मुख्य समाचार:

Q2FY20: अर्निंग सीजन से बाजार को मिलेगा बूस्ट! ये शेयर कर सकते हैं आउटपरफॉर्म

अब बाजार और निवेशकों दोनों की नजर सितंबर तिमाही के लिए कंपनियों की अर्निंग पर टिकी है.

October 10, 2019 7:19 AM
corporate earning, earning season, सितंबर तिमाही के लिए कंपनियों की अर्निंग, september quarter earning, stock tips, invest in stocks, stock market, mifty companies, sensexअब बाजार और निवेशकों दोनों की नजर सितंबर तिमाही के लिए कंपनियों की अर्निंग पर टिकी है.

सितंबर तिमाही में अर्थव्यवस्था को तेजी देने के लिए कई बड़े एलान हुए लेकिन पूरी तिमाही में सेंसेक्स और निफ्टी की ग्रोथ निगेटिव रही है. डिमांड की स्थिति अभी भी कमजोर बनी हुई है, वहीं टैक्स कट करने से सरकार के बही खाते पर दबाव की आशंका है. साथ ही कमजोर ग्रोथ के अनुमान से निवेशकों का सेंटीमेंट अभी कमजोर है. फिलहाल अब बाजार और निवेशकों दोनों की नजर सितंबर तिमाही के लिए कंपनियों की अर्निंग पर टिकी है. क्या कॉरपोरेट अर्निंग से बाजार के सेंटीमेंट को सहारा मिलेगा. किस सेक्टर में ग्रोथ दिख सकती है तो किस सेक्टर में दबाव. जानते हैं इस पर ब्रोकरेज हाउस की राय…..

बैंकिंग सेक्टर का सुधरेगा मुनाफा

ब्रोकरेज हाउस रिलायंस सिक्युरिटीज के अनुसार सितंबर तिमाही का अंत कमजोर आपरेटिंग ट्रेंड पर हुआ है, वहीं तकरीबन हर सेक्टर की रेवेन्यू ग्रोथ सुस्त बनी हुई है. दूसरी तिमाही की बात करें तो बैंकिंग सेक्टर अर्निंग सीजन को ड्राइव कर सकता है. बैंकिंग और फाइनेंशियल सेक्टर को लेस बेस का फायदा होता दिख रहा है. वहीं फार्मा सेक्टर, बिल्डिंग मटेरियल कंपनियों और कंज्यूमर सेक्टर की कमाई में सुधार की उम्मीद है.

जबकि आटो और इंफ्रास्ट्रक्चर सेक्टर का मुनाफा कमजोर रहेगा. ओवरआल सालाना आधार पर कंपनियों की अर्निंग में 11 फीसदी का इजाफा दिख रहा है. आईटी कंपनियों का रेवेन्यू इंप्रूव होने की उम्मीद है.

आटो और मेटल पर दबाव की आशंका

ब्रोकरेज हाउस मोतीलाल ओसवाल के अनुसार आटो और मेटल सेक्टर का प्रदर्शन दूसरी तिमाही में बेहद कमजोर रहने की आशंका है. जबकि प्राइवेट बैंक सेक्टर, कंज्यूमर और सीमेंट सेक्टर बाजार को राहत दे सकते हैं. ओवर आल प्रॉफिट बिफोर टैक्स (PBT) में 2 फीसदी सालाना आधार पर ग्रोथ दिख सकती है. लेकिन PAT पर दबाव दिख सकता है.

हालांकि यह देखना महत्वपूर्ण होगा कि कंपनियो का ओवरआल PBT क्या रहता है. क्योंकि कॉरपोरेट टैक्स कट के बाद इस तिमाही में टैक्स रेट में कई एडजस्टमेंट देखने को मिलेगा. फिलहाल सरकार द्वारा कई एलान के बाद भी दूसरी तिमाही में बाजार का प्रदर्शन कमजोर रहा है. वी​क डिमांड, बैंकों के साथ एसेट क्वालिटी की समस्या और कमोडिटी की कीमतों में लगातार गिरावट जैसी दिक्कतें सितंबर तिमाही का मुनाफा बिगाड़ सकते हैं.

किन शेयरों पर रखें नजर

रिलांयस सिक्युरिटीज के अनुसार अर्निंग सीजन के बाद बेंकिंग सेक्टर से ICICI बैंक, HDFC बैंक, DCB बैंक और फेडरल बैंक, आइ्रटी सेक्टर से HCL, TCS, हेक्सावेयर और सोनाटा, कंज्यूमर सेक्टर में HUL और ITC, सीमेंट सेक्टर से अल्ट्राटेक सीमेंट और जेके सीमेंट, फार्मा सेक्टर से अलकेम लैब और टोरंट फार्मा के अलावा महानगर गैस और पेट्रोनेट एलएनजी में तेजी देखने को मिल सकती है.

मोतीलाल ओसवाल के मुताबिक लॉर्जकैप में ICICI बैंक, SBI, HDFC, भारती एयरटेल, L&T, इंफोसिस, मारुति, HUL, टाइटन और NTPC में तेजी दिख सकती है. वहीं, मिडकैप में इंडियन होटल्स, फेडरल बैंक, MMFS, अशोक लेलैंड, ABFRL, जेके सीमेंट, ओबेरॉय रियल्टी, कोलगेट और अलकेम लैब्स में तेजी आ सकती है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. Q2FY20: अर्निंग सीजन से बाजार को मिलेगा बूस्ट! ये शेयर कर सकते हैं आउटपरफॉर्म

Go to Top