मुख्य समाचार:

कोरोना ने किया बेदम! CAIT ने कहा- वर्कर्स को अब सरकार दे वेतन, कारोबारी देंगे 25% योगदान

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण को भेजे एक पत्र में CAIT ने व्यापारियों द्वारा कर्मचारियों को अप्रैल के वेतन का भुगतान करने में असमर्थता जताई है.

May 6, 2020 7:34 PM
now it is extremely difficult for the traders to pay salary for April month to their employees, Government may contribute 50 pc of the salary or allow traders to pay them 30 pc salaryव्यापारिक समुदाय के लिए आर्थिक पैकेज का आग्रह.

केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण को भेजे एक पत्र में कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (CAIT) ने व्यापारियों द्वारा अपने कर्मचारियों को अप्रैल के वेतन का भुगतान करने में असमर्थता जताई है. कैट ने इस दिशा में सरकार से मदद की गुहार लगाई है. व्यापारिक समुदाय के लिए आर्थिक पैकेज का आग्रह करते हुए कैट ने रिटेल व्यापार द्वारा सामना किए जा रहे कुछ मुख्य मुद्दों की ओर वित्त मंत्री का ध्यान आकर्षित किया है.

कैट के राष्ट्रीय अध्यक्ष बीसी भरतिया एवं राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल ने लेटर में कहा है कि केंद्र सरकार की सलाह के अनुसार, देशभर के व्यापारियों ने मार्च 2020 की अवधि के लिए अपने कर्मचारियों को पूर्ण वेतन का भुगतान करके अपनी जिम्मेदारियों का निर्वहन किया है जबकि व्यापारी बेहद अधिक आर्थिक तंगी में थे. लेकिन अब अप्रैल महीने के वेतन का भुगतान करना देश भर के व्यापारियों के लिए बेहद मुश्किल है. यदि व्यापारियों ने अप्रैल के महीने का अपने कर्मचारियों को वेतन दिया तो उनके व्यापार को तीव्र वित्तीय संकट झेलना पड़ेगा.

50% योगदान सरकार दे

इस संदर्भ में कैट ने वित्त मंत्री से आग्रह किया है कि सरकार के पूरा वेतन देने के पूर्व के निर्णय पर पुनर्विचार करे. बेहतर होगा अगर सरकार व्यापारियों को अपने कर्मचारियों के साथ वेतन के आपसी समझौते के अनुसार वेतन का भुगतान करने या व्यापारियों को 30% वेतन का भुगतान करने की अनुमति दे जो कर्मचारी की आजीविका के लिए पर्याप्त है. या फिर वैकल्पिक रूप से सरकार कर्मचारियों के वेतन के भुगतान में 50% योगदान करे, व्यापारी 25% योगदान दें और बाकी 25% कर्मचारियों द्वारा वहन किया जाए. वर्तमान परिदृश्य में जब कोई व्यापार ही नहीं हो रहा है और व्यापारियों पर अनेक प्रकार के कई वित्तीय दायित्व हैं तो न्याय की दृष्टि से इस गंभीर मुद्दे पर सरकार का हस्तक्षेप आवश्यक है.

संकट में मकान रहेगा सेफ एसेट, सस्ता लोन दे रहा मौका; कोरोना संकट में घर खरीदारों की बदली सोच

मुद्रा लोन के तहत राशि हो 25 लाख रु

कैट ने कहा है कि लॉकडाउन के विकट समय में व्यापार पूरी तरह से बंद है और पूंजी का प्रवाह लगातार बढ़ रहा है. ऐसे समय में देश भर के व्यापारी बेहद परेशान व निराश हैं और अपने भविष्य को लेकर बेहद चिंतित हैं. भरतिया और खंडेलवाल ने आगे सुझाव दिया कि मुद्रा योजना को संशोधित करते हुए व्यापारी बैंकों से उचित ब्याज दर पर ऋण ले ऐसा प्रावधान किया जाना चाहिए और मुद्रा योजना के तहत अधिकतम राशि 10 लाख रुपये को 25 लाख रुपये तक बढ़ाया जाना चाहिए. गैर बैंकिंग वित्त कंपनियों को मुद्रा लोन देने के लिए एक जनादेश दिया जाना चाहिए और बैंकों को इन एनबीएफसी को कम ब्याज दर पर ऋण प्रदान करने के लिए कहा जाना चाहिए.

3% ब्याज पर मिले कोरोना वित्त ऋण

व्यापारियों को लॉकडाउन खुलने के बाद बहुत बड़ी मात्रा में कार्यशील पूंजी की आवश्यकता होगी, जिसके लिए कैट ने सुझाव दिया है कि सरकार बैंकों को आदेश दे कि 3% ब्याज पर व्यापारियों को “कोरोना वित्त ऋण” एक आसान तरीके से प्रदान करें. इस ऋण की पहली किस्त जनवरी 2021 से दी जाए और 60 समान किस्तों में ऋण का भुगतान किया जाए.

एक मांग ये भी

कैट ने कहा कि भारतीय रिजर्व बैंक के तहत ट्रेड रिसीवेबल्स डिस्काउंटिंग सिस्टम के अंतर्गत 300 करोड़ रुपये से ऊपर के सालाना टर्नओवर वाली किसी भी खरीदार इकाई को दिए गए सामान के बिल का भुगतान विभिन्न एजेंसियों द्वारा डिस्काउंटिंग के रूप में किया जाता है. औसत व्यापारी इस योजना का लाभ उठाने में असमर्थ हैं क्योंकि उनके अधिकांश खरीदार उपरोक्त सीमा से बहुत कम का कारोबार करते हैं. कैट ने सुझाव दिया है कि एक वर्ष के लिए इस योजना के अंतर्गत 300 करोड़ रुपये की आवश्यकता को घटाकर 10 करोड़ रुपये तक लाया जाना चाहिए, जिससे अधिकांश व्यापारी अपने बिलों में छूट प्राप्त कर सकेंगे और उनके पास कुछ मात्रा में कार्यशील पूंजी उपलब्ध हो सकेगी.

पेट्रोल-डीजल के रास्ते 11 महीनों में सरकारी खजाने को मिलेंगे 1.6 लाख करोड़ रु एक्स्ट्रा

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. कोरोना ने किया बेदम! CAIT ने कहा- वर्कर्स को अब सरकार दे वेतन, कारोबारी देंगे 25% योगदान

Go to Top