सर्वाधिक पढ़ी गईं

TCS Share Buyback: टीसीएस 52 हफ्तों के हाई पर, क्या 16000 करोड़ बायबैक आफर में लेना चाहिए हिस्सा?

TCS Shares Buyback: टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज (TCS) के 16000 करोड़ का शेयर बॉयबैक आफर आज से खुल रहा है.

Updated: Dec 18, 2020 12:34 PM
TCS Share Buyback, infosysTata Consultancy Services share price gained 2 per cent to hit a new 52-week high of Rs 2,892.75 apiece as the company's Rs 16,000 crore share buyback offer opened today

TCS Share Buyback 2020: देश की सबसे बड़ी इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी सर्विसेज कंपनी टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज (TCS) के 16000 करोड़ का शेयर बॉयबैक आफर आज से खुल रहा है. आज बायबैक आफर खुलने पर कंपनी का शेयर अपने 52 हफ्तों के हाई 2894 रुपये पर पहुंच गया है. यह आफर 18 दिसंबर से खुलकर 1 जनवरी 2021 को बंद होगा. टीसीएस शेयरधारकों से 5.3 करोड़ शेयर 3000 रुपये प्रति शेयर के भाव पर बॉयबैक करेगी.  टीसीएस के मार्केट कैपिटलाइजेशन के आधार पर देखें तो इस बॉयबैक प्रोग्राम पर टीसीएस एमकैप का करीब 1.5 फीसदी खर्च करेगी. सवाल उठता है कि क्या शेयरधारकों को इस आफर में हिस्सा लेना चाहिए.

3000 रुपये प्रति शेयर पर बॉयबैक

टीसीएस शेयरधारकों से 5.3 करोड़ शेयर 3000 रुपये प्रति शेयर के भाव पर बॉयबैक करेगी. गुरूवार को टीसीएस का शेयर 2838 रुपये के भाव पर बंद हुआ था. साफ है कि निवेशक इस आफर में हिस्सा लेकर शेसर पर मुनाफा कमा सकते हैं. वैसे भी जबसे शेयर बायबैक का एलान हुआ है, तबसे टीसीएस के शेयर में 4 फीसदी से की तेजी रही है. शेयर बॉयबैक के लिए रिकॉर्ड डेट 28 नवंबर है. नवंबर लास्ट में शेयर का भाव 2700 रुपये के आस पास था. स्टॉक एक्सचजेंस पर बिड्स सेंटलमेंट की अंतिम तारीख 12 जनवरी 2021 है.

किनके लिए सही है यह आफर

एक्सपर्ट का कहना है कि यह बायबैक आफर उनके लिए बेहतर दिख रहा है, जिन्होंने शार्ट टर्म के लिए पिछले दिनों टीसीएस के शेयर खरीदे थे. फॉर्चून फिस्कल के डायरेक्टर जगदीश ठक्कर का कहना है कि लंबी अवधि के लिहाज से देखें तो शेयर में ग्रोथ दिख रही है. लेकिन अगर नजरिया शॉर्ट टर्म का है तो बायबैक आफर बेहतर है. वैसे भी मार्च के लो से शेयर में 85 फीसदी के करीब तेजी आ चुकी है. मार्च में शेयर ने 1506 रुपये का लो टच किया था, अभी शेयर का भाव 2900 रुपये के आस पास है.

मौजूदा लेवल पर देखें तो मार्च के लो से शेयर 85 फीसदी मजबूत हुआ है. आज यह 1 साल के हाई 2894 रुपये पर पहुंच गया. यह दूसरी लॉर्जकैप कंपनियों मसलन इंफोसिस और एचसीएल की तुलना में प्रीमियम पर ट्रेड कर रहा है. यहां से शार्ट टर्म के वैल्युएशन भी बहुत बेहतर नहीं दिख रहा है. ऐसे में अगले कुछ दिनों की बात करें तो शेयर में ज्यादा तेजी मुश्किल है, क्योंकि यह पहले ही काफी चढ़ चुका है.

लंबी अवधि में सेंटीमेंट बेहतर

एक्सपर्ट का कहना है कि कंपनी कैश के मामले में भी बेहतर पोजिशन पर है. वैसे भी बायबैक का मतलब है कि कंपनी की बैलेंसशीट में अतिरिक्त नकदी है. पिछले दिनों चुनौतियां रही हैं, फिर भी कंपनी को मार्केट शेयर बढ़ाने में सफलता मिली है. कंपनी का आर्डरबुक बेहतर है, दूसरी तिमाही में 860 करोड़ डॉलर की डील हासिल की है. ऐसे में लंबी अवधि में शेयर में और ग्रोथ दिख रही है.

क्या होता है शेयर बायबैक

कंपनी जब अपने ही शेयर निवेशकों से खरीदती है तो इसे बायबैक कहते हैं. आप इसे आईपीओ का उलट भी मान सकते हैं. बायबैक की प्रक्रिया पूरी होने के बाद इन शेयरों का वजूद खत्म हो जाता है. बायबैक के लिए मुख्य तौर पर दो तरीकों-टेंडर ऑफर या ओपन मार्केट का इस्तेमाल किया जाता है.

इसकी सबसे बड़ी वजह कंपनी की बैलेंसशीट में अतिरिक्त नकदी का होना है. कंपनी के पास बहुत ज्यादा नकदी का होना अच्छा नहीं माना जाता है. इससे यह माना जाता है कि कंपनी अपने नकदी का इस्तेमाल नहीं कर पा रही है. शेयर बायबैक के जरिए कंपनी अपने अतिरिक्त नकदी का इस्तेमाल करती है. कई बार कंपनी को यह लगता है कि उसके शेयर की कीमत कम है (अंडरवैल्यूड) तो वह बायबैक के जरिए उसे बढ़ाने की कोशिश करती है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. TCS Share Buyback: टीसीएस 52 हफ्तों के हाई पर, क्या 16000 करोड़ बायबैक आफर में लेना चाहिए हिस्सा?
Tags:TCS

Go to Top