सर्वाधिक पढ़ी गईं

MSME को एक और बड़ी राहत, 50 करोड़ रुपये तक बढ़ गई लोन री-स्ट्रक्चरिंग लिमिट

रिजर्व बैंक ने 5 मई को एमएसएमई को राहत देने वाले फ्रेमवर्क (Resolution Framework 2.0) का ऐलान किया था. इसके तहत पहले इस स्कीम का फायदा न उठाने वाले कारोबारियों और एमएसएमई के 25 करोड़ रुपये तक के कर्ज के लिए री-स्ट्रक्चरिंग सुविधा का ऐलान किया गया था.

June 4, 2021 5:00 PM
82 per cent survey respondents felt that the central and state governments weren't looking after their interests.

आरबीआई ने संकट के दौर से गुजर रहे एमएसएमई के लिए लोन री-स्ट्रक्चरिंग की सीमा 25 करोड़ रुपये से बढ़ा कर 50 करोड़ रुपये कर दी है. कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर में लॉकडाउन और कोरोना पाबंदियों से छोटे कारोबारों के सामने भारी मुश्किल खड़ी हो गई है. आरबीआई की ओर से जारी एक प्रेस रिलीज में कहा गया है कि रेजल्यूशन फ्रेमवर्क 2.0 के तहत ज्यादा से ज्यादा कर्जदारों को फायदा देने के लिए लोन री-स्ट्रक्चरिंग का दायरा बढ़ाने का फैसला किया गया है. लिहाजा अब 25 करोड़ की जगह 50 करोड़ रुपये तक के लोन की रीस्ट्रक्चरिंग हो सकती है.

आरबीआई ने कहा, छोटे कारोबारों की बड़ी राहत 

आरबीआई ने कहा है कि इससे एमएसएमई और गैर एमएसएमई छोटे कारोबार और बिजनेस के लिए लोन वाले इंडिविजुअल कस्टमर को राहत मिलेगी. री-स्ट्रक्चरिंग के तहत बैंक ग्राहकों की सहूलियत के लिए लोन की मौजूदा शर्तों को बदल देते हैं. इसके तरह लोन चुकाने के लिए ज्यादा वक्त दिया जाता है. साथ ही तय शर्तों के तहत ब्याज देनदारी की फ्रीक्वेंसी भी बदली जाती है . ऐसा तब किया जाता है जब कर्ज लेने वालों के डिफॉल्ट का खतरा रहता है. सरकार चाहती है कि एमएसएमई डिफॉल्ट न करें. चूंकि यह सेक्टर सबसे अधिक रोजगार देता है इसलिए भी आरबीआई इसके लिए आसानी से कर्ज मुहैया कराने और अदायगी में राहत देने को कोशिश में है.

छुट्टी के चलते अब नहीं रुकेगी सैलरी और पेंशन, 1 अगस्त से हर दिन काम करेगा NACH

पहले 25 करोड़ रुपये तक के कर्ज री-स्ट्रक्चरिंग का हुआ था ऐलान

रिजर्व बैंक ने 5 मई को एमएसएमई को राहत देने वाले फ्रेमवर्क (Resolution Framework 2.0) का ऐलान किया था. कोविड की दूसरी लहर ने छोटे कारोबारों को बुरी तरह प्रभावित किया है. लिहाजा आरबीआई ने इन्हें दोबारा पटरी पर लाने के लिए लोन री-स्ट्रक्चरिंग के दायरे को बढ़ाने का फैसला किया. इसके तहत पहले इस स्कीम का फायदा न उठाने वाले कारोबारियों और एमएसएमई के 25 करोड़ रुपये तक के कर्ज के लिए री-स्ट्रक्चरिंग सुविधा का ऐलान किया गया था. अब इसे बढ़ा कर 50 करोड़ रुपये करा दिया गया है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. MSME को एक और बड़ी राहत, 50 करोड़ रुपये तक बढ़ गई लोन री-स्ट्रक्चरिंग लिमिट

Go to Top