मुख्य समाचार:

भारतीय बाजारों पर क्यों लट्टू हो रहे हैं विदेशी निवेशक, 4 दिन में 8327 करोड़ का लगाया दांव

FPIs are net buyers: भारतीय बाजारों का आकर्षण फिर विदेशी विनिवेशकों में बढ़ने लगा है.

August 10, 2020 1:01 PM
Overseas investors, FPIs, FPIs continue investing in Indian capital market, equity market, debt market, FPI are net buyers, FPI data in august first week, corporate fundamental improve, largecap stocks are attractive, midcap, smallcap, big companies better performed in june quarterFPIs are net buyers: भारतीय बाजारों का आकर्षण फिर विदेशी विनिवेशकों में बढ़ने लगा है.

FPIs are net buyers: भारतीय बाजारों का आकर्षण फिर विदेशी विनिवेशकों में बढ़ने लगा है. इसका अंदाजा इसी बात से लगा सकते हैं कि अगस्त के पहले सप्ताह में ही विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) ने भारतीय कैपिटल मार्केट में 8327 करोड़ रुपये निवेश किए हैं. एक्सपर्ट का कहना है कि भारत की बड़ी कंपनियों का तिमाही नतीजे उम्मीद से बेहतर रहे हैं. इससे बड़ी कंपनियों के शेयरों में एक बार फिर हलचल बढ़ने लगी है. इसी वजह से एफपीआई ने भी अपना निवेश भी बढ़ाया है. बता दें कि एफपीआई मिडकैप और स्मालकैप की बजाए लॉर्जकैप शेयरों में पैसा लगाना पसंद करते हैं.

ताजा आंकड़ों के मुताबिक 3 से 6 अगस्त के दौरान विदेशी निवेशकों ने शेयर बाजार में 7,842 करोड़ रुपये डाले, जबकि डेट बाजार में उनका निवेश 485 करोड़ रुपये रहा. इस तरह उनका कुल निवेश 8,327 करोड़ रुपये तक पहुंच गया. इससे पहले के 2 महीनों में भी विदेशी निवेशक नेट बॉयर रहे हैं. एफपीआई ने जुलाई में 3301 करोड़ रुपये और जून में 24053 करोड़ रुपये का निवेश किया है.

लॉर्जकैप शेयरों की लोकप्रियता बढ़ी

Groww के और सीओओ हर्ष जैन का कहना है कि लॉकडाउन और कोविड-19 के बढ़ते मामलों के बावजूद भारत की बड़ी कंपनियों ने जून तिमाही में उम्मीद से बेहतर प्रदर्शन किया है. इसी वजह से एफपीआई ने भी लॉर्जकैप कंपनियों में अपना निवेश बढ़ाया है. उन्होंने कहा कि बड़ी कंपनियों के शेयरों की लोकप्रियता बढ़ रही है. वहीं, लगातार बढ़ रही लिक्विडिटी ने दुनियाभर के इक्विटी बाजारों को सपोर्ट किया है.

जोखिम लेने की क्षमता बढ़ी

मॉर्निंगस्टार इंडिया के एसोसिएट डायरेक्टर-रिसर्च, हिमांशु श्रीवास्तव का कहना है कि बाजार में एफपीआई द्वारा निवेश के पीछे कई फैक्टर हैं. चीन, अमेरिका और यूरोप से आने वाले बेहतर आर्थिक आंकड़ों ने ग्लोबल लेवल पर जोखिम लेने की क्षमता बढ़ाई है, जिससे रिकवरी की उम्मीदों को मजबूती मिली है. दूसरी तरफ, घरेलू स्तर पर कई बड़ी ब्लॉक डील हुई हैं, जिसमें कंपनी प्रबंधन, प्रमोटर्स और दिग्गज नामों ने खरीद-फरोख्त की है. विदेशी निवेशकों ने कई बड़े नामों में हिस्सेदारी खरीदी, जिसमें बंधन बैंक शामिल रहा.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. भारतीय बाजारों पर क्यों लट्टू हो रहे हैं विदेशी निवेशक, 4 दिन में 8327 करोड़ का लगाया दांव

Go to Top