मुख्य समाचार:

Jio ने 8 हफ्ते में बेची 22.38% हिस्सेदारी, 1 लाख करोड़ से अधिक निवेश जुटाया

TGP, L Catterton ने Jio Platforms में 6,441.3 करोड़ रुपये में 1.32 फीसदी हिस्सेदारी खरीदी.

Published: June 14, 2020 11:13 AM
Mukesh Ambani led RIL raises total investment of over Rs 1.04 lakh crore by selling a combined 22.28% equity stake in Jio Platformsमुकेश अंबानी ने RIL को मार्च 2021 से पहले कर्जमुक्त बनाने का लक्ष्य रखा है. अनुमान है कि इस साल दिसंबर तक कंपनी कर्जमुक्त हो जाएगी.

मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) के नेतृत्व वाली रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (RIL) की डिजिटल इकाई जियो प्लेटफॉर्म (Reliance Jio) में 6,441.3 करोड़ रुपये में 1.32 फीसदी हिस्सेदारी टीपीजी और एल कैटरटॉन को बेची है. इसके साथ ही जियो ने बीते करीब 8 हफ्ते में 10 निवेशकों के जरिए कुल 1,04,326.9 करोड़ रुपये जुटा लिए हैं. मुकेश अंबानी रिलायंस इंडस्ट्रीज को कर्ज मुक्त कंपनी बनाने और जियो को दुनिया की शीर्ष डिजिटल कंपनियों में शामिल करने की दिशा में ताबड़तोड़ डील कर रहे हैं. सबसे पहले 22 अप्रैल को फेसबुक ने जियो में 10 फीसदी की हिस्सेदारी खरीदी थी.

रिलायंस इंडस्ट्रीज ने 0.93 फीसदी हिस्सेदारी वैश्विक वैकल्पिक संपत्ति फर्म टीपीजी को 4,546.80 करोड़ रुपये और एल कैटरटॉन को 1,894.50 करोड़ रुपये में 0.39 फीसदी हिस्सेदारी बेचने का एलान किया. शनिवार को थोड़े समय के अंतराल में इन दोनों ही सौदों का एलान किया गया . वर्ष 1989 में स्थपित एल कैटरटॉन उपभोक्ता आधारित निजी इक्विटी फर्म है. दुनियाभर में वह उपभोक्ता केन्द्रित ब्रांड में निवेश करती है. वहीं, टीपीजी एक ग्लोबल अल्टरनेटिव एसेट फर्म है, जिसकी स्थापना 1992 में 79 अरब डॉलर से अधिक की परिसंपत्तियों के प्रबंधन के साथ हुई थी. जिसमें निजी इक्विटी, ग्रोथ इक्विटी, रियल एस्टेट और पब्लिक इक्विटी शामिल हैं.

बहरहाल, इस निवेश को मिलाकर रिलायंस इंडस्ट्रीज अपनी डिजिटल इकाई जियो प्लेटफार्म्स में कुल मिलाकर 22.3 फीसदी इक्विटी बेच चुकी है. इसके बाद कंपनी उम्मीद है कि प्रारम्भिक सार्वजनिक निर्गम (आईपीओ) भी बाजार में लाएगी.

Jio में किस कंपनी ने कब-कितना किया निवेश?

 

कंपनीतारीखहिस्सेदारी (% में)
निवेश (करोड़ रुपये में)
फेसबुक22 अप्रैल9.9943,574
सिल्वर लेक3 मई1.155,665.75
विस्टा इक्विटी पार्टनर्स8 मई2.3211,367
जनरल अटलांटिक17 मई1.346,598.38
केकेआर22 मई2.3211,367
मुबाडला5 जून1.859,093.60
सिल्वरलेक5 जून0.934,546.80
अबु धाबी निवेश प्राधिकरण7 जून1.165,683.50
टीपीजी13 जून0.934,546.80
एल कैटरटॉन13 जून0.391,894.50

डील पर क्या बोले मुकेश अंबानी

इस डील पर रिलायंस इंडस्ट्रीज के सीएमडी मुकेश अंबानी ने कहा, “आज एक महत्वपूर्ण साझेदार के रूप में टीपीजी का स्वागत करते हुए मुझे खुशी हो रही है. यह एक डिजिटल इकोसिस्टम के माध्यम से भारतीयों के जीवन को डिजिटल रूप से सशक्त बनाने के हमारे निरंतर प्रयासों के हमसफर होंगे. हम टीपीजी के वैश्विक प्रौद्योगिकी व्यवसायों में निवेश के ट्रैक रिकॉर्ड से प्रभावित हैं, जो सैकड़ों करोड़ उपभोक्ताओं और छोटे व्यवसायों के साथ काम करते हैं, और बेहतर समाज बना रहे हैं.”

टीपीजी के को-सीईओ जिम कोल्टर ने कहा, “हम जियो में निवेश के लिए रिलायंस के साथ भागीदारी करके उत्साहित महसूस कर रहे हैं, क्योंकि जियो भारत की डिजिटल अर्थव्यवस्था को बदल रही है.” रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड के पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी जियो प्लेटफार्म्स एक प्रौद्योगिकी कंपनी है.

RIL दिसंबर तक हो जाएगी कर्जमुक्त!

रिलायंस जियो इंफोकॉम लिमिटेड, जिसके पास 38.8 करोड़ मोबाइल ग्राहक हैं. वह जियो प्लेटफार्म्स की पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी बनी रहेगी. भारत के सबसे अमीर कारोबारी मुकेश अंबानी (63) ने अपनी कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज को मार्च 2021 से पहले कर्जमुक्त बनाने का पिछले साल अगस्त में लक्ष्य तय किया था. जियो प्लेटफॉर्म्स में निवेश के इन सौदों तथा 53,125 करोड़ रुपये के राइट इश्यू के कारण अंबानी का लक्ष्य समय से काफी पहले ही पूरा होता दिख रहा है.

ऐसा अनुमान है कि इस साल दिसंबर तक रिलायंस इंडस्ट्रीज कर्जमुक्त हो जाएगी. मार्च तिमाही के अंत तक रिलायंस इंडस्ट्रीज के ऊपर 3,36,294 करोड़ रुपये के बकाये थे, जबकि उसके पास 1,75,259 करोड़ रुपये की नकदी मौजूद थी. इस तरह कंपनी का शुद्ध उधार 1,61,035 करोड़ रुपये हुआ.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. Jio ने 8 हफ्ते में बेची 22.38% हिस्सेदारी, 1 लाख करोड़ से अधिक निवेश जुटाया

Go to Top