सर्वाधिक पढ़ी गईं

टाटा स्टील का यूरोपीय कारोबार अब दो भागों में, नीदरलैंड की फैक्ट्री बेचने के लिए बातचीत जारी

टाटा स्टील ने नीदरलैंड और ब्रिटिश में स्थित अपने स्टीर कारोबार को अलग करने का फैसला लिया है.

November 14, 2020 5:36 PM
Tata Steel to split European activities in talks with SSAB about Dutch sale DETAILS HEREटाटा स्टील का यूरोपियन कारोबार टाटा स्टील नीदरलैंड और टाटा स्टील यूके से मिलकर बना है. (Image-Reuters)

टाटा स्टील ने नीदरलैंड और ब्रिटिश में स्थित अपने स्टीर कारोबार को अलग करने का फैसला लिया है. कंपनी ने यह फैसला इसलिए लिया है क्योंकि वह नीदरलैंड स्थित अपने स्टील कारोबार को बेचने की योजना बनी रही है. इससे पहले शुक्रवार को स्वीडिश स्टीलमेकर एसएसएबी ने कहा था कि वह नीदरलैंड्स के IJmuiden में स्थित टाटा स्टील के स्टील मिल और उससे जुड़े अन्य एसेट्स को खरीदने के लिए बातचीत कर रही है.

छह से नौ महीने में सौदा पूरा होने की संभावना

टाटा स्टील के चीफ फाइनेंसियल ऑफिसर कौशिक चटर्जी ने एनालिस्ट्स के साथ एक कांफ्रेस कॉल में कहा कि यह सौदा अगले छह से नौ महीने के भीतर हो जाने की संभावना है. कंपनी इस फैसले को लेकर अपने स्टेकहोल्डर्स के साथ सलाह ले रही थी.

डच पीएम ने इस कदम का किया स्वागत

नीदरलैंड के प्रधानमंत्री मार्क रूट ने इस खबर का स्वागत करते हुए कहा कि एसएसएबी द्वारा अधिग्रहण किए जाने के बाद IJmuiden Plant के प्रॉस्पेक्ट में बढ़ोतरी होगी और लंबे समय तक उत्पादन की संभावना बढ़ेगी. नीदरलैंड की सरकार अपनी अर्थव्यवस्था और क्लाइमेट टार्गेट को हासिल करने के लिए IJmuiden में स्थित फैक्ट्री की भूमिका पर लगातार जोर देती रही है. टाटा स्टील की नीदरलैंड के IJmuiden में स्थित फैक्ट्री में 9 हजार कर्मचारी हैं और शेष नीदरलैंड में 2 हजार.

यूरोपियन कारोबार के दोनों हिस्सों के लिए होगी अलग रणनीति

टाटा स्टील का यूरोपियन कारोबार टाटा स्टील नीदरलैंड और टाटा स्टील यूके से मिलकर बना है. अब कंपनी इन दोनों हिस्सों को अलग-अलग कर रही है. अब इन दोनों ही यूनिट्स के लिए अलग-अलग रणनीति के आधार पर काम होगा. टाटा स्टील पिछले कुछ समय से अपने यूरोपियन स्टील कारोबार की ओवरहॉलिंग करने की योजना बना रही है. हालांकि थाइसनक्रूप के स्टील बिजनस के साथ जॉइंट वेंचर पिछले साल एंटीट्रस्ट मामले में ब्लॉक्ड हो गया था. कंपनी का कहना है कि वह ब्रिटिश कारोबार के लिए वहां की सरकार के साथ मदद के लिए बातचीत कर रही है.

यूरोपियन स्टीलमेकर्स के सामने टिके रहने की चुनौती

टाटा स्टील का यह कदम ऐसे समय में सामने आया है, जब यूरोपीय स्टीलमेकर्स के सामने ओवर-कैपेसिटी की समस्या सामने आई है. इसके अलावा उन्हें सस्ते चाइनीज आयात और कोरोना संकट के कारण आई गिरावट का सामना करना पड़ रहा है. इस वजह से स्टील कंपनियों के लिए मुनाफा कमाना बहुत कठिन हो चुका है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. टाटा स्टील का यूरोपीय कारोबार अब दो भागों में, नीदरलैंड की फैक्ट्री बेचने के लिए बातचीत जारी

Go to Top