मुख्य समाचार:
  1. 2019: आम चुनाव के नतीजे तय करेंगे मार्केट का रिटर्न, दांव लगाने के लिए हैं कई दमदार शेयर

2019: आम चुनाव के नतीजे तय करेंगे मार्केट का रिटर्न, दांव लगाने के लिए हैं कई दमदार शेयर

ऐसे कई फंडामेंटली मजबूत शेयर हैं जो अगले साल निवेशकों को ऊंचा रिटर्न दे सकते हैं.

December 20, 2018 7:01 AM
Stock Market Outlook 2019, Sensex, Nifty, General Election, Volatility In Stock Market, Global Economy, Monetary Condition, Top Picks For 2019ऐसे कई फंडामेंटली मजबूत शेयर हैं जो अगले साल निवेशकों को ऊंचा रिटर्न दे सकते हैं. (NSE)

Stock Market Outlook 2019: साल 2017 में शेयर बाजार में लो वोलैटिलिटी रही और निवेशकों को उंचा रिटर्न दिया, वहीं 2018 में पूरे साल बाजार में वोलैटिलिटी हावी रही और म्यूटेड रिटर्न मिला. एक्सपर्ट का मानना है कि 2018 वाला ट्रेंड अगले साल यानी 2019 में भी जारी रहने का अनुमान है. घरेलू स्तर पर अगले साल होने वाला आम चुनाव और ग्लोबल स्तर पर टाइट मॉनेटरी कंडीशन सहित कई फैक्टर इसके लिए वजह होंगे. फिलहाल आम चुनाव में बीजेपी की जीत या हार से मार्केट की दिशा तय होगी. हालांकि एक्सपर्ट ने यह भी कहा है कि ऐसे कई फंडामेंटली मजबूत शेयर हैं जो अगले साल निवेशकों को ऊंचा रिटर्न दे सकते हैं.

ये फैक्टर रहेंगे बाजार पर हावी

फॉर्च्युन फिस्कल के डायरेक्टर जगदीश ठक्कर का कहना है कि स्टेट इलेक्शन में जिस तरह के नतीजे आए हैं, इससे केंद्र में अगली सरकार बनने तक बाजार में बहुत ज्यादा रैली की उम्मीद नहीं दिख रही है. उनका कहना है कि बाजार से कई निगेटिव फैक्टर डिस्काउंट हो रहे हैं, मसलन क्रूड में नरमी और रुपये में स्टेबिलिटी. लेकिन मई या जून तक जब भी नई सरकार बनती है, उतार-चढ़ाव बना रहेगा. आम चुनाव में अगर बाजार के मुताबिक नतीजे आते हैं तो एक बार फिर मजबूत सेंटीमेंट तैयार होगा. विदेशी निवेशक इंडियन मार्केट में लौट सकते हैं, जो इस साल बिकवाल रहे हैं.

उनका कहना है कि एक और कंसर्न है कि मानूसन उम्मीद के मुताबिक न रहने से एग्रीकल्चरल इनकम भी उम्मीद से कमजोर रहा है, जिससे कंजम्पशन स्टोरी जोर नहीं पकड़ पाई. ग्लोबल इकोनॉमी भी सुस्त रहने की आशंका जताई जा रही है, जिससे दुनियाभर के बाजारों पर दबाव दिख सकता है. ट्रेड वार और जियो पॉलिटिकल टेंशन पर भी बाजार की नजर रहेगी.

ये भी पढ़ें…Tax Saving: सीनियर सिटीजंस के लिए 50000 रु तक की इंट्रेस्ट इनकम है टैक्स फ्री

BJP जीती तो कहां तक पहुंचेगा बाजार

ब्रोकरेज हाउस प्रभुदास लीलाधर की रिपोर्ट के मुताबिक अगर 2019 के आम चुनाव में BJP की जीत होती है तो निफ्टी 12500 का स्तर छू सकता है. वहीं इसके उलट नतीजे पर निफ्टी नीचे की ओर 9500 के स्तर पर आ सकता है. ब्रोकरेल हाउस कोटक सिक्युरिटीज की रिपोर्ट के मुताबिक बीजेपी अगर जीत जाती है तो निफ्टी दिसंबर 2019 तक 12500 से 13000 का स्तर छू सकता है, वहीं विरीत नतीजे पर अगले साल अंत तक निफ्टी 10000 से 10500 के बीच दिख सकता है.

निफ्टी के लिए 9400 से 11600 की रेंज: एपिक रिसर्च

एपिक रिसर्च के सीईओ नदीम मुस्तफा का कहना है कि अअगले साल आम चुनाव भी हो रहे हैं. वहीं, मैक्रो स्तर पर भी कुछ चिंताएं मार्केट में कायम हैं. ऐसे में अगले 6 महीने बाजार में अभी और उतार—चढ़ाव देखने को मिल सकती है. अगर उसके बाद मैक्रो कंडीशन सटेबल होते हैं तो बाजार में तेजी आ सकती है. फिलहाल पूरे साल की बात करें तो निफ्टी 9400 से 11600 की रेंज में रह सकता है.

निफ्टी के लिए 11800 का लक्ष्य: नारनोलिया फाइनेंशियल

नारनोलिया फाइनेंशियल एडवाइजर्स के रिसर्च हेड विनीत शर्मा का कहना है कि साल 2019 में 2018 वाला ट्रेंड जारी रह सकता है. उनका कहना है कि 2019 में दोबार वोलैटिलिटी का डर है, जिसके पीछे आम चुनाव सबसे बड़ा कारण है. बाजार का वैल्युएशन अभी भी महंगा है, वहीं कंजम्पशन सेक्टर में सुस्ती दिख रही है. इन वजहों से करेक्शन का डर बना हुआ है. हालांकि अगले साल बैंक, एनबीएफसी और इंजीनियरिंग प्रोडक्ट कंपनियों के शेयर बेहतर रिटर्न दे सकते हैं. उन्होंने 2019 के लिए निफ्टी का टारगेट 11800 रखा है.

2019 के टॉप पिक्स

फेडरल बैंक
CMP: 91, Target: 125–140, SL: 70

UPL Ltd
CMP: 760, Target: 950, SL: 700

रेमंड
CMP: 852, Target: 1140, SL: 720

Yes बैंक
CMP: 179, Target: 254, SL: 144

पावर फाइनेंस कॉरपोरेशन
CMP: 90.5, Target: 135, SL: 65

सलाह: नदीम मुस्तफा, एपिक रिसर्च

ICICI बैंक
CMP: 366, Target: 397

महिंद्रा एंड महिंद्रा
CMP: 780, Target: 1050

जायडस वेलनेस
CMP: 1407, Target: 1550

केनफिन होम्स
CMP: 286, Target: 294

सलाह: विनीत शर्मा, नारनोलिया फाइनेंशियल एडवाइजर्स

(नोट-निवेश की सलाह एक्सपर्ट्स के द्वारा दी गई हैं. कृपया अपने स्तर पर या अपने एक्सपर्ट्स के जरिए किसी भी तरह की सलाह की जांच कर लें. मार्केट में निवेश के अपने जोखिम हैं, इसलिए सतर्कता जरूरी है.)

Go to Top