मुख्य समाचार:
  1. Mutual Fund: मोदी सरकार बनने से मिडकैप में आएगी तेजी, ये फंड दिला सकते हैं बंपर मुनाफा

Mutual Fund: मोदी सरकार बनने से मिडकैप में आएगी तेजी, ये फंड दिला सकते हैं बंपर मुनाफा

Mutual Fund: जानिए क्यों मिडकैप म्यूचुअल फंड में आएगी तेजी

May 25, 2019 9:25 AM
Mutual Fund, Mid Cap Fund, Small Cap Fund, SIP, म्यूचुअल फंड, Equity Mid Cap Fund, large Cap Fund, Mutual Fund Investors, Modi Government, Top Up SIP, Stock Market, Equity Market, म्यूचुअल फंड, एसआईपीजानिए क्यों मिडकैप Mutual Fund में आएगी तेजी

Mutual Fund: पिछले 1 साल में इक्विटी मिडकैप सेग्मेंट में 4.60 फीसदी और स्मालकैप सेग्मेंट में 11 फीसदी की गिरावट रही है. हालांकि पिछले कुद दिनों की बात करें तो देश में एनडीए गवर्नमेंट की वापसी के संकेत से इनमें एक बार फिर तेजी आई है. 3 महीने में दोनों सेग्मेंट का रिटर्न 5.70 फीसदी और 6.63 फीसदी रहा है. अब मोदी सरकार की जब दोबारा सत्ता में वापसी हो रही है तो निवेशकों के मन में सवाल उठ रहा है कि क्या मिडकैप और स्मालकैप में पैसा लगा सकते हैं. एक्सपर्ट मान रहे हैं कि सस्ते वैल्युएशन पर चल रहे मिडकैप और स्मालकैप फंड में अलोकेशन बढ़ाना बेहतर होगा.

मिडकैप, स्मालकैप फंड बेहतर विकल्प

BPN फिनकैप के डायरेक्‍टर एके निगम का कहना है कि मोदी सरकार की वापसी के चलते बाजार में तेजी आई है. लेकिन सिर्फ इस वजह से बाजार में पैसा नहीं लगा सकते हैं. पहले यह देखना होगा कि निवेश कहां किए जाए, जहां फायदा हो. सिर्फ बाजार की रैली में फंसना ठीक नहीं रहता है. इस लिहाज से 3 से 5 साल का लक्ष्य रखने वालों के लिए मिडकैप और स्मालकैप अन्य कटेगिरी की तुलना में बेहतर दिख रहे हैं. इसके कुछ प्रमुख कारण है.

आगे क्यों दिख रही है मिडकैप में तेजी

#पिछले दिनों 2018 में और 2019 के शुरू में कई बड़ी वजह की वजह से मिडकैप और स्मालकैप सेग्मेंट में बड़ा करेक्शन देखने को मिला. कई अच्छी कंपनियों के शेयरों में भी बिकवाली रही, जबकि कंपनी का प्रदर्शन बेहतर रहा. फिलहाल मिडकैप सेग्मेंट में कई बेहतर फंड हैं जिनका वैल्युएशन सस्ता हो गया है.

#देश में राजनैतिक अस्थिरता अब खत्म हो गया है. क्लीयर मेजॉरिटी वाली सरकार के पास रिफॉर्म करने के पूरे अवसर होंगे. डोमेस्टिक लेवल पर स्पेंडिंग बढ़ने के पूरे आसार है. देश में सड़क, ब्रिज बनाने काम तेज होगा. रूरल रिफॉर्म भी तेज होंगे. इन क्षेत्र में ज्यादातर मिडकैप और स्मालकैप कंपनियां हैं.

#रैली साइकिल की बात करें तो जब भी बाजार में बड़ी तेजी आती पहले लॉर्जकैप परफॉर्म करते हैं, उसके बाद मिडकैप और स्मालकैप. हालिया तेजी में भी ऐसा ही दिखा है. बाजार की तेजी में लॉर्जकैप का योगदान रहा है. यानी अब मिडकैप और स्मालकैप की बारी है.

ये Mutual Fund हैं बेहतर विकल्प

कोटक इमर्जिंग इक्विटी स्कीम

3 साल का रिटर्न: 12.62 फीसदी
लांच डेट : 30 मार्च, 2007
लांच के बाद रिटर्न: 11.61 फीसदी
मिनिमम SIP : 1000 रुपये

L&T मिडकैप फंड

3 साल का रिटर्न: 14.60 फीसदी
लांच डेट : 9 अगस्त, 2004
लांच के बाद रिटर्न: 18.88 फीसदी
मिनिमम SIP : 500 रुपये

फ्रैंकलिन इंडिया प्राइमा फंड

3 साल का रिटर्न: 11.41 फीसदी
लांच डेट : 1 दिसंबर, 1993
लांच के बाद रिटर्न: 19.48 फीसदी
मिनिमम SIP : 500 रुपये

Invesco इंडिया मिडकैप फंड

3 साल का रिटर्न: 11.43 फीसदी
लांच डेट : 19 अप्रैल, 2017
लांच के बाद रिटर्न: 14.22 फीसदी
मिनिमम SIP : 500 रुपये

Reliance स्मालकैप फंड

3 साल का रिटर्न: 15.67 फीसदी
लांच डेट : 19 अप्रैल, 2017
लांच के बाद रिटर्न: 17.08 फीसदी
मिनिमम SIP : 500 रुपये

SBI स्मालकैप फंड

3 साल का रिटर्न: 15.74 फीसदी
लांच डेट : 19 अप्रैल, 2017
लांच के बाद रिटर्न: 18.11 फीसदी
मिनिमम SIP : 500 रुपये

(नोट: हम यहां जानकारी एक्सपर्ट के हवाले से दे रहे हैं. यहां फंड के प्रदर्शन की भी रिपोर्ट दी गई है. हालांकि बाजार में निवेश के अपने जोखिम होते हैं, इसलिए निवेश से पहले अपने स्तर पर एडवाइजर की सलाह जरूर लें.)

Go to Top

FinancialExpress_1x1_Imp_Desktop