मुख्य समाचार:
  1. अगस्त में SIP से म्यूचुअल फंड्स में आए 7,600 करोड़, 47% का रहा इजाफा

अगस्त में SIP से म्यूचुअल फंड्स में आए 7,600 करोड़, 47% का रहा इजाफा

अगस्त 2017 में इंडस्ट्री में SIP रूट से आया था 5,206 करोड़ रुपये का इन्वेस्टमेंट.

September 11, 2018 4:43 PM
Mutual funds garner Rs 7,600 cr via SIPs in August, Amfi, association of mutual Funds in India जुलाई 2018 में इस रूट से 7,554 करोड़ रुपये का फंड आया था. (PTI)

रिटेल इन्वेस्टर्स के बीच म्यूचुअल फंड की पैठ बढ़ रही है. इसमें निवेश के लिए इन्वेस्टर्स तेजी से सिस्टैमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान्स (SIP) को अपना रहे हैं. इसके चलते अगस्त में म्यूचुअल फंड इंडस्ट्री के पास SIP के जरिए 7,600 करोड़ रुपये से ज्यादा का इन्वेस्टमेंट आया. यह आंकड़ा एक साल पहले की समान अवधि में आए इन्वेस्टमेंट की तुलना में 47 फीसदी ज्यादा है. जुलाई 2018 में इस रूट से 7,554 करोड़ रुपये का फंड आया था.

अगस्त 2017 में इंडस्ट्री में SIP रूट से 5,206 करोड़ रुपये का इन्वेस्टमेंट आया. अगस्त 2016 में यह इन्वेस्टमेंट 3,496 करोड़ रुपये का था.

इस वित्त वर्ष अभी तक 36,760 करोड़ का इन्वेस्टमेंट

एसोसिएशन आॅफ म्यूचुअल फंड्स इन इंडिया (Amfi) से मिले आंकड़ों के मुताबिक, अगस्त में हुए इस इन्वेस्टमेंट के चलते म्यूचुअल फंड इंडस्ट्री में मौजूदा वित्त वर्ष में SIP से अभी तक आए फंड का आंकड़ा 36,760 करोड़ रुपये पर पहुंच गया है.पिछले दो वित्त वर्षों की बात करें तो 2017—18 में SIP रूट से म्यूचुअल फंड इंडस्ट्री में 67,000 करोड़ रुपये और 2016—17 में 43,900 करोड़ रुपये का इन्वेस्टमेंट हुआ था.

ट्रेडिशनल एसेट क्लास की बजाय फाइनेंशियल एसेट्स बने पसंद

म्यूचुअल फंड में निवेश के लिए रिटेल इन्वेस्टर्स द्वारा SIP रूट को पसंद किए जाने की वजह इसका मार्केट टाइमिंग रिस्क कम करने में मददगार होना है. इस वक्त इन्वेस्टर्स रियल एस्टेट, गोल्ड जैसे ट्रेडिशनल एसेट क्लास में रुचि न दिखाकर म्यूचुअल फंड जैसे फाइनेंशियल एसेट्स में इन्वेस्ट करने को वरीयता दे रहे हैं.

इस वक्त 2.38 करोड़ SIP अकाउंट

इस वक्त म्यूचुअल फंड में 2.38 करोड़ SIP अकाउंट हैं, जिनके जरिए इन्वेस्टर्स रेगुलरली इंडियन म्यूचुअल फंड स्कीम्स में इन्वेस्ट करते हैं. मौजूदा वित्त वर्ष में हर माह औसतन 10 लाख SIP अकाउंट खुले हैं. इनका एवरेज टिकट साइट 3,200 रुपये है.

Go to Top