सर्वाधिक पढ़ी गईं

इनसाइडर ट्रेडिंग में इन्फोसिस कर्मचारियों पर सेबी के एक्शन का असर, गिर गए कंपनी के शेयर

इन्फोसिस के वेंकट सुब्रमण्यम और प्रांशु भुटरा पर अमित भुटरा पर भरत सी जैन, कैपिटल वन पार्टनर्स, टेसोरा कैपिटल, मनीष सी जैन और अंकुश भुटरा को अंदरुनी सूचना देने का आरोप है. इससे इन लोगों ने फ्यूचर एंड ऑप्शन में डीलिंग कर तीन करोड़ रुपये की अवैध कमाई की थी.

June 2, 2021 1:58 PM

बुधवार को इन्फोसिस के शेयर दबाव में दिखे. दोपहर तक यह शेयर एक फीसदी तक टूट चुका था. दरअसल बुधवार को बाजार खुलते ही इनसाइडर ट्रेडिंग के आरोप में इन्फोसिस के कर्मचारियों पर सेबी की कार्रवाई का असर शेयरों की कीमतों पर दिखने लगा था. कंपनी के दो बड़े अधिकारियों को शेयर बाजार में कारोबार करने पर रोक दिया गया है. सेबी ने इन्फोसिस पर कोई कार्रवाई नहीं की है लेकिन बुधवार को कंपनी के शेयर गिर कर कारोबार कर रहे थे. खबर लिखे जाने के समय निफ्टी पर इंफोसिस के शेयर 14.05 रुपये की गिरावट के साथ 1,373.15 रुपये पर और बीएसई सेंसेक्स पर 14.40 रुपये की गिरावट के साथ 1,373.00 रुपये के भाव पर ट्रेड कर रहे हैं.

फ्यूचर एंड ऑप्शन में डीलिंग कर कमाए 3.06 करोड़

इन्फोसिस के कॉरपोरेट अकाउंटिंग के सीनियर प्रिंसिपल वेंकट सुब्रमण्यम और सीनियर कॉरपोरेट वकील प्रांशु भुटरा और छह अन्य कंपनियों और लोगों को अगले आदेश तक शेयरों की खरीद-बिक्री से रोक दिया गया है. वेंकट सुब्रमण्यम और प्रांशु भुटरा पर अमित भुटरा पर भरत सी जैन, कैपिटल वन पार्टनर्स, टेसोरा कैपिटल, मनीष सी जैन और अंकुश भुटरा को अंदरुनी सूचना देने का आरोप है. इससे इन लोगों ने फ्यूचर एंड ऑप्शन में डीलिंग कर तीन करोड़ रुपये की अवैध कमाई की थी. जिस डीलिंग की जांच हो रही है वे जुलाई 2020 की हैं. यह वक्त इन्फोसिस के रिजल्ट जारी किए जाने के ठीक पहले और बाद का था.

Paytm: आईपीओ के एलान के बाद एक हफ्ते में ग्रे मार्केट में 24 हजार के भाव पहुंचा शेयर, IPO सब्सक्रिप्शन को लेकर एक्सपर्ट की ये है सलाह

अवैध कमाई के प्लान को कैसे दिया अंजाम?

सेबी के आदेश में कहा गया है कि वेंकट सुब्रण्यम और प्रांशु भुटरा रिव्यू के दौरान एक दूसरे से लगातार फोन और दूसरे माध्यम से बात कर रहते रहे थे. इससे ऐसा लगने लगा था कि प्रांशु के पास शेयरों की कीमतों को प्रभावित करने वाली गोपनीय जानकारी है. प्रांशु को यह जानकारी सुब्रमण्यम से मिली होगी. इसके बाद अमित भुटरा ने टेसोरा कैपिटल की ओर से अलग-अलग ब्रोकरेज फर्म जरिये फ्यूचर एंड ऑप्शन सेगमेंट में ट्रेडिंग की. टेसोरा ने 13 जुलाई से लेकर 14 जुलाई तक इन्फोसिस के 30 हजार शेयरों में लॉन्ग पोजीशन ली . ये शेयर 796.82 रुपये प्रति शेयर के हिसाब से लिए गए. बाद में ये सारे शेयर 15 जुलाई से 16 जुलाई के बीच बेच दिए गए. जबकि इन्फोसिस के नतीजे 15 जुलाई को घोषित किए गए थे.,सेबी ने कहा कि कैपिटल वन के पार्टनर अमित भुटरा और भरत सी जैन ने गलत तरीके से कारोबार कर 2.79 करोड़ रुपये कमाए. कुल मिलाकर 3.06 रुपये कमाए, जिसे सेबी ने गैरकानूनी कमाई मान कर जब्त कर लिया है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. इनसाइडर ट्रेडिंग में इन्फोसिस कर्मचारियों पर सेबी के एक्शन का असर, गिर गए कंपनी के शेयर

Go to Top