सर्वाधिक पढ़ी गईं

बाजार में कोहराम: निवेशकों को 3 लाख करोड़ का झटका, इन 5 वजहों से सेंसेक्स 900 अंकों तक टूटा

Stock Market Crash: 15 मार्च के कारोबार में सेंसेक्स और निफ्टी दोनों प्रमुख इंडेक्स में भारी गिरावट है. बाजार की इस गिरावट में निवेशकों को आज करीब 3 लाख करोड़ का झटका लगा है.

Updated: Mar 15, 2021 3:12 PM
Stock Market CrashWith bears taking control of Dalal Street, investors have been left poorer by Rs 11.85 lakh crore in the last six trading sessions.

Stock Market Crash: 15 मार्च के कारोबार में शेयर बाजार में जमकर बिकवाली देखने को मिल रही है. सेंसेक्स और निफ्टी दोनों प्रमुख इंडेक्स में भारी गिरावट है. सेंसेक्स इंट्राडे कारोबार में 900 अंकों से ज्यादा तक टूटा और 49800 के लो पर आ गया. वहीं निफ्टी भी कारोबार में 14800 के करीब पहुंच गया. शेयर बाजार में आज लगातार दूसरे दिन बिकवाली देखने को मिली है. सेंसेक्स और निफ्टी दोनों में करीब 2 फीसदी की गिरावट आई. मिडकैप और स्मॉल कैप शेयरों में भी बिकवाली है. फिलहाल बाजार की इस गिरावट में निवेशकों को आज करीब 3 लाख करोड़ का झटका लगा है. इस गिरावट के पीछे सबसे बड़ा कारण देश में कोरोना की नई लहर का खतरा बताया जा रहा है. वहीं यूएस में बॉन्ड यील्ड भी 1 साल के हाई पर पहुंच गया है.

1 दिन में 3 लाख करोड़ डूब गए

बाजार की गिरावट में निवेशकों के एक ही दिन में करीब 3 लाख करोड़ रुपये डूब गए हैं. 12 मार्च को बाजार जब बंद हुआ तो बीएसई लिस्टेड कंपनियों का मार्केट कैप 20789063 करोड़ रुपये था. वहीं आज सेंसेक्स जब 49800 के लो पर पहुंचा तो बीएसई लिस्टेड कंपनियों का मार्केट कैप घटकर 20498546 करोड़ रुपये रह गया. यानी एक दिन में करीब 3 लाख करोड़ दौलत निवेशकों की घट गई. इन 5 वजहों से आई गिरावट…..

कोरोना वायरस की फिर बढ़ी दहशत

भारत सहित दुनियाभर के कई देशों में कोरोना वायरस माहामारी के नए मामले तेजी से बढ़ रहे हैं. भारत की बात करें तो बीते 24 घंटे में कोरोना के 26,291 नए मामले और 118 मौतें दर्ज की गईं. बीते 85 दिन में कोरोना के एक दिन में यह सबसे ज्यादा मामले हैं. इससे पहले, 20 दिसंबर को 24 घंटे के दौरान 26,624 मामले दर्ज किए गए थे. देश में कोविड19 संक्रमण के कुल मामले 1,13,85,339 हो चुके हैं, जबकि 1,58,725 लोगों की जान जा चुकी है. बीते 5 दिन से संख्या लगातार बढ़ रही है. एक्टिव मामले बढ़कर 2,19,262 हो गए हैं, जोकि देश में कुछ संक्रमण का 1.93 फीसदी है. वहीं, रिकवरी रेट भी गिरकर 96.68 फीसदी रह गया है.

यूएस: 10 साल का बॉन्ड यील्ड 1 साल के हाई पर

भारत सहित अमेरिका में बॉन्ड यील्ड बढ़ने से इक्विटीज पर बिकवाली का दबाव बढ़ा है. भारत में अभी 10 साल वाले बॉन्ड की यील्ड 6.20 फीसदी और अमेरिका में यह 1.64 फीसदी है. यूएस में 10 साल का बॉन्ड यील्ड 1 साल के हाई पर है. जब बॉन्ड यील्ड बढ़ता है तो निवेशक इक्विटी में बिकवाली कर बॉन्ड में निवेश करने लग जाते हैं.

महंगाई ने बढ़ाई टेंशन

फरवरी में थोक महंगाई दर (WPI) में भारी इजाफा देखने को मिला है. फरवरी में थोक महंगाई दर बढ़कर 4.17 फीसदी पर पहुंच गया है. यह बीते 27 महीनों का रिकॉर्ड स्तर है. बता दें कि जनवरी में थोक महंगाई दर 2.03 फीसदी थी. जबकि एक साल पहले की समान अवधि में यह दर 2.26 फीसदी थी. खाने, पीने की चीजों के अलावा फ्यूल और पावर की थोक महंगाई में जमकर इजाफा हुआ है. मिनिस्ट्री आफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री ने थोक महंगाई के आंकड़े जारी किए हैं. वहीं, भारत में फरवरी में CPI बढ़कर 5.03% गया जो जनवरी में 4.1% था. इससे इकोनॉमिक रिवाइवल को लेकर चिंताएं बढ़ गई हैं.

ग्रोथ में गिरावट

जनवरी में भारत के इंडस्ट्रियल ग्रोथ (IIP) में 1.6 फीसदी की गिरावट आई है. इससे निवेशकों का सेंटीमेंट बिगड़ा है. मैन्युफैक्चरिंग और माइनिंग में गिरावट आने के कारण IIP गिरा है. इससे भी बाजार पर निगेटिव असर हुआ.

बैंक शेयरों में बिकवाली

बैंक शेयरों पर दबाव बना हुआ है. निफ्टी पर बैंक इंडेक्स करीब 2 फीसदी कमजोर हुआ है. इंडेक्स में शामिल सिर्फ 2 ही शेयर हरे निशान में दिख रहे हैं. बंधन बैंक में 4 फीसदी की गिरावट है. आरबीएल बैंक में 3 फीसदी और फेडरल बैंक में 2.5 फीसदी गिरावट है. एचडीएफसी बैंक और आईसीआईसीआई बैंक में 2 फीसदी की गिरावट है. एसबीआई, पीएनबी और कोटक बैंक 1 से 1.5 फीसदी कमजोर हुए हैं.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. बाजार में कोहराम: निवेशकों को 3 लाख करोड़ का झटका, इन 5 वजहों से सेंसेक्स 900 अंकों तक टूटा

Go to Top