मुख्य समाचार:
  1. Jet Airways के खिलाफ शुरू होगी दिवाला प्रक्रिया, NCLT ने SBI की याचिका को दी मंजूरी

Jet Airways के खिलाफ शुरू होगी दिवाला प्रक्रिया, NCLT ने SBI की याचिका को दी मंजूरी

याचिका SBI की अगुवाई वाले बैंकों के गठजोड़ ने दायर की थी.

June 20, 2019 9:05 PM
NCLT admits Jet for bankruptcy, sets 90 days for resolutionImage: Reuters

नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल (NCLT) ने विमानन कंपनी जेट एयरवेज (Jet Airways) के खिलाफ दिवाला प्रक्रिया शुरू करने के लिए याचिका को मंजूरी दे दी है. यह याचिका SBI की अगुवाई वाले बैंकों के गठजोड़ ने दायर की थी. बैंकों को ठप पड़ी एयरलाइन से 8,500 करोड़ रुपये की वसूली करनी है.

ट्रिब्यूनल ने ग्रांट थॉर्नटन के आशीष छौछारिया को जेट एयरवेज के लिए समाधान प्रोफेशनल भी नियुक्त किया है. जेट का परिचालन 17 अप्रैल 2019 से बंद है.

समााधान प्रक्रिया तीन माह के अंदर पूरी करने की हो कोशिश

वीपी सिंह और रविकुमार दुरईसामी की मौजूदगी वाले ट्रिब्यूनल ने ​समाधान प्रोफेशनल को निर्देश दिया है कि वह तीन माह के अंदर समाधान प्रक्रिया पूरी करने की कोशिश करे. हालांकि कानून में इसके लिए 6 माह की अवधि तय है. इसके पीछे हवाला दिया गया कि यह राष्ट्रीय महत्व का विषय है.

SBI का 967 करोड़ का बकाया

अपनी याचिका में एसबीआई ने 967 करोड़ रुपये का दावा किया है और कहा है कि उसने ​जेट एयरवेज को वर्किंग कैपिटल लोन के तौर पर 505 करोड़ रुपये और ओवरड्राफ्ट फैसिलिटी के तौर पर 462 करोड़ रुपये दिए थे. गहन विचार विमर्श के बाद कर्ज देने वालों ने फैसला किया है कि इंसॉल्वेंसी एंड बैंकरप्सी कोड (IBC) के तहत जेट एयरवेज के मामले का निपटान किया जाए. एयरलाइन के लिए सिर्फ एक बोली ही प्राप्त हुई है. उसके साथ भी शर्त जुड़ी है.

कुल 36,500 करोड़ रुपये का बकाया

जेट एयरवेज को कर्ज देने वाले बैंक पिछले पांच महीने से एयरलाइन को चलती हालत में बेचने का प्रयास कर रहे थे, लेकिन कई कारणों से वे अपने प्रयास में सफल नहीं हो पाए. बैंकों के अलावा एयरलाइन पर उसे गुड्स और सर्विसेज देने वालों का 10,000 करोड़ रुपये और कर्मचारियों के वेतन का 3,000 करोड़ रुपये का बकाया है. जेट एयरवेज के कर्मचारियों की संख्या 23,000 है. पिछले कुछ साल के दौरान जेट एयरवेज का कुल नुकसान 13,000 करोड़ रुपये पर पहुंच चुका है. इस तरह एयरलाइन पर कुल 36,500 करोड़ रुपये का बकाया है.

Go to Top

FinancialExpress_1x1_Imp_Desktop