मुख्य समाचार:
  1. TicTok ऐप वाली कंपनी को मिला 9000 करोड़ का सिडिंकेट लोन, नए स्टार्टअप के लिए अब तक की सबसे बड़ी कामयाबी

TicTok ऐप वाली कंपनी को मिला 9000 करोड़ का सिडिंकेट लोन, नए स्टार्टअप के लिए अब तक की सबसे बड़ी कामयाबी

टिकटॉक ऐप बनाने वाली कंपनी बाइटडांस लिमिटेड को 9 हजार करोड़ रुपये (134 करोड़ डॉलर) का सिंडिकेट लोन मिला है.

April 10, 2019 8:34 PM
tiktok, tiktok biggest startup, tiktok get loan from wall street, ticktok wall street, tiktok funding, टिकटॉकगोल्डमैन सॉक्स और मॉर्गेन स्टेनली ने दिया कर्ज

टिकटॉक ऐप बनाने वाली कंपनी बाइटडांस लिमिटेड को 9 हजार करोड़ रुपये (134 करोड़ डॉलर) का सिंडिकेट लोन मिला है. इस लोन की खास बात यह है कि इसे जिस समूह ने दिया है, उसमें वाल स्ट्रीट बैंकों का दबदबा है. बाइटडांस लिमिटेड चीन का सबसे बड़ा स्टार्टअप है. यह लगभग दुर्लभ मामलों में है जब एशिया के सिंडिकेटेड लोन मार्केट से किसी नए स्टार्टअप को इतना बड़ा लोन मिला हो. यह कंपनी TikTok और डौयिन जैसे ऐप बनाती है. ये दोनों इस समय दुनिया में सबसे तेजी से प्रचलित हो रहे ऐप हैं. इसमें यूजर्स म्यूजिक के साथ अपने वीडियोज रिकॉर्ड करते हैं.

100 करोड़ लोग इंस्टाल कर चुके हैं TikTok

सेंसर टॉवर के मुताबिक एंड्रायड सिस्टम के गूगल प्ले और आईओएस के ऐप स्टोर से अब तक करीब 100 करोड़ लोगों ने अपने स्मार्टफोन पर टिकटॉक इंस्टाल किया है. इस सिडिंकेट लोन पर बाइटडांस कंपनी ने कोई भी कमेंट करने से मना कर दिया. सिंडिंकेट लोन वह होता है जिसे कर्जदाताओं का एक समूह किसी को देता है.

यह भी पढ़ें- जल्द बैन हो टिकटॉक, मद्रास हाईकोर्ट का केंद्र सरकार को निर्देश

गोल्डमैन सॉक्स और मॉर्गेन स्टेनली ने दिया कर्ज

बाइटडांस लिमिटेड को जिस समूह ने कर्ज दिया है उसमें गोल्डमैन सॉक्स और मॉर्गेन स्टेनली समेत बैंक ऑफ चाइना शामिल हैं. इनके अलावा इस समूह में बैंक ऑफ अमेरिका, बार्सलेस कॉरपोरेशन, सिटीग्रुप, एचएसबीसी होल्डिंग्स, जेपी मॉर्गन चेज एंड कंपनी और यूबीएस ग्रुप एजी भी शामिल हैं. इन सभी लेंडर्स के अतिरिक्त चाइना एवरब्राइट बैंक कॉरपोरेशन और चाइना मर्चेंट्स बैंक कॉरपोरेशन भी कंपनी को लोन देने वाले सिंडिकेट का हिस्सा हैं.

निजी सपोर्ट वाला सबसे बड़ा स्टार्टअप

बाइटडांस को पिछले साल सॉफ्टबैंक समूह और अन्य प्रमुख निवेशकों से 21 हजार करोड़ रुपये (300 करोड़ डॉलर) का फंड मिला था जिससे उसका वैल्युशन करीब 5.2 लाख करोड़ रुपये (7500 करोड़ डॉलर) हो गया. यह निजी सहारे वाला सबसे बड़ा स्टार्टअप था.

Go to Top

FinancialExpress_1x1_Imp_Desktop