सर्वाधिक पढ़ी गईं

रिलायंस रिटेल ने अर्बन लैडर में खरीदी 96% हिस्सेदारी, 182 करोड़ की डील; ऑनलाइन रिटेल में बढ़ेगी RIL की पकड़

RIL Online Retail Business: रिलायंस इंडस्ट्रीज ने ऑनलाइन रिटेल मार्केट में अपनी पकड़ और मजबूत कर ली है. ली है.

Updated: Nov 16, 2020 8:55 AM
reliance retail, urban ladderRIL Online Retail Business: रिलायंस इंडस्ट्रीज ने ऑनलाइन रिटेल मार्केट में अपनी पकड़ और मजबूत कर ली है.

RIL Online Retail Business: रिलायंस इंडस्ट्रीज ने ऑनलाइन रिटेल मार्केट में अपनी पकड़ और मजबूत कर ली है. रिलायंस रिटेल वेंचर्स लिमिटेड (आरआरवीएल) ने अर्बन लैडर होम डेकोर सॉल्यूशंस प्राइवेट लिमिटेड (अर्बन लैडर) में 96 फीसदी हिस्सेदारी खरीद ली है. इसके लिए कुल 182.12 करोड़ रुपये की डील हुई है. रिलायंस रिटेल वेंचर्स, रिलायंस इंडस्ट्रीज की सब्सिडियरी है. यह डील कैश में हुई है. इस डील से रिलायंस को ऑनलाइन रिटेल मार्केट में विस्तार करने का मौका मिलेगा.

बाकी हिस्सेदारी खरीदने का भी विकल्प

इस डील के मुताबिक, आरआरवीएल के पास अर्बन लैडर में बाकी हिस्सेदारी खरीदने का विकल्प है. अगर वह बाकी हिस्सेदारी खरीदती है तो कंपनी में उसकी हिस्सेदारी 100 फीसदी हो जाएगी. उसने अर्बन लैडर में और 75 करोड़ रुपये निवेश करने का प्रस्ताव दिया है. यह निवेश दिसंबर 2023 तक पूरा होने की उम्मीद है. अर्बन लैडर के अधिग्रहण से डिजिटल प्लेटफॉर्म पर रिलायंस रिटेल की मौजूदगी बढ़ेगी. इसके उत्पादों का दायरा भी बढ़ेगा.

अर्बन लैडर के बारे में

अर्बन लैडर 8 साल से ज्यादा पुरानी कंपनी है. इसकी शुरुआत 17 फरवरी, 2012 को हुई थी. अर्बन लैडर फर्नीचर और डेकोर प्रोडक्ट्स के लिए डिजिटल प्लेटफॉर्म ऑपरेट करती है. देश के कई शहरों में इसकी रिटेल स्टोर चेन भी है. वित्त वर्ष 2018-19 में इसका ऑडिटेड टर्नओवर 434 करोड़ रुपये था.

अर्बन लैडर का वित्त वर्ष 2019, वित्त वर्ष 2018 और वित्त 2017 में 434.00 करोड़, 151.22 करोड़ और 50.61 करोड़ रुपये का ऑडिटेड टर्नओवर रहा. फाइलिंग के मुताबिक, कंपनी ने वित्त वर्ष 2019 में 49.41 करोड़ का मुनाफा, वित्त वर्ष 2018 में 118.66 करोड़ और वित्त वर्ष 2017 में 457.97 करोड़ का मुनाफा कमाया था.

डिजिटल किंग बनने की ओर रिलायंस

फ्लिपकार्ट और अमेजॉन के दबदबे वाले ग्रॉसरीज, अपैरल और इलेक्ट्रॉनिक के ऑनलाइन डिलवरी के कारोबार में रिलायंस इंडस्ट्रीज ने भी इस अधिगृहण के जरिए अपने विस्तार की ओर एक बड़ा कदम बढ़ाया है. रिलायंस इंडस्ट्रीज पिछले कुछ समय से डिजिटल प्लेटफॉर्म पर अपनी मौजूदगी बढ़ाने की कोशिश कर रही है. अर्बन लैडर की डील के लिए किसी तरह के रेगुलेटरी एप्रूवल या सरकारी मंजूरी की जरूरत नहीं पड़ेगी.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. रिलायंस रिटेल ने अर्बन लैडर में खरीदी 96% हिस्सेदारी, 182 करोड़ की डील; ऑनलाइन रिटेल में बढ़ेगी RIL की पकड़

Go to Top