मुख्य समाचार:

दिल्ली-एनसीआर में प्रॉपर्टी की कीमतें बढ़ेंगी

75 प्रतिशत बिल्डर्स को 2018-19 में प्रॉपर्टी की कीमतें बढ़ने की उम्मीद है, जिससे दिल्ली-एनसीआर के रियल इस्टेट बाजार में पुन: वृद्धि होने के संकेत मिलते हैं.

Published: April 10, 2018 4:21 PM
real estate market, delhi real estate, olx report, olx latest report, delhi real estate market, real estate latest news in hindi, business news in hindi75 प्रतिशत बिल्डर्स को 2018-19 में प्रॉपर्टी की कीमतें बढ़ने की उम्मीद है, जिससे दिल्ली-एनसीआर के रियल इस्टेट बाजार में पुन: वृद्धि होने के संकेत मिलते हैं.

रियल ईस्टेट, ऑटोमोबाईल, गुड्स एवं सर्विसेस के लिए भारत के सबसे बड़े क्लासिफाईड मार्केटप्लेस-ओएलएक्स ने अपने दिल्ली-एनसीआर रियल्टी सर्वे के परिणाम जारी किए. ओएलएक्स ने 2018-19 में बिल्डर्स और प्रॉपर्टी कंसल्टैंट्स की बाजार से अपेक्षाओं को समझने के लिए एक सर्वे किया. सर्वे में दिल्ली-एनसीआर में प्रॉपर्टी कंसल्टैंट्स पर ऑनलाईन प्लेटफॉर्म्स और इसके प्रभाव का आंकलन भी किया गया. सर्वे के परिणाम दिल्ली, गुरुग्राम, फरीदाबाद और गाजियाबाद के इलाकों में 200 हाउसिंग बिल्डर्स और कंसल्टैंट्स से मिली प्रतिक्रिया पर आधारित हैं.

प्रॉपर्टी कंसल्टैंट्स के पसंदीदा ऑनलाईन प्लेटफॉर्म्स ऑनलाईन प्रॉपर्टी पोर्टल दिल्ली एनसीआर में प्रॉपर्टी कंसल्टैंट्स के बीच लोकप्रिय हो रहे हैं. आधे कंसल्टैंट ऑनलाईन माध्यम इसलिए पसंद करते हैं क्योंकि इससे उन्हें काफी संख्या में लीड मिलती हैं, जबकि 39 प्रतिशत लीड्स/इंक्वायरी की मात्रा के लिए ऑनलाईन माध्यम पसंद करते हैं तथा 11 प्रतिशत ऑनलाईन माध्यम इसलिए पसंद करते हैं क्योंकि ये ऑफलाईन माध्यमों के मुकाबले ज्यादा किफायती होते हैं. लगभग एक तिहाई प्रॉपर्टी कंसल्टैंट्स को 50 प्रतिशत से अधिक खरीददार ऑनलाईन स्रोतों से मिले.

अध्ययन के अनुसार, 75 प्रतिशत बिल्डर्स को 2018-19 में प्रॉपर्टी की कीमतें बढ़ने की उम्मीद है, जिससे दिल्ली-एनसीआर के रियल इस्टेट बाजार में पुन: वृद्धि होने के संकेत मिलते हैं. बिल्डर्स को उम्मीद है कि नियमों के विकास से सिस्टम में पारदर्शिता बढ़ेगी, जिससे खरीददारों और विक्रेताओं का विश्वास पुन: स्थापित होगा.

