सर्वाधिक पढ़ी गईं

2022 तक Covid-19 से पहले की स्थिति में पहुंचेगी वैश्विक इकोनॉमी, मूडीज ने कहा- कोरोना के साथ जीना सीखना होगा

मूडीज का मानना है कि कोरोना महामारी के चलते क्रेडिट में जो गिरावट आई है, वह कम समय के लिए है लेकिन इकोनॉमीज कोरोना से पहले के लेवल पर अगले साल 2022 तक पहुंचेगी.

March 11, 2021 4:41 PM
Most economies not to return to pre-pandemic activity levels until 2022 SAYS MoodyS INVESTOR SERVICEमूडीज का मानना है कि अब कोरोना वायरस के साथ जीना सीखना होगा.

वैश्विक रेटिंग एजेंसी Moody’s Investors Service का मानना है कि कोरोना महामारी के चलते क्रेडिट में जो गिरावट आई है, वह कम समय के लिए है लेकिन दुनिया भर की अधिकतर अर्थव्यवस्था कोरोना से पहले के लेवल पर अगले साल 2022 तक पहुंचेगी. पिछले साल 2020 में 11 मार्च को विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने कोरोना को महामारी घोषित किया था और उसके बाद दुनिया भर में इसने अपना कहर ढाया. इसके चलते दुनिया भर की अर्थव्यवस्था बुरी तरह प्रभावित हुईं और बांड डिफॉल्ट्स के चलते क्रेडिट डाउनटर्न (क्रेडिट में गिरावट) आई.
मूडीज ने अपनी वैश्विक रिपोर्ट में कहा कि Covid-19 के चलते दुनिया भर में क्रेडिट से जुड़ी चुनौतियां आई लेकिन इसमें गिरावट कुछ समय तक और रहेगा. मूडीज का अनुमान है कि वैश्विक रिकवरी की रफ्तार धीमी होगी और मैक्रोइकोनॉमिक आउटलुक को लेकर अनिश्चितता सामान्य से अधिक बनी रहेगी. मूडीज का कहना है कि म्यूटेशंस के कारण कोरोना वायरस के साथ जीने की आदत डालनी होगी.

महाराष्ट्र में कोरोना के चलते बिगड़े हालात, ठाणे के बाद अब नागपुर में 15 मार्च से एक हफ्ते के लिए लॉकडाउन

वैक्सीनेशन कार्यक्रम पर निर्भर करेगी कोरोना की रफ्तार

मूडीज के मुताबिक महामारी की रफ्तार धीमी होने के बाद पॉलिसी एक्शंस इकोनॉमिक एक्टिविटी और फाइनेंसियल मार्केट्स को सहारा देंगे. पॉलिसीमेकर्स लंबे समय तक इकोनॉमिक एक्टिविटी को सपोर्ट करते रहेंगे और कुछ मामलों में वे वर्षों तक सहारा देंगे.
मूडीज ने उम्मीद जताई है कि वैक्सीनेशन कार्यक्रम तेज होने पर इस साल 2021 में महामारी धीरे-धीरे कम हो जाएगी. इससे सरकारों को लॉकडाउन से जुड़े निर्देशों में ढील देने में मदद मिलेगी. हालांकि जहां पर वैक्सीनेशन प्रोग्रेस धीमी रहेगी, वहां कोरोना संक्रमण से जुड़ी चिंताएं बनी रहेंगी.

कोरोना के साथ सीखना होगा जीना

वैश्विक रेटिंग एजेंसी का कहना है कि कोरोना वायरस में नए म्यूटेशंस के ज्यादा संक्रामक होने के चलते स्थिति सामान्य होने के लेकर अभी आशंका बनी हुई है. ऐसे में मूडीज का मानना है कि अब कोरोना वायरस के साथ जीना सीखना होगा और कोरोना संक्रमण के मामलों को कम करने के लिए प्रयास करना चाहिए. रेटिंग एजेंसी ने कहा कि महामारी के चलते क्रेडिट पर प्रभाव को लेकर कई रेटिंग एक्शंस लिए गए और अब इस साल 2021 में अगर वैश्विक इकोनॉमी या फाइनेंसियल मार्केट्स को कोई बड़ा झटका नहीं लगता है तो क्रेडिट रेटिंग्स का होलसेल रिव्यू नहीं किया जाएगा.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. अंतरराष्ट्रीय
  3. 2022 तक Covid-19 से पहले की स्थिति में पहुंचेगी वैश्विक इकोनॉमी, मूडीज ने कहा- कोरोना के साथ जीना सीखना होगा

Go to Top