मुख्य समाचार:

Flipkart के खिलाफ SC जाने की तैयारी में ऑनलाइन सेलर्स, कुछ खास सेलर्स को तरजीह देने का आरोप

कुछ तथ्यों पर सीसीआई ने गौर नहीं किया था जिसे एनसीएलटी के सामने लाया जाएगा. इसके बाद भी अगर फ्लिपकार्ट और अमेजन के पक्ष में फैसला आता है तो सुप्रीम कोर्ट में एलएलपी दाखिल की जाएगी.

January 15, 2019 4:41 PM
AIOVA, Flipkart, Amazon, Appeal against Flipkart in Supreme Court, CCI, NCLT, Unfair Practice by Flipkart, Online Sellers against Flipkartसीसीआई के मुताबिक फ्लिपकार्ट और अमेजन ने सेलर्स और ब्रांड्स चुनने में किसी भी नियम का उल्लंघन नहीं किया है.

ऑनलाइन विक्रेताओं का संगठन ऑल इंडिया वेंडर्स एसोसिएशन (AIOVA) फ्लिपकार्ट के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में स्पेशल लीव पिटीशन (SLP) फाइल करने की योजना बना रहा है. एसोसिएशन के वकील चाणक्य बासा का कहना है कि अगर फ्लिपकार्ट और अमेजन के खिलाफ नेशनल कंपनी लॉ अपीलेट ट्रिब्यूनल (NCLT) में उनकी याचिका पर फेवर रूलिंग नहीं होती है तो वह इस मामले को सुप्रीम कोर्ट में लेकर जाएंगे. इस याचिका में एसोसिएशन ने फ्लिपकार्ट और अमेजन को कुछ खास सेलर्स के सामान की बिक्री को मंजूरी दिए जाने के खिलाफ अपील की है. यह मंजूरी भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग (CCI) ने दी है. एसोसिएशन एआईओवीए देश भर के करीब 3500 ऑनलाइन सेलर्स का प्रतिनिधित्व करता है.

सीसीआई ने सभी तथ्यों पर गौर नहीं किया-चाणक्य
चाणक्य ने बताया कि कुछ तथ्यों पर सीसीआई ने गौर नहीं किया था जिसे एनसीएलटी के सामने लाया जाएगा. इसके बाद भी अगर फ्लिपकार्ट और अमेजन के पक्ष में फैसला आता है तो सुप्रीम कोर्ट में एलएलपी दाखिल की जाएगी. हालांकि चाणक्य के मुताबिक सुप्रीम कोर्ट में जाने के बाद फैसला आने में लंबा वक्त लग जाएगा. सीसीआई ने अपने फैसले में कहा था कि फ्लिपकार्ट और अमेजन ने सेलर्स और ब्रांड्स चुनने में किसी भी नियम का उल्लंघन नहीं किया है.
(यह स्टोरी संदीप सोनी ने की है.)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. Flipkart के खिलाफ SC जाने की तैयारी में ऑनलाइन सेलर्स, कुछ खास सेलर्स को तरजीह देने का आरोप

Go to Top