सर्वाधिक पढ़ी गईं

सेंसेक्स@45000, क्या अगले साल छू लेगा 50000 का स्तर? ये 11 फैक्टर दे रहे हैं साथ

Stock Market@45000: कोरोना महामारी के दौर से उबरते हुए शेयर बाजार ने नया मुकाम हासिल कर लिया है.

Updated: Dec 08, 2020 7:53 AM
Stock Market, sensex, niftyMarket analysts believe that calendar year 2021 will be marked with hopes of early roll-out of the COVID-19 vaccine, normalisation of activities and unperturbed growth recovery

Stock Market@45000: कोरोना महामारी के दौर से उबरते हुए शेयर बाजार ने नया मुकाम हासिल कर लिया है. फरवरी में जहां सेंसेक्स ने पहली बार 40000 का स्तर पार किया था. वहीं, दिसंबर 2020 में ही सेंसेक्स ने 45000 का स्तर भी क्रॉस कर लिया है. मार्च के लो से देखें तो सेंसेक्स में 20 हजार अंकों से ज्यादा रिकवरी आ चुकी है. 24 मार्च को सेंसेक्स 25638.9 के स्तर तक नीचे आ गया था. वहीं, आज के कारोबार में इसने 45,458.92 का हाई बनाया. एक्सपर्ट और रेटिंग एजेंसियों का मानना है कि बाजार में हल्के फुल्के करेक्शन के बीच तेजी जारी रहेगी. साल 2021 में सेंसेक्स 50 हजार के स्तर तक पहुंच जाएगा. वैसे कई ऐसे फैक्टर भी हैं, जो बाजार को सपोर्ट कर रहे हैं. जानते हैं सेंसेक्स का अबतक का सुहाना सफर और आगे क्यों छू सकता है 50 हजार का स्तर……

कोरोना संक्ट के बाद रिटर्न देने में अव्वल

कोरोना संकट के बाद दुनियाभर के बाजारों में रिटर्न देने में भारतीय बाजार दूसरे स्थान पर रहा है. मार्च के लो से अबतक सेंसेक्स में 77 फीसदी से ज्यादा तेजी आ चुकी है. अर्थव्यवस्था में जिस तरह से रिकवरी की उम्मीद जताई जा रही है, इकोनॉमी से जुड़े डाटा बेहतर हो रहे हैं. कंपनियों की अर्निंग सुधर रही है और कोविड 19 की वैक्सीन जल्द बाजार में आने की खबर है, इसके सपोर्ट से अब सेंसेक्स का अगला लक्ष्य 50 हजार का दिख रहा है.

सेंसेक्स: अबतक का शानदार सफर

1000:       जुलाई, 1990
5000:      अक्टूबर, 1999
10,000:    फरवरी, 2006
15,000:    जुलाई, 2007
20,000:     दिसंबर, 2007
25,000:    मई, 2014
30,000:    मार्च, 2015
35,000:    जनवरी, 2018
40,000:    फरवरी, 2020
45,000:    दिसंबर, 2020

1. विदेशी निवेशकों का रिकॉर्ड निवेश

भारतीय बाजार को लेकर विदेशी निवेशकों का भरोसा बना हुआ है. नवंबर में विदेशी निवेशकों ने भारतीय बाजारों में 62,951 करोड़ रुपये का निवेश किया. यह दिसंबर में भी जारी है. ग्लोबल निवेशकों को भारत जैसे उभरते बाजारों में अधिक मुनाफे की संभावना नजर आ रही है. इसके चलते ही भारतीय बाजार ऑल टाइम हाई पर पहुंच गया है.

2. अर्थव्यवस्था का सुधरा आउटलुक

जीडीपी को लेकर रेटिंग एजेंसियों का अनुमान पहले से बेहतर हुआ है. रेटिंग एजेंसी गोल्डमैन सैक्स का कहना है कि अगले वित्त वर्ष में भारतीय अर्थव्यवस्था दुनिया में सबसे तेजी से ग्रोथ करेगी. गोल्डमैन सैक्स ने FY2021 के लिए भारत के जीडीपी अनुमान में सुधार करते हुए अब माइनस 10.3 फीसदी ग्रोथ का अनुमान लगाया है. रेटिंग एजेंसी मूडीज ने भी इस वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में GDP की ग्रोथ के अनुमान में सुधार किया है. रेटिंग एजेंसी मॉर्गन स्टैनले के अनुसार अगले साल यानी 2021 में भारत की जीडीपी ग्रोथ रेट 9.8 फीसदी तक पहुंच सकती है. भारतीय रिजर्व बैंक ने कहा है कि भारतीय अर्थव्वस्था उम्मीद से बेहतर गति से सुधर रही है.

3. कोविड-19 वैक्सीन

भारत में कोरोना वैक्सीन के इमरजेंसी इस्तेमाल के लिए फाइजर और सीरम इंस्टीट्यूट ने मंजूरी मांगी है. वहीं अब केंद्र सरकार ने भारत में वैक्सीनेशन की तैयारी तेज कर दी है. अनुमान है कि जुलाई 2021 तक करीब 30 करोड़ लोगों का वैक्सीनेशन हो जाएगा. कोरोना वेक्सीन बाजार में आने की ख्बर से शेयर बाजार में जोरदार रैली है. अगर वैक्सीन आती है तो निवेशकों के सेंटीमेंट में मजबूती बढ़ेगी.

