सर्वाधिक पढ़ी गईं

मोदी सरकार में PSU सेक्टर के कितने अच्छे दिन? 5 साल में कहां हुई कमाई, कहां डूबे पैसे

मोदी सरकार में PSU सेक्टर का कैसा रहा प्रदर्शन

May 17, 2019 8:03 AM
PSU Sector, पीएसयू सेक्टर, PSU Stocks, Modi Government, Stock Market, Reform, Invest In Stocks, मोदी सरकार, Top Gainers, Top Losersमोदी सरकार में पीएसयू सेक्टर का कैसा रहा प्रदर्शन

PSU Sector: 23 मई को आम चुनाव के नतीजों के साथ लगभग यह तय हो जाएगा कि अगले फेज के लिए देश में किसकी सरकार बनेगी. यानी मोदी सरकार की पहली पारी खत्म होने जा रही है. अगर 26 मई 2014 से 13 मई 2019 के बीच की बात करें तो इस दौरान S&P BSE सेंसेक्स में करीब 50 फीसदी की तेजी आई है, लेकिन दूसरी ओर BSE PSU इंडेक्स में करीब 13 फीसदी गिरावट आई है. हालांकि इस दौरान इंडेक्स के कुछ शेयरों में 300 फीसदी से ज्यादा तेजी आई तो कुछ में करीब 80 से 90 फीसदी तक गिरावट दर्ज हुई.

5 साल में PSU इंडेक्स के टॉप गेनर्स

स्टॉक                              तेजी

ITI लिमिटेड                    374%
NBCC (इंडिया)               220%
HPCL                             213%
चेन्नई पेट्रोलियम            169%
भारत इलेक्ट्रॉनिक्स        118%

इसके अलावा BPCL में 107 फीसदी, इंडियन बैंक में 85 फीसी, बीईएमएल में 82 फीसदी, IOC में 82 फीसदी और पावरग्रिड में 61 फीसदी तेजी रही है.

5 साल में PSU इंडेक्स के टॉप लूजर्स

स्टॉक                                गिरावट

यूको बैंक                              80%
आईओबी                             79%
जम्मू एंड कश्मीर बैंक          72%
सिंडिकेट बैंक                       69%
बैंक आफ इंडिया                  67%

इसके अलावा IFCI में 66 फीसदी, ओरिएंटल बैंक में 65 फीसदी, आंध्रा बैंक में 63 फीसदी, भेल में 56 फीसदी और पीएनबी में 48 फीसदी गिरावट रही है.

क्या कहते हैं एक्सपर्ट?

फॉर्च्यून फिस्कल के डायरेक्टर जगदीश ठक्कर का कहना है कि पिछले 5 साल की बात करें तो पीएसयू सेक्टर का प्रदर्शन म्यूटेड ही कहा जाएगा. उनका कहना है कि पिछले दिनों खासतौर से बैंक और आयल कंपनियों पर दबाव रहा है, जिससे इंडेक्स कमजोर हुआ. वहीं, हालिया मार्केट की गिरावट में भी इंडेक्स पर दबाव बढ़ा है. नई सरकार बनने तक सेक्टर में दबाव रहेगा.

हालांकि उनका कहना है कि सरकार की अप्रोच की बात करें तो वह ठीक रही है. सरकार ने इस सोच के साथ काम किया है कि गवर्नेंस करना उनका काम है, जबकि बिजनेस मैनेजमेंट का. इसी वजह से पिछले दिनों टॉप मैनेजमेंट में बलाव किया गया. सरकार द्वारा पीएसयू बैंकों की रीकैपिटलाइजेशन प्लान को मंजूरी दी गई. ऑपरेशनल परफॉर्मेंस में सुधार के लिए उपाय किए जा रहे हैं. कई सिक कंपनियों को बंद किया गया है.

क्या करें निवेशक?

ठक्कर का कहना है कि मौजूदा समय में देखें तो निश्चित रूप से सरकारी बैंकों में सुधार देखा जा रहा है. एनपीए की रिकवरी तेज हुई है. कई मामले मामले एनसीएलटी तक पहुंचे हैं, जिससे उम्मीद बढ़ी है. सरकार ने भी बैंकों में पैसा डाला है. ऐसे में बैंकों की बैलेंसशीट सुधरती दिख रही है. कई अच्छे शेयरों का वैल्यूएशन अच्छा है, निवेशक लंबी अवधि के लिए एक्सपर्ट से सलाह लेकर निवेश कर सकते हैं. इसके अलावा आयल एंड गैस कंपनियों में भी रिकवरी शुरू हुई है.

 

(डिस्क्लेमर: फाइनेंशियल एक्सप्रेस किसी भी स्टॉक में निवेश की सलाह नहीं देता है. निवेश से पहले अपने सलाहकार से अवश्य परामर्श करें.)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. मोदी सरकार में PSU सेक्टर के कितने अच्छे दिन? 5 साल में कहां हुई कमाई, कहां डूबे पैसे

Go to Top