मुख्य समाचार:

लॉकडाउन ने घटाया मारुति का मुनाफा, क्या आपको शेयर में लगाना चाहिए दांव या अभी रहें दूर

देश में चल रहे लॉकडाउन का असर मारुति सुजुकी के मुनाफे पर पड़ा है.

May 14, 2020 10:14 AM
Maruti Suzuki, should you invest in maruti suzuki stocks after Q4 result, should you sell maruti suzuki stocks, what brokerage houses says on maruti suzukiदेश में चल रहे लॉकडाउन का असर मारुति सुजुकी के मुनाफे पर पड़ा है.

देश में चल रहे लॉकडाउन का असर मारुति सुजुकी के मुनाफे पर पड़ा है. मार्च तिमाही में मारुति का मुनाफा सालाना आधार पर 28 फीसदी घटकर 1291.7 करोड़ रुपये रहा है. कंपनी का कहना है कि लॉकडाउन के चलते क्षमता से कम उत्पादन और विज्ञापन पर बढ़े खर्च के चलते कंपनी के मार्जिन पर दबाव दिखा है. BS-IV से माइग्रेशन की वजह से भी मार्जिन पर दबाव आया है. कंपनी द्वारा जारी नतीजों के बाद ब्रोकरेज हाउस भी आगे के आउटलुक को लेकर अपनी राय दे रहे हैं. कुछ ब्रोकरेज हाउस ने शेयर में खरीद की सलाह दी है तो कुछ ने दूर रहने की सलाह दी है.

मोतीलाल ओसवाल
लक्ष्य: 5850 रुपये
सलाह: बॉय

ब्रोकरेज हाउस मोतीलाल ओसवाल के मुताबिक मारुति सुजुकी पर वित्त वर्ष 2021 में दबाव बना रहेगा. लॉकडाउन को लेकर देश के कई हिस्सों में अभी अनिश्चितता बनी हुई है. सही से प्रोडक्शन स्टार्ट होने में समय लगेगा. शो यम खुलने में समय लगेगा. वहीं लॉकडाउन से डिमांड भी कमजोर हुई है. ऐसे में इस वित्त वर्ष कंपनी के मुनाफे पर दबाव होगा. हालांकि मारुति में अपनी प्रतिस्पर्धी कंपनियों की तुलना में तेज रिकवरी करने की क्षमता है. ब्रोकरेज ने FY21/FY22 के लिए EPS 18%/7% घटा दिया है. हालांकि बाउंस बैक करने की बात कहते हुए शेयर में 5850 रुपये का लक्ष्य दिया है. कल के बंद भाव 5035 की तुलना में शेयर में 16 फीसदी रिटर्न मिल सकता है.

जेफरीज
लक्ष्य: 6000 रुपये
सलाह: बॉय

ब्रोकरेज हाउस जेफरीज ने मारुति सुजुकी में 6000 रुपये के लक्ष्य के साथ निवेश की सलाह दी है. जेफरीज के अनुसार कंपनी के लिए FY21 कमजोर रहने वाला है लेकिन FY22-23 के दौरान EPS में मजबूत रीबाउंड देखने को मिलेगा. लॉकडाउन की वजह से नियरटर्म वॉल्यूम आउटलुक कमजोर रहने का अनुमान है. लेकिन आगे स्माल कार की ओर शिफ्ट करने का फायदा कंपनी को मिलेगा.

CLSA
लक्ष्य: 4235 रुपये
सलाह: बिकवाली

ब्रोकरेज हाउस CLSA ने मारुति सुजुकी में 4235 का लक्ष्य रखते हुए बिकवाली की सलाह दी है. ब्रोकरेज के अनुसार लॉकडाउन की वजह से वॉल्यूम कमजोर बना रहेगा. मौजूदा वित्त वर्ष में कंपनी के बिजनेस पर दबाव रहने वाला है. आटो इंडस्ट्री के लिए ओवरआल सेंटीमेंट कमजोर हैं.

कंपनी के नतीजे एक नजर में

मारुति सुजुकी का मुनाफा मार्च तिमाही में सालाना आधार पर 28 फीसदी घटकर 1,291.7 करोड़ रुपये रहा है. आय पिछले साल के समान तिमाही के 21,459.4 करोड़ रुपये से घटकर 18,198.7 करोड़ रुपये रही है. Q4 में कंपनी का एबिटडा पिछले साल की समान तिमाही के 2,263.4 करोड़ रुपये से घटकर 1,546.4 रुपये और एबिटडा मार्जिन पिछले साल के समान तिमाही के 10.6 फीसदी से घटकर 8.5 फीसदी रहा है. कंपनी के बोर्ड से 60 रुपये प्रति शेयर अंतिम डिविडेंड को मंजूरी दे दी है. मारुति सुजुकी का टैक्स खर्च पिछले साल के 516.5 करोड़ से घटकर 283.4 करोड़ रुपये रहा है.

(नोट: हमने यहां जानकारी ब्रोकरेज हाउस की रिपोर्ट के आधार पर दी है. बाजार के जोखिम को देखते हुए निवेश के पहले एक्सपर्ट की सलाह लें.)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. लॉकडाउन ने घटाया मारुति का मुनाफा, क्या आपको शेयर में लगाना चाहिए दांव या अभी रहें दूर

Go to Top