सर्वाधिक पढ़ी गईं

शपूरजी पालोनजी समूह शेयर स्वैप के जरिए Tata Group से होना चाहता है अलग, सुप्रीम कोर्ट को सौंपा प्लान

शपूरजी पालोनजी ग्रुप साइरस मिस्त्री के परिवार का समूह है.

Updated: Oct 29, 2020 6:43 PM
Shapoorji Pallonji Group submits plan to Supreme court for separation from Tata group, cyrus mistry, mistry family groupमिस्त्री परिवार ने टाटा समूह में अपनी हिस्सेदारी को 1.75 करोड़ रुपये का आंका है. Image: PTI

शपूरजी पालोनजी ग्रुप (Shapoorji Pallonji Group) ने सुप्रीम कोर्ट में टाटा ग्रुप  (Tata Group) से अलग होने के लिए प्लान जमा कर दिया है. शपूरजी पालोनजी ग्रुप साइरस मिस्त्री के परिवार का समूह है और पिछले 70 सालों से टाटा समूह के साथ है. सितंबर 2020 में शपूरजी पालोनजी समूह ने टाटा ग्रुप से अलग होने की घोषणा की थी. शपूरजी पालोनजी ग्रुप ने सुप्रीम कोर्ट को बताया कि मिस्त्री परिवार ने टाटा समूह में अपनी हिस्सेदारी को 1.75 करोड़ रुपये का आंका है.

टाटा ग्रुप और शपूरजी पालोनजी समूह के रिश्तों में कड़वाहट अक्टूबर 2016 में उस वक्त पैदा हुई, जब साइरस मिस्त्री को टाटा सन्स के चेयरमैन मद से हटा दिया गया. उसके बाद से टाटा ग्रुप और साइरस मिस्त्री के बीच दिसंबर 2016 से ही कानूनी लड़ाई चल रही है.

दो समूहों की कंपनी है टाटा सन्स

शपूरजी पालोनजी समूह ने सुप्रीम कोर्ट में जमा किए अपने बयान में कहा है कि टाटा सन्स प्रभावी रूप से दो समूहों की कंपनी है. टाटा ट्रस्ट्स, टाटा परिवार के सदस्यों और टाटा कंपनियों के पास इक्विटी शेयर कैपिटल की 81.6 फीसदी हिस्सेदारी है, वहीं मिस्त्री परिवार की 18.37 फीसदी. टाटा सन्स एक कोर इन्वेस्टमेंट कंपनी और टाटा ग्रुप के लिए होल्डिंग कंपनी है. टाटा सन्स की वैल्यू लिस्टेड इक्विटीज, नॉन लिस्टेड इक्विटीज, ब्रांड, कैश बैलेंस और अचल संपत्तियों में इसकी हिस्सेदारी से निकलती है. टाटा सन्स में शपूरजी पालोनजी समूह की 18.37 फीसदी हिस्सेदारी की वैल्यू 1,75,000 करोड़ रुपये से ज्यादा है.

Ahmedabad-Mumbai Bullet Train Project: L&T को मिला 25 हजार करोड़ का प्रोजेक्ट, 4 साल में बनाएगी 47% हाईस्पीड रेल कॉरिडोर

क्या है सैपरेशन स्कीम में

टाटा ग्रुप से अलग होने की अपनी स्कीम में शपूरजी पालोनजी समूह ने कहा है कि वैल्युएशन पर विवाद को सूचीबद्ध एसेट्स (जिनकी शेयर प्राइस वैल्यू पता हो) के प्रो राटा स्प्लिट और ब्रांड (ब्रांड वैल्युएशन पहले से टाटा द्वारा हो चुकी हो और पब्लिश की जा चुकी हो) के प्रो राटा शेयर के जरिए दूर कर सकते हैं. नेट डेट के लिए एडजस्ट किए गए गैर सूचीबद्ध एसेट्स के मामले में एक तटस्थ थर्ड पाटी वैल्युएशन किया जा सकता है. नॉन-कैश सेटलमेंट के तौर पर शपूरजी पालोनजी समूह ने ऐसी लिस्टेड टाटा एंटिटीज में प्रो राटा शेयरों की मांग की है, जिनमें टाटा सन्स की फिलहाल हिस्सेदारी है. उदाहरण के तौर पर TCS में टाटा ग्रुप की हिस्सेदारी 72 फीसदी है. शपूरजी पालोनजी समूह की टाटा सन्स में 18.37 फीसदी हिस्सेदारी TCS में 13.22 फीसदी शेयरहोल्डिंग में ट्रान्सलेट होती है.

आगे कहा गया कि नेट डेट के लिए एडजस्टेड ब्रांड वैल्यू के प्रो राटा शेयर को कैश और/या लिस्टेड सिक्योरिटीज में सेटल किया जा सकता है. गैर सूचीबद्ध कंपनियों के लिए दोनों समूहों की ओर से चुने गए वैल्युर से शीघ्र मूल्यांकन कराया जा सकता है. यह कैश और/या लिस्टेड सिक्योरिटीज में सेटल किया जा सकता है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. शपूरजी पालोनजी समूह शेयर स्वैप के जरिए Tata Group से होना चाहता है अलग, सुप्रीम कोर्ट को सौंपा प्लान

Go to Top