मुख्य समाचार:

प्राइवेट बैंक शेयरों में अभी दो तिमाही तक रहेगा दबाव, जल्दबाजी में बड़ा दांव न खेलें निवेशक

प्राइवेट बैंकिंग सेक्टर में निवेश करें या अभी इंतजार

July 31, 2019 6:57 AM
Private Banking Sector, Bank Stocks, प्राइवेट बैंकिंग सेक्टर में निवेश करें या अभी इंतजार, invest in bank stocks, stock market, earning season, Q1 earning of private banking sectorप्राइवेट बैंकिंग सेक्टर में निवेश करें या अभी इंतजार

Private Banking Sector Outlook: जून तिमाही में ज्यादातर प्राइवेट बैंकों ने अपने नतीजे जारी कर दिए हैं. प्राइवेट बैंकिंग सेक्टर के लिहाज से इस तिमाही के नतीजे मिलेजुले रहे हैं. कुछ प्राइवेट बैंकों की नेट इंटरेस्ट इनकम में बढ़त रही है और एसेट क्वालिटी सुधरी है. वहीं, कुछ बैंकों में एनपीए का मसला बना हुआ है. फिलहाल, एक्सपर्ट यह मान रहे हैं कि प्राइवेट बैंक सेक्टर की असल तस्वीर आने में अभी समय लग सकता है. इकोनॉमी जब तक पूरी तरह से पटरी पर नहीं आती, पूरे बैंकिंग सेक्टर पर दबाव बना रहेगा.

अभी जल्दबाजी करना ठीक नहीं

कैपिटल सिंडिकेट के मैनेजिंग पार्टनर पशुपति सुब्रमण्यम का कहना है कि जून तिमाही में कुछ बड़े निजी बैंकों ने बेहतर प्रदर्शन किया है. आईसीआईसीआई बैंक, एक्सिस बैंक और इंडसइंड बैंक व साउथ इंडियन बैंक के नतीजों से पॉजिटिव संकेत मिल रहे हैं. इसके बाद भी अभी कम से कम दो तिमाही इस सेक्टर में रिवाइवल की उम्मीद कम है.

उनका कहना है कि देश की इकोनॉमी जब तक पटरी पर नहीं आती, प्राइवेट बैंकिंग सेक्टर हो या पीएसयू बैंकिंग सेक्टर, इनमें अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद कम है. सेक्टर में दबाव बढ़ता जा रहा है. सरकार को जल्द से जल्द इस मामले में पॉलिसी लेवल पर बड़ा कदम उठाना चाहिए.

पशुपति का कहना है कि निवेशकों को सलाह है कि अभी जल्दबाजी में ज्यादा बड़ा दांव न खेलें, बल्कि रिवाइवल का इंतजार करें. बेहतर है कि इकोनॉमी पर पटरी पर आने का इंतजार करें, जिसके बाद यह सेक्टर आउटपरफॉर्म करने की क्षमता रखता है.

FY20 की दूसरी क्षमाही में दिख सकती है तेजी

कैपिटल एम के रिसर्च हेड रोमेश तिवारी का कहना है कि जून तिमाही के नतीजे प्राइवेट सेक्टर के लिहाज से मिलेजुले रहे हैं. कुछ बैंकों में IL&FS, ADAG, DHFL, रियल एस्टेट सेक्टर, NBFC सेक्टर और Jet एयरवेज जैसी कंपनियों में एक्सपोजर के चलते दबाव बना हुआ है. उनका एनपीए बढ़ा है और लोन ग्रोथ, प्रोविजनिंग भी मसला बने हुए हैं. हालांकि दूसरी ओर आईसीआईसीआई बैंक सहित कुछ बैंकों का प्रदर्शन बेहतर रहा है. एनआईआई में ग्रोथ रही है, दूसरी ओर एनपीए कम करने या स्थिर रखने में सफल रहे हैं.

उनका कहना है कि प्राइवेट बैंकिंग सेक्टर बॉटमिंग आउट के नजदीक है और इसमें फाइनेंशियल ईयर की दूसरी छमाही मेें उछाल देखने को मिल सकता है. हालांकि यह सही है कि सेक्टर का प्रदर्शन डोमेस्टिक इकोनॉमी के रिकवरी पर डिपेंड होगी. ICICI बैंक, HDFC बैंक और इंडसइंड बैंक निवेश के लिए बेहतर दिख रहे हैं. हाई रिस्क इन्वेस्टर्स लंबी अवधि के लिए यस बैंक में 140 रुपये का लक्ष्य लेकर चल सकते हैं.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. प्राइवेट बैंक शेयरों में अभी दो तिमाही तक रहेगा दबाव, जल्दबाजी में बड़ा दांव न खेलें निवेशक

Go to Top