. केआरएसएनएए डायग्नोस्टिक का आईपीओ का वित्त वर्ष 2021 की आय के आधार पर 16x पर वैल्यूएशन हुआ था.
  • हालांकि बेहतर कैश फ्लो, बैलेंस शीट, रिटर्न रेशियो के अलावा हेल्थकेयर इंडस्ट्री में ग्रोथ की बेहतर संभावना के चलते निवेशक इसमें लांग टर्म के लिए निवेश कर सकते हैं.

India Q1FY22 GDP: अप्रैल-जून तिमाही में 20.1% बढ़ी देश की जीडीपी, पिछले साल की निगेटिव ग्रोथ का कमाल

Vijaya Diagnostic Centre आईपीओ की डिटेल्स

  • विजया डायग्नोस्टिक सेंटर के आईपीओ के तहत कोई भी नया शेयर नहीं जारी होगा और आईपीओ के जरिए 3.56 करोड़ शेयर ऑफर फॉर सेल (ओएफएस) के तहत इश्यू किए जाएंगे.
  • 1895.04 करोड़ रुपये के इस आईपीओ के तहत 1 रुपये की फेस वैल्यू वाले शेयरों के लिए प्राइस बैंड 522-531 रुपये प्रति शेयर का रखा गया है.
  • इश्यू के लिए लॉट साइज 28 शेयरों का रखा गया है यानी कि निवेशकों को प्राइस बैंड के अपर प्राइस के हिसाब से कम से कम 14868 रुपये का निवेश करना होगा.
  • इस आईपीओ के शेयरों का अलॉटमेंट 8 सितंबर को फाइनल हो सकता है और इसके शेयर 14 सितंबर को मार्केट में लिस्ट हो सकते हैं.

फिडेलिटी इंवेस्टमेंट को आरक्षित हिस्से का 8.15% शेयर

एंकर निवेशकों में सबसे अधिक शेयर फिडेलिटी इंवेस्टमेंट ट्रस्ट को आवंटित हुए हैं. फिडेलिटी इंवेस्टमेंट ट्रस्ट को 8.68 लाख शेयरों का आवंटन हुआ है जो एंकर निवेशकों के हिस्से का 8.15 फीसदी है. गोल्डमैन सॉक्स सिंगापुर को एंकर निवेशकों के हिस्से का 5.28 फीसदी शेयर यानी 5.63 लाख शेयर आवंटित हुए हैं जबकि अबू धाबी इंवेस्टमेंट अथॉरिटी को 23.89 करोड़ रुपये में 4.5 लाख शेयर इश्यू हुए हैं. डीसपी हेल्थकेयर ने कंपनी के 4.68 लाख शेयर खरीदे हैं. घरेलू निवेशकों की बात करें तो इसमें एसबीआई, एडेलवेइस, एक्सिस म्यूचुअल फंड, निफ्पन लाइफ, कोटक महिंद्रा और आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल शामिल हैं.
(आर्टिकल: क्षितिज भार्गव)

(स्टोरी में दिए गए स्टॉक रिकमंडेशन संबंधित रिसर्च एनालिस्ट व ब्रोकरेज फर्म के हैं. फाइनेंशियल एक्सप्रेस ऑनलाइन इनकी कोई जिम्मेदारी नहीं लेता. पूंजी बाजार में निवेश जोखिमों के अधीन हैं. निवेश से पहले अपने सलाहकार से जरूर परामर्श कर लें.)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. Vijaya Diagnostic IPO: आईपीओ से पहले एंकर निवेशकों से जुटाए 566 करोड़, बुधवार को खुले इश्यू को लेकर जानिए क्या है एक्सपर्ट की राय
Tags:IPO

Go to Top