मुख्य समाचार:

म्यूचुअल फंड से विदेशी शेयर बाजारों में लगा सकते हैं पैसे; कमाई भी दमदार, 1 साल में 49% तक मिला ​रिटर्न

पिछले एक साल में इक्विटी म्यूचुअल फंड कटेगिरी में शामिल इंटरनेशनल म्यूचुअल फंड ने निवेशकों की चांदी कर दी है.

January 16, 2020 9:13 AM
mutual fund, equity fund, international mutual fund, इक्विटी म्यूचुअल फंड, इंटरनेशनल म्यूचुअल फंड, invest in mutual fund, international funds given up to 49 per cent return in last 1 year, best mutual funds, top on return chartपिछले एक साल में इक्विटी म्यूचुअल फंड कटेगिरी में शामिल इंटरनेशनल म्यूचुअल फंड ने निवेशकों की चांदी कर दी है.

International Mutual Fund: पिछले एक साल में इक्विटी म्यूचुअल फंड कटेगिरी में शामिल इंटरनेशनल म्यूचुअल फंड ने निवेशकों की चांदी कर दी है. इस सेग्मेंट में ओवरआल 20.63 फीसदी रिटरर्न दिया है, जो इक्विटी सेग्मेंट में सबसे ज्यादा है. वहीं, इनमें शामिल अलग अलग फंडों का रिटर्न 48.77 फीसदी तक रहा है. पिछले कुछ सालों से इंटरनेशनल म्यूचुअल फंड बेहतर प्रदर्शन देते आ रहे हैं और टॉप फंडों में इस कटेगिरी की स्कीम भी शामिल है. एक्सपर्ट का कहना है कि पिछले दिनों दुनियाभर के बाजारों ने साथ दिया, वहीं रुपये में डॉलर के मुकाबले कमजोरी भी इंटरनेशन फंड में तेजी की वजह बनी. हालांकि निवेशकों को अपने कुल पोर्टफोलियो का 10—15 फीसदी ही इन फंडों में निवेश करना चाहिए. इससे उन्हें अपना पोर्टफोलियो डाइवर्सिफाई करने का मौका मिल जाता है.

क्या हैं इंटरनेशनल फंड?

इंटरनेशनल फंड या ओवरसीज फंड फंड अंतरराष्ट्रीय बाजारों में निवेश करते हैं. इन फंडों का निवेश इक्विटी या डेट में हो सकता है. ये अन्य एसेट क्लास में मसलन कमोडिटीज, रियल एस्टेट आदि में भी निवेश करते हैं. सेबी के नियमों के अनुसार जो म्यूचुअल फंड दूसरे देशों की इक्विटी या इक्विटी रिलेटेड इक्यूपमेंट में 80 फीसदी से अधिक निवेश करते हैं, वह इंटरनेशनल फंड की कटेगिरी में आते हैं.

1 साल में सबसे ज्यादा रिटर्न देने वाले फंड

इडेलवाइस ग्रेटर चाइना इक्व्टिी आफ-शोर:           48.77%
मोतीलाल ओसवाल नैसडेक 100 ETF:                38.42%
फ्रेंकलिन फिडर फ्रैंकलिन US अपार्चुनिटी:           31.85%
निप्पॉन इंडिया US इक्विटी अपार्चुनिटी:                 30.37
ICICI प्रू US ब्लूचिप इक्विटी:                               30.00%
फ्रैंकलिन एशियन इक्विटी:                                     28.54%
PGIM इंडिया ग्लोबल इक्विटी अपार्चुनिटी:           27.50%
HSBC ग्लोबल कंज्यूमर अपार्चुनिटी:                    27.00%
प्रिंसिपल ग्लोबल अपार्चुनिटी:                                23.31%
कोटक US इक्विटी:                                              22.88%

क्या आपको करना चाहिए निवेश

फाइनेंशियल एडवाइजर फर्म BPN फिनकैप के डायरेक्‍टर एके निगम का कहना है कि इंटरनेशनल फंड के जरिए निवेशक विदेशी शेयर बाजारों में पैसा लगा सकते हैं. इससे निवेशकों को जियोग्राफिकल बेसिस पर भी अपना पोर्टफोलियो डाइवर्सिफाई करने में मदद मिल जाती है. पिछले साल रुपये में कमजोरी की वजह से भी इंटरनेशनल फंडों में अच्छा रिटर्न मिला. कह सकते हैं कि यह रुपये में गिरसवट आने पर हेज के रूप में काम करते हैं. हालांकि निवेशकों को इन फंडों में 10 से 15 फीसदी ही निवेश करना चाहिए. एक और बात का ध्यान रखना जरूरी है कि फंड जिस देश में निवेश करता है, निवेशकों को पैसा लगाने के पहले उस देश से जुड़े रिस्क को जानना जरूरी है. जियो पॉलिटिकल टेंशन का भी ध्यान रखें.

उनका कहना है कि इंटरनेशरनल स्तर पर कुछ रिस्क कम हो रहे हें. मसलन यूएस और चीन के बीच ट्रेड वार घटने की उम्मीदें बढ़ गई हैं. यूएस और ईरान के अलावा यूएस और नॉर्थ कोरिया का भी इश्यू कम होता दिख रहा है. ऐसे में आगे भी इन ुंड का प्रदर्शन बेहतर रहने की उम्मीद है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. म्यूचुअल फंड से विदेशी शेयर बाजारों में लगा सकते हैं पैसे; कमाई भी दमदार, 1 साल में 49% तक मिला ​रिटर्न

Go to Top