सर्वाधिक पढ़ी गईं

भारत में इकनॉमिक रिकवरी पर कोरोना का खतरा, मार्च में खत्म तिमाही में 3% ग्रोथ मुश्किल : BofA

कोविड-19 इंफेक्शन के एक दिन में सामने आ रहे नए मामलों की तादाद और हर दिन महामारी के कारण हो रही मौतों की संख्या के लिहाज से भारत की हालत फिलहाल दुनिया में सबसे चिंताजनक हो गई है.

Updated: Apr 16, 2021 6:17 PM
Second wave of COVID-19 poses risk to economic recovery Q4 GDP to be hit and one month lockdown may down gdp 1 to 2 percent bofa Reportकोरोना वायरस की दूसरी लहर ने इकोनॉमिक रिकवरी को लेकर संकट खड़ा किया है.

कोरोना वायरस की दूसरी लहर ने भारत में इकनॉमिक रिकवरी की रफ्तार को संकट में डाल दिया है. बैंक ऑफ अमेरिका (BofA) सिक्योरिटीज का कहना है कि कोरोना महामारी के चलते मार्च 2021 में खत्म तिमाही के लिए भारत की जीडीपी ग्रोथ रेट का जो अनुमान लगाया गया था, उसे हासिल कर पाना मुश्किल है. इससे पहले अनुमान लगाया गया था कि मार्च 2021 में खत्म तिमाही के दौरान भारत की जीडीपी विकास दर 3 फीसदी के आसपास रहेगी.

बोफा के मुताबिक देश भर में कोरोना की दूसरी लहर के कारण अगर एक महीने तक लॉकडाउन जैसी हालत बनी, तो उससे जीडीपी विकास दर में 100-200 बेसिस प्वाइंट्स (1-2 फीसदी) की गिरावट आ सकती है. बोफा ने कहा कि ग्रोथ अब भी कमजोर है और महत्वपूर्ण इकनॉमिक एक्टिविटी इंडिकेटर्स में गिरावट और लोन ग्रोथ में सुस्ती ने इसे और कमजोर किया है. इसके अलावा बढ़ते कोरोना केसेज के चलते ग्रोथ को लेकर चिंताएं बढ़ी हैं.

Coronavirus Update: यूपी में हर रविवार को लगेगा लॉकडाउन, मास्क नहीं पहना तो 1 से 10 हज़ार रुपये तक जुर्माना

FY21 में पहली बार दिसंबर 2020 में पॉजिटिव हुआ बोफा इंडिकेटर

सात कारकों पर आधारित बोफा इंडिया एक्टिविटी इंडिकेटर जनवरी में 1.3 फीसदी था जो फरवरी में घटकर 1 फीसदी पर आ गया. फरवरी में इन सात कारकों में चार कारक जनवरी की तुलना में सुस्त हुए हैं जिसके कारण इंडिकेटर में गिरावट आई. बोफा की रिपोर्ट के मुताबिक इसके चलते मार्च 2021 तिमाही में 3 फीसदी की वास्तविक जीवीए वृद्धि का अनुमान अब जोखिम में है यानी इतनी वृद्धि होना मुश्किल है. यह इंडेक्स वित्त वर्ष 2020-21 में पहली बार लगातार नौ महीने की गिरावट के बाद दिसंबर 2020 में पॉजिटिव हुआ था.
चालू वित्त वर्ष में ग्रोथ को सहारा देने के लिए बेहतर खबर यह है कि रीयल लेंडिंग रेट्स बहुत कम हो रही हैं. बोफा के अनुमान के मुताबिक चालू वित्त वर्ष 2021-22 में लोन ग्रोथ पिछले वित्त वर्ष 2021 में 5.6 फीसदी की तुलना में बढ़कर 12 फीसदी हो जाएगी.

भारत में रिकॉर्ड नए कोरोना केसेज और मौतें

देश भर में कोरोना महामारी की खतरा एक बार फिर गंभीर रूप से बढञ रहा है और पिछले 24 घंटे में 2.17 लाख नए कोरोना केसेज आए हैं और 1185 लोगों को कोरोना वायरस के चलते मौत हो गई है. नए केसेज मिलने और कोरोना के चलते मरने वालों की संख्या के मामले में दुनिया में कोरोना से सबसे अधिक प्रभावित ब्राजील और अमेरिका के आंकड़ों को मिलाकर भारत आगे है. रिपोर्ट के मुताबिक नेशनल लॉकडाउन अगर एक महीने के लिए भी लगा दिया गया तो 1-2 फीसदी तक की जीडीपी में गिरावट आ सकती है. देश की जीडीपी में 16 फीसदी हिस्सा महाराष्ट्र का है और वहां इस महीने के अंत यानी 30 अप्रैल तक कड़े रिस्ट्रिक्शंस लगाए गए हैं.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. भारत में इकनॉमिक रिकवरी पर कोरोना का खतरा, मार्च में खत्म तिमाही में 3% ग्रोथ मुश्किल : BofA

Go to Top