ज्यादातर बिल्डर्स अगले 12 से 18 महीनों में विभिन्न प्रोजेक्ट लॉन्च करेंगे. सर्वे में सामने आया है कि 55 प्रतिशत अपने पोर्टफोलियो में किफायती हाउसिंग के प्रोजेक्टों (40 लाख से कम) की योजना बना रहे हैं. मिड सेगमेंट (40 लाख रु. से 1 करोड़ रु.) के प्रोजेक्टों अभी भी आकर्षण में बने रहेंगे और 65 प्रतिशत बिल्डर्स इस श्रृंखला की ओर केंद्रित होंगे, जबकि 15 प्रतिशत डेवलपर्स ने बताया कि वो अपने पोर्टफोलियो में लक्जरी प्रोजेक्ट (1 करोड़ रु. से ज्यादा) रखेंगे. मांग में भी वृद्धि दिखाई दे रही है: ऑनलाईन रियल इस्टेट पोर्टलों द्वारा प्रॉपर्टी कंसल्टैंट्स से मिली इंक्वायरी में से एक तिहाई किफायती हाउसिंग के लिए थीं.

सर्वे के अनुसार 80 प्रतिशत प्रॉपर्टी कंसल्टैंट्स ने बताया कि रेडी टू मूव हाउसेस की मांग अगले 12 से 18 महीनों में बढ़ेगी. यह रेरा और जीएसटी लागू होने के बाद इस सेक्टर में उपजी अनिश्चितता के कारण है, जिससे प्रोजेक्टों के पूर्ण होने का समय प्रभावित हुआ. रियल इस्टेट ओएलएक्स पर सबसे तेजी से विकसित होती श्रेणियों में से एक है. इस प्लेटफॉर्म्स पर हर पांच में से एक यूजर रियल इस्टेट सेक्शन में विजिट करता है, जिससे प्रॉपर्टी ऑनलाईन खरीदने, बेचने और रेंटिंग में ग्राहकों की बढ़ती रुचि प्रदर्शित होती है. हर माह ओएलएक्स पर रियल इस्टेट श्रेणी में 1.2 बिलियन से अधिक पेज व्यू होते हैं. आज तक रियल इस्टेट सेक्शन में 350,000 लाईव लिस्टिंग हैं, जिसके तहत 50 प्रतिशत किफायती प्रोजेक्ट (40 लाख से कम) हैं, 35 प्रतिशत मिड सेगमेंट (40 लाख से 1 करोड़) में हैं तथा 15 प्रतिशत प्रीमियम प्रॉपर्टीज हैं, जिनकी कीमत 1 करोड़ रु. से अधिक है.

ओएलएक्स इंडिया के सीओओ इरविन प्रीत सिंह आनंद ने कहा, “साल 2018 रियल इस्टेट के लिए वापसी का साल है. हमें प्रॉपर्टी खरीदने वालों की काफी ज्यादा प्रतिभागिता देखने को मिल रही है. ओएलएक्स पर हमने पिछली तिमाही में प्रॉपर्टी खरीदने वालों में 65 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की है. रेडी-टू-मूव और किफायती हाउसेस की मांग दिल्ली एनसीआर में बढ़ रही है. बाजार में सकारात्मकता के चलते ज्यादा से ज्यादा लोग एवं बिजनेस बढ़ती मांग का फायदा उठाने के लिए हमारे प्लेटफॉर्म्स पर आ रहे हैं.”

ओएलएक्स पर एक ग्राहक हर विजिट में औसतन 10 मिनट खर्च करता है, जो रियल इस्टेट की किसी कंपनी के मुकाबले दोगुना है (स्रोत: सिमिलरवेब). कोई प्रॉपर्टी जब भी ओएलएक्स पर सूचीबद्ध होती है, इसे संबंधित खरीददारों से औसतन 12 इंक्वायरी मिलती हैं. मार्च 2018 की तिमाही समाप्त होने तक ओएलएक्स ने प्लेटफॉर्म्स पर रजिस्टर्ड प्रॉपर्टी तलाशने वालों में 65 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की, जो दिसंबर, 2017 में 30 लाख से बढ़कर मार्च, 2018 में 50 लाख हो गई. इस प्लेटफॉर्म्स पर 100 से अधिक शहरों में 15,000 से अधिक प्रॉपर्टी कंसल्टैंट्स हैं.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. दिल्ली-एनसीआर में प्रॉपर्टी की कीमतें बढ़ेंगी

Go to Top