मुख्य समाचार:
  1. मेंथा ऑयल में 23 रुपये की तेजी, क्या नई फसल की आवक के पहले रहेगा बिकवाली का दबाव

मेंथा ऑयल में 23 रुपये की तेजी, क्या नई फसल की आवक के पहले रहेगा बिकवाली का दबाव

शुक्रवार को वायदा कारोबार में मेंथा ऑयल की कीमतों में मामूली बढ़त हुई.

May 3, 2019 6:09 PM
ANUJ GUPTA, COMMODITY DEMAND, COMMODITY RESEARCH, MENTHA OIL, MENTHA OIL TRADE, SPOT PRICE, MENTHA OIL SPOT PRICE, CHANDAUSI, ANGEL BROKING, ANGEL BROKING DEPUTY VICE PRECIDENT, अनुज गुप्ता, अनुज गुप्ता एंजेल ब्रोकिंग, मेंथा ऑयलइस महीने मेंथा ऑयल की कीमतों में 7.25 फीसदी की गिरावट आ चुकी है.

Mentha Oil Price: मेंथा ऑयल में शुक्रवार के कारोबार में तेजी दिख रही है. आज वायदा कारोबार में मेंथा ऑयल में ट्रेडिंग धीमी बढ़त के साथ शुरू हुई लेकिन कारोबार के दौरान इसमें करीब 23 रुपये की तेजी आई. नई फसल की आवक के पहले आज मेंथा ऑयल 2 रुपये बढ़कर 1348 रुपये के भाव पर खुला और कारोबार की समाप्ति पर 1369 रुपये तक के भाव पर बंद हुआ. शुक्रवार को मेंथा ऑयल का हाजिर भाव 1507.60 रुपये दर्ज  किया गया.

एक्सपर्ट का कहना है कि नई फसलों की आवक का समय शुरू हो गया है, वहीं इस बार पिछले साल की तुलना में पैदावार भी बेहतर हुई है. मौजूदा समय में सुस्त डिमांड की वजह से मेंथा ऑयल की कीमतों पर दबाव देखा गया है. ऐसे में अगले कुछ दिनों में सेलिंग देखा जा सकता है.

इस महीने 7.25% तक गिर चुके हैं भाव

एंजेल ब्रोकिंग के कमोडिटी रिसर्च के डिप्टी वाइस-प्रेसिडेंट अनुज गुप्ता के मुताबिक यह सीजन आवक का है, वहीं इस बार पैदावार भी अच्छी हुई है. दूसरी ओर अभी डिमांड के लिहाज से सुस्ती नजर आ रही है. अनुज गुप्ता के मुताबिक मेंथा ऑयल की कीमतों में आगे भी नरमी देखने को मिल सकती है. इस महीने मेंथा ऑयल की कीमतों में एमसीएक्स कमोडिटी एक्सचेंज के मुताबिक करीब 7.25 फीसदी की गिरावट आ चुकी है. निवेशकों को कोई भी स्ट्रेटजी बनाने से पहले इन बातों को ध्यान में रखना होगा.

भारत Mentha Oil का सबसे बड़ा उत्पादक और निर्यातक

मेंथा एक खुशबूदार जड़ी बूटी और भारत में इसे जापानी पुदीना के नाम से जाना जाता है. मेंथा तेल और उसके डेरिवेटिव्स को बड़े पैमाने पर भोजन, दवा, इत्र और फ्लेवरिंग इंडस्ट्री में उपयोग किया जाता है. भारत मेंथा तेल और उसके डेरिवेटिव्स का सबसे बड़ा उत्पादक और निर्यातक है. इसकी कीमतों पर उत्पादन और घरेलू मांग के अलावा चीन, अमेरिका और सिंगापुर जैसे प्रमुख आयातक देशों से आयात की मांग और डॉलर के मुकाबले रुपये की कीमत पर भी निर्भर करती है. सर्दियों में आमतौर पर दवा कंपनियों की मेंथा ऑयल के लिए घरेलू मांग बढ़ जाती है.

Go to Top

FinancialExpress_1x1_Imp_Desktop