मुख्य समाचार:
  1. RBI ने ऑनलाइन फ्रॉड रोकने के लिए बनाया प्लान, विजन डॉक्यूमेंट में बताया रोडमैप

RBI ने ऑनलाइन फ्रॉड रोकने के लिए बनाया प्लान, विजन डॉक्यूमेंट में बताया रोडमैप

RBI का 'पेमेंट एंड सेटलमेंट सिस्टम्स इन इंडिया: विजन 2019-2021'

May 19, 2019 7:55 AM
reserve bank of india rbi plans to detect and prevent online frauds by data analyticsUPI और IMPS जैसे पेमेंट सिस्टम में 100 फीसदी सालाना ग्रोथ की उम्मीद है.

Online Transaction: समय से फ्रॉड का पता लगाने और एक्शन लेने के लिए रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (Reserve Bank Of India) ने डाटा एनालिटिक्स का इस्तेमाल करने की योजना बनाई है. यह बात RBI ने ‘पेमेंट एंड सेटलमेंट सिस्टम्स इन इंडिया: विजन 2019-2021’ में कही है. इस विजन डॉक्युमेंट में RBI ने कहा कि डाटा एनालिटिक्स की मदद से फ्रॉड का पता लगाया जा सकेगा और रिकवरी एक्शन लिए जा सकेंगे. जैसे ऑथराइजेशन से पहले इरेगुलर ट्रांजेक्शन को ब्लॉक करना. इससे बैंकिंग सिस्टम में विश्वास पैदा होगा.

यह प्रस्ताव भी किया पेश

RBI ने 2021 तक भारतीय इकोनॉमी को सुरक्षित, एक्सेसिबल और अफोर्डेबल ई-पेमेंट सिस्टस के जरिए कैशलेस बनाने का प्रस्ताव भी रखा. ई-पेमेंट क्षेत्र में और भी कई दिग्गजों के आने और इनोवेशन में बढ़ोत्तरी से कैश फ्री इकोनॉमी का लक्ष्य हासिल करने में मदद मिल सकती है. नया प्रस्ताव 2019 से 2021 के बीच लागू किया जाएगा.

यह भी पढ़ें..28.50 रु मंथली खर्च पर 4 लाख का इंश्योरेंस कवर, सरकार की इन 2 स्कीम का उठाएं फायदा

डिजिटल पेमेंट का ज्यादा इस्तेमाल घटाएगा कैश की कॉस्ट

जैसे-जैसे ग्राहक डिजिटल पेमेंट का ज्यादा इस्तेमाल करेंगे, कैश के इस्तेमाल पर आने वाली लागत कम हो सकेगी. केंद्रीय बैंक का कहना है वह डिजिटल पेमेंट सिस्टम में सेफ्टी और सिक्योरिटी से किसी भी प्रकार का समझौता नहीं करेगा.

दिसंबर 2021 तक 4 गुना बढ़ जाएगा डिजिटल ट्रांजेक्शन

रिजर्व बैंक के विजन डॉक्युमेंट के मुताबिक, डिजिटल ट्रांजेक्शन की संख्या दिसंबर 2018 के 2069 ट्रांजेक्शन के मुकाबले दिसंबर 2021 तक 4 गुना से ज्यादा बढ़कर 8707 करोड़ पर पहुंच जाएगी. UPI और IMPS जैसे पेमेंट सिस्टम में 100 फीसदी से ज्यादा सालाना ग्रोथ की उम्मीद है. वहीं दिसंबर 2021 तक NEFT में 40 फीसदी की ग्रोथ देखी जा सकती है.

Go to Top

FinancialExpress_1x1_Imp_Desktop