Unemployment: पिछले महीने चार महीने के रिकॉर्ड स्तर पर बेरोजगारी दर, शहरों से लेकर गांवों में भी रोजगार की समस्या

Unemployment: कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन के चलते तीसरी लहर की आशंका जताई जा रही है, उससे पहले ही बेरोजगारी दर में इजाफा दर्ज किया गया.

Unemployment Jobless rate hits 4-month high in December
सीएमआईई के एमडी और सीईओ महेश व्यास का कहना है कि रोजगार की तलाश कर रहे लोगों के लिए इकोनॉमी पर्याप्त मौके नहीं तैयार कर पा रही है.

Unemployment: कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन के चलते तीसरी लहर की आशंका जताई जा रही है, उससे पहले ही बेरोजगारी दर में इजाफा दर्ज किया गया. सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी (CMIE) के आंकड़ों के मुताबिक पिछले महीने दिसंबर 2021 में बेरोजगारी दर चार महीने के रिकॉर्ड हाई स्तर पर पहुंच गई. पिछले महीने बेरोजगारी दर 7.91 फीसदी पर थी.
बेरोजगारी दर के आंकड़ों से रोजगार की बढ़ती मांग की चुनौतियों से निपटने में धीमी इकोनॉमिक रिकवरी के असफल होने संकेत मिल रहे हैं. कोरोना की तीसरी लहर इस स्थिति को और बुरा बना सकती है. हालांकि अनुमान लगाया जा रहा है कि अधिक से अधिक लोगों के वैक्सीनेशन और बड़े स्तर पर लॉकडाउन नहीं होने की संभावना के चलते बेरोजगारी दर में तेज उछाल की आशंका आगे कम है.

पीएम मोदी को लेकर टिप्पणी पर मलिक की सफाई, एक दिन बाद कहा- गलत तरीके से पेश की गई बातचीत

शहरों और गांवों, दोनों जगहों पर बढ़ी बेरोजगारी दर

सीएमआईई डेटा के मुताबिक पिछले महीने बेरोजगारी दर में बढ़ोतरी शहरों और गांवों दोनों जगहों में रोजगार की बेहतर स्थिति नहीं होने के कारण हुई. इससे पहले अगस्त 2021 में बेरोजगारी दर 8.32 फीसदी पर थी लेकिन उसके बाद अगले तीन महीने यह कम रही. सितंबर 2021 में बेरोजगारी दर 6.86 फीसदी, अक्टूबर 2021 में 7.75 फीसदी और नवंबर 2021 में 7 फीसदी रही.
सीएमआईई के मासिक आंकड़ों के मुताबिक शहरों में बेरोजगारी दर दिसंबर 2021 में चार महीने के रिकॉर्ड हाई 9.3 फीसदी पर थी जबकि सितंबर 2021 में यह 8.62 फीसदी, अक्टूबर 2021 में 7.38 फीसदी और नवंबर 2021 में 8.21 फीसदी पर थी. वहीं गांवों की बात करें तो यहां दिसंबर 2021 में बेरोजगारी दर दो महीने के हाई लेवल 7.28 फीसदी पर थी जबकि अक्टूबर 2021 में यह 7.91 फीसदी और नवंबर 2021 में 6.44 फीसदी पर थी.

रोजगार के नहीं बन पा रहे पर्याप्त मौके

सीएमआईई के एमडी और सीईओ महेश व्यास का कहना है कि रोजगार की तलाश कर रहे लोगों के लिए इकोनॉमी पर्याप्त मौके नहीं तैयार कर पा रही है. व्यास के मुताबिक दिसंबर 2021 में लेबर पार्टिसिपेशन रेट में बेहतर बढ़ोतरी हुई. लेबर फोर्स में 85 लाख की बढ़ोतरी हुई लेकिन रोजगार में सिर्फ 40 लाख की. इसके चलते बेरोजगारी दर में इजाफा हुआ.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

Financial Express Telegram Financial Express is now on Telegram. Click here to join our channel and stay updated with the latest Biz news and updates.

TRENDING NOW

Business News