मुख्य समाचार:
  1. नहीं जानते थे कंप्यूटर की ABC फिर भी समझ गए इंटरनेट की ताकत, Jack Ma ऐसे ही नहीं बने अरबपति

नहीं जानते थे कंप्यूटर की ABC फिर भी समझ गए इंटरनेट की ताकत, Jack Ma ऐसे ही नहीं बने अरबपति

जैक मा ने अलीबाबा से रिटायर होने का फैसला किया है. 10 सितंबर यानी सोमवार उनका लास्ट वर्किंग डे होगा.

September 8, 2018 1:21 PM
success story of alibaba co-founder jack ma, richest person of china jack ma, alibaba2.88 लाख करोड़ रुपये की दौलत के मालिक हैं जैक मा. (Reuters)

चीन के सबसे अमीर शख्स और ई-कॉमर्स कंपनी अलीबाबा के को-फाउंडर जैक मा ने रिटायर होने का फैसला किया है. 10 सितंबर यानी सोमवार उनका लास्ट वर्किंग डे होगा, हालांकि वह अलीबाबा के निदेशक मंडल में बने रहेंगे और कंपनी का प्रबंधन देखेंगे. रिटायर होने के बाद जैक मा का उद्देश्य शिक्षा के जरिए मानव सेवा करना है.

2.88 लाख करोड़ रुपये की दौलत और 30.28 लाख करोड़ रुपये की कंपनी के मालिक जैक मा ने एक ऐसे क्षेत्र में मिसाल कायम की, जिसके बारे में उन्हें कोई नॉलेज नहीं थी. 1964 में चीन के झेजियांग के हांगझू में जन्मे जैक मा अलीबाबा को शुरू करने से पहले पेशे से टीचर थे. उनका कभी भी कंप्यूटर की दुनिया से कोई ताल्लुक नहीं रहा. इस बात का खुलासा खुद जैक मा ने 2010 में एक कॉन्फ्रेंस में किया था. कंप्यूटर की समझ न होने के बावजूद जैक मा ने इंटरनेट की ताकत को बहुत जल्दी समझ लिया.

पहली बार 1995 में किया इस्तेमाल

पहली बार 1995 में एक ट्रिप के दौरान जैक मा ने पहली बार इंटरनेट का इस्तेमाल किया. उस वक्त उन्होंने इंटरनेट पर ‘बीयर’ सर्च किया और उन्हें यह देखकर हैरानी हुई कि इंटरनेट पर चाइनीज बीयर का कोई रिजल्ट मौजूद नहीं था. तभी वह जान गए कि चीन में इंटरनेट को लेकर काफी स्कोप है और इसमें बिजनेस के लिए अच्छा अवसर है. उसके बाद उन्होंने चीन के लिए एक इंटरनेट कंपनी शुरू करने का फैसला किया.

समझा आखिर क्या है इंटरनेट और कैसे करता है काम?

इंटरनेट के बारे में ज्यादा जानने और समझने के लिए जैक मा अमेरिका भी गए. इसके बाद उन्होंने खुद की इंटरनेट कंपनी ‘चाइना पेजेस’ शुरू की, जो क्लांइट्स के लिए वेबसाइट बनाती थी. बिल्कुल नया बिजनेस होने के बावजूद जैक मा की कंपनी ने तीन साल के अंदर 50 लाख चाइनीज युआन कमा लिए, जो उस वक्त 8 लाख डॉलर के बराबर थे.

एक साल तक एक आईटी कंपनी को किया हेड

जैक मा को इंटरनेट के क्षेत्र में मिली कामयाबी के चलते 1998 में उन्हें चीन की एजेंसी चाइना इंटरनेशनल इले​क्ट्रोनिक कॉमर्स सेंटर ने एक आईटी कंपनी का हेड बना दिया. एक साल उस कंपनी को हेड करने के बाद जैक मा ने 1999 में 17 लोगों के साथ मिलकर अलीबाबा को शुरू किया. वक्त के साथ इस कंपनी को मिली कामयाबी ने जैक मा को चीन की सबसे अमीर शख्सियत बना दिया.

जैक मा की उपलब्धियां

– 2005 में बिजनेस वीक मैगजीन ने दिया बिजनेसपर्सन आॅफ द ईयर का खिताब
– 2005 में एशिया के 25 सबसे पावरफुल बिजनेस पीपुल लिस्ट में हुए शुमार
– 2009 में टाइम्स मैगजीन की दुनिया के 100 सबसे प्रभावशाली हस्तियों की लिस्ट में शामिल
– 2014 में फोर्ब्स की लिस्ट दुनिया के 30 सबसे पावरफुल लोग में शुमार
– 2017 में फॉर्च्यून की वर्ल्ड्स 50 ग्रेटेस्ट लीडर्स लिस्ट में पाया स्थान
– 2018 में बने चीन के सबसे अमीर शख्स

(इनपुट: IANS, Inc Report)

Go to Top