मुख्य समाचार:
  1. दोबारा मत पूछना, इसलिए लगातार बढ़ रहे हैं डीजल-पेट्रोल के दाम

दोबारा मत पूछना, इसलिए लगातार बढ़ रहे हैं डीजल-पेट्रोल के दाम

लगातार घटते बढ़ते पेटोल डीजल के बढ़ते दामों से अगर आप परेशान हैं, तो हो सकता है कि आपकी परेशानी लगातार बढ़ती ही रहे। क्योंकि इसके पीछे का कारण का रिमोट कंट्रोल भारत सरकार के हाथ में नहीं है।

January 16, 2018 11:33 AM
पेट्रोल, डीजल, पेट्रोल डीजल के दाम, कच्चा तेल, ओपेक देश, petrol deisel price, crude oil कच्चे तेल के दाम में पिछले दो साल में बड़ा इजाफा देखने को मिला है।

लगातार घटते बढ़ते पेटोल डीजल के बढ़ते दामों से अगर आप परेशान हैं, तो हो सकता है कि आपकी परेशानी लगातार बढ़ती ही रहे। क्योंकि इसके पीछे का कारण का रिमोट कंट्रोल भारत सरकार के हाथ में नहीं है। अगर आप इन बढ़ते दामों के लिए पूर्णत: भारत सरकार को जिम्मेदार मानते तो थोड़ा ठहर जाइए और जान लीजिए वो वजह जो आपके लिए एक बड़ी सिरदर्दी बन चुकी है। आपकी जेब पर लगातार अटैक कर रहे डीजल पेंट्रोल के बढ़ते दामों के पीछे का सबसे बड़ा कराण, इंटरनेशनल मार्केट में बढ़ता कच्चे तेल का दाम है।

ओपेक देश प्रोडक्शन को कर रहे नियंत्रित

डीजल पेट्रोल की कीमत दरअसल, ओपेक देशों द्वारा कच्चे तेल के उत्पादन को नियंत्रित करने के चलते बढ़ रही हैं। ओपेक देश लगातार कच्चे तेल के प्रोडक्शन को अपने बिसाब से ज्यादा और कम कर रहे हैंष लिहाजा बढ़ती डिमांड और कम सपप्लाई के चलते कच्चे तेल के दाम इंटरनेशनल मार्केट में तेजा से बढ़ रहे हैं। क्योंकि भारत तेल इम्पोर्ट करता है, लिहाजा हमें तेल खरीदना पड़ता है, सरकार महंगे दामों पर तेल खरीदने को मजबूर है, लिहाजा इसीलिए हमें तेल महंगा पड़ रहा है।

एक दिन में पेटोल-डीजल की कीमत में 9 और 15 पैसे की बढ़ोत्तरी

वर्तमान समय की अगर बात करें तो दिल्ली में पेटोल की कीमत 10 जनवरी 2018 को 70.62 पैसे है, इसी पेट्रोल की कीमत 9 जनवरी को 70.53 पैसे थई, यानी एक ही दिन में पेट्रोल की कीमत 9 पैसे बढ़ गई। वहीं डीजल के दामों की अगर बात करें तो 10 जनवरी 2018 को डीजल की कीमत 60.81 पैसे है जो 9 जनवरी को 60.66 पैसै थी।

2015 के सबसे ज्यादा हुआ कच्चे तेल का दाम

कच्चे तेल के दाम में पिछले दो साल में बड़ा इजाफा देखने को मिला है। फिलहाल कच्चे तेल की कीमत 68 डॉलर प्रति बैरल पहुंच गई है, जो 2015 के बाद सबसे ज्यादा जा पहुंची है। दरअसल सरकार ने वर्ष की शुरुआत में इसकी कीमत 55 डॉलर तक रहने का अनुमान लगाया था, मगर इसकी कीमत बढ़कर 68 डॉलर जा पहुंची है।

Go to Top