मुख्य समाचार:

कोरोना का कहर: 1 हफ्ते में निवेशकों के साफ हो गए 11 लाख करोड़, ये शेयर सबसे ज्यादा टूटे

बाजार को कोरोना वायरस का ऐसा डंक लगा है कि महज 7 कारोबारी दिनों के अंदर निवेशकों के 11 लाख डूब गए.

February 28, 2020 12:04 PM
stock market investors 11 lakh crore rupees tank in last 7 trading days, coronavirus impact on investors wealth, sensex tank, nifty tank, coronavirus, global stock market falling, top losers as coronavirus, stock strategyबाजार को कोरोना वायरस का ऐसा डंक लगा है कि महज 7 कारोबारी दिनों के अंदर निवेशकों के 11 लाख डूब गए.

Coronavirus Impact on Investors Money: घरेलू शेयर बाजार को कोरोना वायरस का ऐसा डंक लगा है कि महज 7 कारोबारी दिनों के अंदर सेंसेक्स 6 फीसदी से ज्यादा या 2600 अंकों से ज्यादा टूट गया है. निफ्टी में भी 790 अंकों के करीब यानी 6.5 फीसदी गिरावट रही है. इस दौरान निवेशकों को भी बड़ा झटका लगा और उनके करीब 11 लाख करोड़ रुपये से ज्यादा साफ हो गए. इस दौरान शेयरों में 34 फीसदी तक गिरावट रही है. बता दें कि कोरोना वायरस के चलते दुनियाभर के शेयर बाजारों में गिरावट है, जिसका असर घरेलू बाजार पर भी दिख रहा है. अमेरिकी बाजारों में लगातार 6 दिन गिरावट रही, वहीं आज घरेलू बाजारों में भी लगातार छठें दिन कमजोरी देखने को मिल रही है.

1 हफ्ते में 2700 अंक टूटा सेंसेक्स

सेंसेक्स 19 फरवरी को 41323 के स्तर पर बंद हुआ था. वहीं, 28 फरवरी के कारोबार में यह 1100 अंक टूटकर 38551 के स्तर पर आ गया. यानी 7 कारोबाारी दिनों के अंदर इसमें 2772 अंकों की गिरावट आई. 19 फरवरी को बीएसई पर लिस्टेड कंपनियों का मार्केट शेयर 158.71 लाख करोड़ रुपये था. वहीं, आज यानी शुक्रवार के कारोबार में यह घटकर 147.77 लाख करोड़ रुपये रह गया. यानी 7 कारोबारी दिनों के अंदर इसमें 11 लाख करोड़ रुपये की गिरावट आ गई.

1 हफ्ते में सबसे ज्यादा टूटने वाले शेयर

फ्यूचर कंज्यूमर: 34 फीसदी
अडानी ट्रांसमिशन: 27 फीसदी
तेजस नेटवर्क: 27 फीसदी
अडानी गैस: 26 फीसदी
जीआईसी: 22 फीसदी
ITDC: 20 फीसदी
पराग मिल्क: 19.70 फीसदी
प्रेस्टिज एस्टेट: 19 फीसदी
Firstsource सॉल्यूशंस: 18.76 फीसदी
अवंति फीड्स: 18 फीसदी

एक तिमाही तक रहेगा असर

ब्रोकरेज हाउस एमके ग्लोबल के अनुसार कोरोना वायरस का संक्रमण काफी लंबे समय तक खिंच गया है, जिससे चीन सहित उसके साथ ट्रेड से जुड़े देशों की इंडस्ट्री पर असर दिख रहा है. दुनियाभर के एक्सपोर्ट का करीब 12 फीसदी हिस्सेदारी चीन की है. बता दें कि भारत सहित कई देशों में चीन का बड़ा एक्सपोर्ट है और वहां से आने वाले जरूरी पार्ट का इस्तेमाल घरेलू कंपनियां करती हैं. ऐसे में मैन्युफैक्चरिंग सप्लाई चेन बाधित होने का असर कम से कम इन कंपनियों पर 3 महीने रहेगा. इसमें एग्रो केमिकल्स, मेटल, फार्मा, आयल एंड गैस, केमिकल और आटो इंडस्ट्री भी शामिल है.

कोरोना से अबतक 2800 डेथ

कुल मामले: 83,000
डेथ: 28,000
रिकवर: 28,110
मौजूदा समय में संक्रमित की संख्या: 49,776
माइल्ड केस: 40,556 (81%)
क्रिटिकल केस: 9220 (19%)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. कोरोना का कहर: 1 हफ्ते में निवेशकों के साफ हो गए 11 लाख करोड़, ये शेयर सबसे ज्यादा टूटे

Go to Top