सर्वाधिक पढ़ी गईं

Renaissance IPO ETF के ज़रिए हाल ही में लिस्ट हुए अमेरिकी कंपनियों में कर सकते हैं निवेश, जानें पूरी डिटेल

कुछ म्यूचुअल फंड स्कीम्स हाल फिलहाल में लिस्ट हुए आईपीओ शेयरों में निवेश का विकल्प देती हैं. Renaissance IPO ETF के ज़रिए आप हाल ही में लिस्ट हुए अमेरिकी कंपनियों में निवेश कर सकते हैं.

November 8, 2021 7:12 PM
Renaissance IPO ETF gives access to newly listed US companies: Check detailsRenaissance IPO ETF की शुरुआत 14 अक्टूबर, 2013 को हुई थी.

Renaissance IPO ETF: आईपीओ का अलॉटमेंट मिलना काफी मुश्किल होता है. यह तब और ज्यादा मुश्किल हो जाता है जब इनिशियल पब्लिक ऑफरिंग की प्रक्रिया के दौरान इसे खरीदने के लिए निवेशकों की भारी भीड़ उमड़ती है. जो निवेशक आईपीओ खरीदने से चूक जाते हैं, वे इसे स्टॉक एक्सचेंजों में लिस्ट होने के बाद या म्यूचुअल फंड के ज़रिए खरीद सकते हैं. कई बार ज्यादातर आईपीओ को इश्यू साइज के मुकाबले कई गुना बोलियां मिलती है, ऐसे में कई लोगों को अलॉटमेंट नहीं मिल पाता. दिलचस्प बात यह है कि कुछ म्यूचुअल फंड स्कीम्स हैं जो अपने ग्राहकों को हाल फिलहाल में लिस्ट हुए आईपीओ शेयरों में निवेश का विकल्प देती हैं. यह स्कीम है – Edelweiss Recently Listed IPO Fund.

भारतीय बाजार में Edelweiss Recently Listed IPO Fund निवेशकों का पैसा उन स्टॉक में लगाती है जिनकी लिस्टिंग हाल के दिनों में हुई हो. वहीं Renaissance IPO ETF निवेशकों को अमेरिकी शेयर बाजार में हाल ही में लिस्ट हुए आईपीओ शेयरों में से कुछ के लिए एक्सपोजर देता है.

फंड फैक्ट्स

  • Renaissance IPO ETF की शुरुआत 14 अक्टूबर, 2013 को हुई थी और तब से इस फंड ने लगभग 17 प्रतिशत सीएजीआर जनरेट किया है.
  • टोटल एक्सपेंस रेश्यो (ग्रॉस): 0.60%
  • NYSE पर लिस्टेड, Renaissance आईपीओ ईटीएफ टिकर आईपीओ है.

Renaissance आईपीओ ईटीएफ एक ईटीएफ है जो Renaissance आईपीओ इंडेक्स को ट्रैक करता है. इसे सबसे बड़े, नए लिस्टेड यूएस आईपीओ के पोर्टफोलियो के लिए डिज़ाइन किया गया है. प्रत्येक तिमाही में जब ईटीएफ को रि-बैलेंस किया जाता है, नए आईपीओ शामिल किए जाते हैं और पुराने को हटा दिया जाता है.

Paytm IPO: पेटीएम के रिकॉर्ड आईपीओ में पैसे लगाए या नहीं, एक्सपर्ट की ये है राय; इश्यू से जुड़ी सभी डिटेल्स यहां देखें

टॉप होल्डिंग्स

Renaissance आईपीओ ईटीएफ के कुछ टॉप होल्डिंग्स में उबर टेक्नोलॉजीज (Uber Technologies), Snowflake, जूम वीडियो कम्युनिकेशंस (Zoom Video Communications), क्लाउडफ्लेयर (Cloudflare), Palantir Technologies, क्राउडस्ट्राइक होल्डिंग्स (CrowdStrike Holdings), कॉइनबेस ग्लोबल (Coinbase Global), डोरडैश (DoorDash) और Airbnb शामिल हैं.

इंडस्ट्री एक्सपोजर

Renaissance आईपीओ ईटीएफ का टेक्नोलॉजी सेक्टर (50.5%) में बड़ा एक्सपोजर है, वहीं अन्य अलॉटमेंट में हेल्थ केयर (21.5%), फाइनेंशियल्स (9.1%), कंज्यूमर Discretionary (8.3%), कम्युनिकेशन सर्विसेज (6.9%), उपभोक्ता Staples (1.6%) इंडस्ट्रियल्स (1.3%) और रियल एस्टेट (0.4%) शामिल हैं. मार्केट कैप के लिहाज से लार्ज कैप स्टॉक्स में एलोकेशन 88.5 फीसदी और मिड कैप स्टॉक्स में एलोकेशन 11.5 फीसदी है.

Bitcoin का मूल्य JPMorgan Chase और Visa के संयुक्त Mcap के दोगुने से ज्यादा, जानिए क्या है इसमें उछाल की वजह

ईटीएफ क्या है

एक्सचेंज ट्रेडेड फंड (ईटीएफ) म्यूचुअल फंड का एक वैरिएंट है और यह इंडेक्स के शेयरों के समान अनुपात में एक ही इंडेक्स को ट्रैक करता है. आप ट्रेडिंग के दौरान कभी भी ईटीएफ यूनिट खरीद और बेच सकते हैं और इसलिए यह म्यूचुअल फंड, विशेष रूप से इंडेक्स फंड से अलग है.

कितना होता है जोखिम

निवेशकों को Renaissance आईपीओ ईटीएफ में निवेश करने से पहले इसके जोखिमों के बारे में पता होना चाहिए. Renaissance आईपीओ ईटीएफ में ट्रेडिंग हिस्ट्री का अभाव होता है, नतीजतन इसमें काफी उतार-चढ़ाव हो सकता है. कुछ सेगमेंट इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी व फाइनेंशियल सेक्टर, स्मॉल और मिड कैपिटलाइजेशन कंपनी में आईपीओ की अधिक संख्या के कारण ईटीएफ में ज्यादा रिस्क हो सकता है.

(Article: Sunil Dhawan)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. Renaissance IPO ETF के ज़रिए हाल ही में लिस्ट हुए अमेरिकी कंपनियों में कर सकते हैं निवेश, जानें पूरी डिटेल

Go to Top