सर्वाधिक पढ़ी गईं

कोरोना की दूसरी लहर के चलते खुदरा बिक्री में बड़ी गिरावट, दो साल पहले के मुकाबले मई में 79% घटी रिटेल सेल्स

रिटेलर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (RAI) द्वारा किए गए सर्वेक्षण के मुताबिक मई 2021 में खुदरा बिक्री कोरोना से पहले के समय में मई 2019 के मुकाबले 79 फीसदी गिर गया.

June 15, 2021 1:45 PM
Retail sales decline 79 percent in May over pre-COVID levels in 2019 says Reportकोरोना महामारी की दूसरी लहर के चलते देश के कई हिस्सों में लगाए गए लॉकडाउन/रिस्ट्रिक्शंस के चलते खुदरा बिक्री पर असर पड़ा है.

कोरोना महामारी की दूसरी लहर के चलते देश के कई हिस्सों में लगाए गए लॉकडाउन/रिस्ट्रिक्शंस के चलते खुदरा बिक्री पर असर पड़ा है. रिटेलर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (RAI) द्वारा किए गए सर्वेक्षण के मुताबिक मई 2021 में खुदरा बिक्री कोरोना से पहले के समय में मई 2019 के मुकाबले 79 फीसदी गिर गया. बिक्री में सबसे अधिक गिरावट पश्चिमी व उत्तरी भारत में रही जहां पिछले महीने मई 2021 में दो साल पहले की समान अवधि की तुलना में खुदरा बिक्री में 83 फीसदी की गिरावट आई. ईस्टर्न रीजन में 75 फीसदी और दक्षिण भारत में 73 फीसदी खुदरा बिक्री कम हुई. आरएआई सर्वे के मुताबिक मई में अप्रैल 2021 की तुलना में बिक्री में अधिक गिरावट रही. अप्रैल 2021 में दो साल पहले अप्रैल 2019 की तुलना में 49 फीसदी की गिरावट आई थी.

ULIP vs ELSS: यूलिप और ईएलएसएस में कौन है बेहतर! निवेश से पहले इन बातों का रखें ख्याल

मई 2021 में सबसे कम गिरावट फूड एंड ग्रॉसरी में

कोरोना महामारी की दूसरी लहर के चलते रिस्ट्रिक्शंस के चलते मई 2021 में ब्यूटी, वेलनेस और पर्सनल केयर की बिक्री में सबसे अधिक गिरावट आई. इनकी बिक्री मई 2019 की तुलना में 87 फीसदी तक कम हो गई. इसके बाद सबसे अधिक गिरावट फुटवियर में रही जिसकी बिक्री 86 फीसदी कम हो गई. मई 2021 में दो साल पहले की तुलना में सबसे कम गिरावट फूड एंड ग्रॉसरी में रही और इसकी बिक्री महज 34 फीसदी कम हुई. हालांकि क्विक सर्विस रेस्टोरेंट्स की बिक्री में 70 फीसदी की गिरावट आई.

इस महीने स्थिति सुधरने की उम्मीद लेकिन रहेगा वित्तीय दबाव

आरएआई के सीईओ कुमार राजागोपालन का कहना है कि रिटेलर्स इस महीने जून में स्थिति सुधरने की उम्मीद कर रहे हैं क्योंकि अब कई हिस्सों में अनलॉक की प्रक्रिया शुरू हो गई है. हालांकि राजगोपालन के मुताबिक मौजूदा चुनौतियों से निपटने के लिए रिटेल इंडस्ट्री को विभिन्न सरकारी इकाइयों के सहारे की जरूरत है. गोपालन के मुताबिक अनलॉक की प्रक्रिया धीरे-धीरे शुरू हो गई है लेकिन खुदरा कारोबार को वेतन, किराए, इलेक्ट्रिसिटी चार्जेज और अन्य टैक्सेज व लाइसेंस फीस जैसे मसलों को लेकर वित्तीय दबाव का सामना करना पड़ रहा है. आरएआई के मुताबिक इसका बोझ हल्का करने के लिए विभिन्न स्टेकहोल्डर्स के सामूहिक प्रयासों की जरूरत पड़ेगी.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. कोरोना की दूसरी लहर के चलते खुदरा बिक्री में बड़ी गिरावट, दो साल पहले के मुकाबले मई में 79% घटी रिटेल सेल्स

Go to Top