सर्वाधिक पढ़ी गईं

Amazon-Flipkart के खिलाफ ट्रेडर्स का हल्ला बोल, बोले- या तो नियमों का पालन करें या फिर देश छोड़ें

अमेजन एवं फ्लिपकार्ट जैसी ई-कॉमर्स कंपनियों के खिलाफ व्यापारियों ने दिल्ली में चल रहे राष्ट्रीय व्यापारी महाधिवेशन के तीसरे दिन रामलीला मैदान में एक हल्ला बोल रैली की.

January 8, 2020 7:47 PM
TRADERS STAGE MASSIVE HALLA BOL RALLY TODAY AGAINST AMAZON & FLIPKARTImage: Team CAIT Twitter

अमेजन एवं फ्लिपकार्ट जैसी ई-कॉमर्स कंपनियों के खिलाफ व्यापारियों ने दिल्ली में चल रहे राष्ट्रीय व्यापारी महाधिवेशन के तीसरे दिन रामलीला मैदान में एक हल्ला बोल रैली की. इस आंदोलन की अगुवाई कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) कर रहा है. रैली में देश भर के सभी राज्यों एवं दिल्ली से आए लगभग 20 हजार से ज्यादा व्यापारियों ने भाग लिया. कैट के सहयोगी संगठन ऑल इंडिया मोबाइल रिटेलर्स एसोसिएशन के आव्हान पर आज देश भर में 20 लाख से ज्यादा मोबाइल स्टोर बंद रहे.

कैट ने आज खुले रूप से चेतवानी दी है कि या तो ये ई-कॉमर्स कंपनियां कानून का पालन करें अथवा भारत छोड़ें. देश भर के 7 करोड़ व्यापारी इन कंपनियों को दूसरी ईस्ट इंडिया कम्पनी बनने नहीं देंगे.

15 जनवरी से 15 फरवरी तक राष्ट्रीय हल्ला बोल अभियान

कैट के राष्ट्रीय अध्यक्ष बीसी भरतिया एवं राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल ने महाधिवेशन में घोषणा करते हुए कहा कि कैट के नेतृत्व में 15 जनवरी से 15 फरवरी तक एक राष्ट्रीय हल्ला बोल अभियान चलाया जाएगा. इसके अंतर्गत देश के सभी राज्यों के विभिन्न शहरों में व्यापारियों द्वारा हल्ला बोल रैली की जाएंगी और केंद्र एवं राज्य सरकारों से मांग की जाएगी कि अमेजन एवं फ्लिपकार्ट जैसी ई—कॉमर्स कंपनियों को सरकार या तो एफडीआई पॉलिसी का पालन करने को बाध्य करे अथवा इन कंपनियों को भारत से अपना व्यापार समेट लेने को कहे. देश का व्यापारी वर्ग अब इन कंपनियों की ई—कॉमर्स व्यापार में ज्यादतियों को सहन नहीं करेगा.

बड़े कर चोरों में से एक हैं अमेजन और फ्लिपकार्ट

भरतिया एवं खंडेलवाल ने ई-कॉमर्स कंपनियों पर हल्ला बोलते हुए कहा कि अमेजन एवं फ्लिपकार्ट कैसी ई-कॉमर्स कंपनियां आर्थिक आंतकवादी हैं, जो भारत के विशाल रिटेल बाजार से व्यापारियों को बाहर निकालकर अपना एकछत्र साम्राज्य स्थापित कर देश को लूटना चाहती हैं. ये कंपनियां जीएसटी और आयकर की बड़े पैमाने पर चोरी कर भारतीय अर्थव्यवस्था की जड़ें खोखली करने में पूरी मजबूती से लगी हैं. इसलिए ये कंपनियां देश के बड़े कर चोरों में से एक हैं. अब इनको यदि सरकार सबक नहीं सिखाएगी तो मजबूर होकर व्यापारियों को इन कंपनियों को सबक सिखाना पड़ेगा.

या तो सरकार तुरंत इन कंपनियों के खिलाफ कार्रवाई करे नहीं तो देश भर में सड़क से लेकर संसद तक व्यापारी एक बड़ा आंदोलन करने पर मजबूर हो जाएंगे और इस आंदोलन में न केवल व्यापारी बल्कि हॉकर्स, ट्रांसपोर्ट, लघु उद्योग, उपभोक्ता आदि को भी जोड़ा जाएगा.

व्यापारी को दिल्ली चुनाव में प्रत्याशी बनाए बीजेपी

अपने मजबूत राजनीतिक इरादे स्पष्ट करते हुए हल्ला बोल रैली में दिल्ली सहित देश भर के व्यापारियों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, भाजपा अध्यक्ष एवं गृह मंत्री अमित शाह एवं भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा से जोरदार मांग की कि दिल्ली के किसी व्यापारी को भाजपा मुख्यमंत्री पद का प्रत्याशी घोषित करे, जिससे दिल्ली सहित देश भर के राजनीतिक वातावरण में बड़े स्तर पर व्यापारियों की सहभागिता हो सके. इससे दिल्ली के 15 लाख से ज्यादा व्यापारी, 40 लॉक्स से ज्यादा उनके कर्मचारी एवं उनके परिवार भाजपा के समर्थन में एक पक्षीय समर्थन करेंगे. वहीं देश भर के 7 करोड़ व्यापारी से समर्थन पाकर भाजपा पूरे देश में मजबूत होगी.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. Amazon-Flipkart के खिलाफ ट्रेडर्स का हल्ला बोल, बोले- या तो नियमों का पालन करें या फिर देश छोड़ें

Go to Top