सर्वाधिक पढ़ी गईं

FY22 में 13.7% रहेगी भारतीय अर्थव्यवस्था की विकास दर, Moody’s ने GDP ग्रोथ का अनुमान बढ़ाया

वैश्विक क्रेडिट रेटिंग एजेंसी मूडीज ने अगले वित्त वर्ष 2021-22 के लिए भारत के ग्रोथ का अपना अनुमान संशोधित किया है.

February 25, 2021 2:34 PM
Moody's expects OIL's leverage will weaken to around 16% for FY22 from 51% in FY20, which is significantly below the 20%-25% threshold required to maintain the 'baa3' BCA.Moody's expects OIL's leverage will weaken to around 16% for FY22 from 51% in FY20, which is significantly below the 20%-25% threshold required to maintain the 'baa3' BCA.

कोरोना महामारी (COVID-19 Pandemic) के चलते प्रभावित हुई इकोनॉमी के पटरी पर लौटने और वायरस से निपटने के लिए प्रभावी वैक्सीन के आने से आर्थिक स्थिति में सुधार के संकेत दिखने लगे हैं. वैश्विक क्रेडिट रेटिंग एजेंसी मूडीज (Moody’s) ने अगले वित्त वर्ष 2021-22 के लिए भारत के ग्रोथ का अपना अनुमान संशोधित किया है. मूडीज के मुताबिक अगले वित्त वर्ष में भारतीय अर्थव्यवस्था 13.7 फीसदी की दर से बढ़ेगी. इसके पहले मूडीज का अनुमान था कि 2021-22 में भारतीय इकोनॉमी की ग्रोथ 10.8 फीसदी रहेगी. बाजार में लौटते भरोसे और कोरोना वैक्सीनेशन शुरू होने के चलते मूडीज ने अपना अनुमान संशोधित किया है.

चालू वित्त वर्ष के लिए भी मूडीज ने अपना अनुमान संशोधित किया है. इससे पहले मूडीज ने अनुमान लगाया था कि चालू वित्त वर्ष 2020-21 में भारतीय इकोनॉमी 10.6 फीसदी की दर से सिकुड़ सकती है लेकिन अब वैश्विक क्रेडिट रेटिंग एजेंसी का अनुमान है कि भारतीय इकोनॉमी में 7 फीसदी की दर से सिकुड़न रह सकती है.

डिजिटल करंसी लाने की तैयारी में रिजर्व बैंक, RBI गवर्नर ने कहा- क्रिप्टोकरंसी से पूरी तरह अलग होगा

वैक्सीनेशन और बाजार में बढ़ते भरोसे के कारण तेजी

मूडीज इंवेस्टर्स सर्विस एसोशिएट मैनेजिंग डायरेक्टर (सोवरेन रिस्क) जीन फैंग का कहना है कि आर्थिक गतिविधियों के सामान्य होने और बेस इफेक्ट्स के चलते मूडीज ने अपने अनुमान संशोधित किए हैं.मूडीज और इंडेपेंडेंट क्रेडिट रेटिंग एजेंसी (ICRA) द्वारा इंडिया क्रेडिट आउटलुक 2021 पर आयोजित ऑनलाइन समारोह में फैंग ने कहा कि वैक्सीनेशन कार्यक्रम शुरू होने और बाजार में बढ़ते भरोसे के चलते आर्थिक गतिविधियां सामान्य हो रही हैं.

देश से मंदी का दौर खत्म: ICRA

इक्रा की मुख्य अर्थशास्त्री अदिति नायर ने कहा कि उनके अनुमान के मुताबिक चालू वित्त वर्ष 2020-21 की तीसरी तिमाही अक्टूबर-दिसंबर 2020 में 0.3 फीसदी की ग्रोथ रह सकती है. इक्रा के अनुमान के मुताबिक चालू वित्त वर्ष में भारतीय इकोनॉमी में 7 फीसदी की गिरावट रह सकती है और 1 अप्रैल से शुरू होने वाले अगले वित्त वर्ष में 10.5 फीसदी की ग्रोथ देखने को मिल सकता है. अदिति नायर का मानना है कि भारत में मंदी अब समाप्त हो चुकी है. इसके अलावा उनका मानना है कि वित्त वर्ष 2022 में अगर सरकार कैपिटल एक्सपेंडिचर बढ़ाती है, बजट घोषणाएं लागू होती हैं और वैक्सीनेशन कार्यक्रम जारी रहता है तो ग्रोथ जारी रहेगा.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. FY22 में 13.7% रहेगी भारतीय अर्थव्यवस्था की विकास दर, Moody’s ने GDP ग्रोथ का अनुमान बढ़ाया

Go to Top