4. राहत पैकेज और रिफॉर्म

कोरोना महामारी के दौर में देश की अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने और आम आदमी को रोहत देने के लिए सरकार ने लगातार राहत पैकेज पेश किए हैं. वहीं कुछ रिफॉर्म भी किए गए हैं. एक्सपर्ट और रेटिंग एजेंसियों का मानना है कि इन रिफॉर्म का असर अब दिखने लगा है और आगे इसका पॉजिटिव असर होगा.

5. प्राइमरी मार्केट में बहार

साल 2019 में आईपीओ मार्केट में बहार रही है जो आगे भी जारी रहने की उम्मीद है. बेहतर हो रही इकोनॉमी के चलते कई कंपनियां आईपीओ लाने की कतार में हैं. इस साल अबतक कंपनियों ने आईपीओ से 25 हजार करोड़ से ज्यादा की रकम जुटाई है. जो और बढ़ सकती है. 2021 में यह आंकड़ा ज्यादा हो सकता है.

6. ब्याज दर निचले स्तरों पर

ब्याज दर लगातार कम बना हुआ है. आरबीआई ने आने वाले महीनों में महंगाई घटने का अनुमान लगाया है. इससे ब्याज दर घटाने में मदद मिलेगी. इससे मांग बढ़ेगी जो कंपनियों का मुनाफा बढ़ाएगा.

7. बढ़ रही है डिमांड

इस साल मानसूल बेहतर रहने से रूरल सेंटीमेंट मजबूत हैं. रूरल आय में बढ़ोत्तरी से मांग बढ़ रही है. आटो सेक्टर में बिक्री के नए आंकड़े भी इसकी कहानी बता रहे हैं. यह आगे भ्ज्ञी जारी रहने की उम्मीद है. मांग बढ़ने से कंपनियों की अर्निंग और बेहतर होगी.

8. कंपनियों की सुधरी अर्निंग

मौजूदा वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में कंपनियों की अर्निंग में अच्छा खासा सुधार देखने को मिला है. ज्यादातर कंपनियों के मैनेजमेंट की कमेंट्री भी उत्साह बढ़ाने वाली रही है. कंपनियों के नतीजों से साफ हो रहा है कि कई का बिजनेस अब प्री कोविड 19 लेवल पर आ रहा है. ऐसे में आगे तीसरी तिमाही में कॉरपोरेट अन्रिंग बाजार को नई उंचाई दे सकती है.

9. मैन्युफैक्चरिंग

देश की मैन्युफैक्चरिंग एक्टिविटी में ग्रोथ बेहतर हुई है. वहीं, औद्योगिक उत्पादन भी सकारात्मक दायरे में पहुंच गया है.

10. बढ़ रहा है जीएसटी कलेक्शन

नवंबर में भी जीएसटी कलेक्शन 1 लाख करोड़ रुपये से ज्यादा रहा है. अक्तूबर में भी जीएसटी कलेक्शन 1 लाख करोड़ के पार गया था.

11. बैंक में बढ़ा डिपॉजिट

कोरोना संकट के बीच भारतीय का डिपॉजिट बढ़ा है. बाजार में भी लिक्विडिटी बढ़ रही है. वहीं, एफडीआई रिकॉर्ड 500 अरब डॉलर के पार पहुंच गया है.

अर्निंग प्रति शेयर का बढ़ा अनुमान

मॉर्गन स्टैनले ने अपनी एक हालिया रिपोर्ट में कहा था कि सेंसेक्स दिसंबर 2021 तक 50 हजार तक पहुंच सकता है. रिपार्ट के अनुसार 2021 में लॉर्जकैप की तुलना में मिडकैप और स्मालकैप में ज्यादा तेजी देखने को मिलेगी. ब्रोकरेज ने FY21, FY22 और FY23 में BSE सेंसेक्स के लिए अर्निंग प्रति शेयर (EPS) का अनुमान भी बढ़ाकर 15 फीसदी, 10 फीसदी और 9 फीसदी कर दिया है. मॉर्गन स्टैनले के इक्विटी स्ट्रैटेजिस्ट रिदम देसाई और शीला राठी के अनुसार आगे कंपनियों के मुनाफे में बढ़ोत्तरी होगी और बाजार का मार्केट कैप बढ़ेगा. कोविड-19 संक्रमण का पीक बीत चुका है. अब हाई फ्रीक्वेंसी ग्रोथ इंडीकेटर्स मजबूत नजर आ रहे हैं. सरकार की पॉलिसी बेहतर रही है, भारतीय कंपनियों में बिजनेस एक्टिविटी बढ़ रही है. इस तरह से आगे बेहतर ग्रोथ की संभावना मजबूत हुई है.

(नोट: यह जानकारी एक्सपर्ट से बात चीत, बीएसई सेंसेक्स के प्रदर्शन, ब्रोकरेज की अलग अलग रिपोर्ट और बिजनेस एक्टिविटी को ध्यान में रखकर तैयार की गई है.)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. सेंसेक्स@45000, क्या अगले साल छू लेगा 50000 का स्तर? ये 11 फैक्टर दे रहे हैं साथ

Go to Top