मुख्य समाचार:

7 साल के निवेश पर मिलेगा 8.65% सालाना रिटर्न, 16 दिसंबर से आपके लिए खुल रहा है ये विकल्प

एलएंडटी फाइनेंस (L&T Finance) का नॉन-कन्वर्टिबल डिबेंचर यानी NCD इश्यू 16 दिसंबर को खुल रहा है.

December 12, 2019 11:07 AM
L&T Finance NCD, should you invest in NCD, एलएंडटी फाइनेंस, नॉन-कन्वर्टिबल डिबेंचर, BSE, NSE, NCD Rating, FD Vs NCD, bank FD, interest rate on NCDएलएंडटी फाइनेंस (L&T Finance) का नॉन-कन्वर्टिबल डिबेंचर यानी NCD इश्यू 16 दिसंबर को खुल रहा है.

L&T Finance NCD: आज के दौर में ज्यादातर बैंक स्माल सेविंग्स स्कीम पर ब्याज दरों को कम करने में लगे हैं. 2015 के बाद से बात करें तो बैंकों ने एफडी पर ब्याज दरों में बड़ी कटौती की है, जिससे यह विकल्प पहले जैसा आकर्षक नहीं दिखता. अगर आप भी एफडी की जगह निवेश के लिए कोई अन्य विकल्प की तलाश में हैं तो 16 दिसंबर से आपके पास निवेश का बेहतर मौका मिलने जा रहा है. असल में एलएंडटी फाइनेंस (L&T Finance) का नॉन-कन्वर्टिबल डिबेंचर यानी NCD इश्यू 16 दिसंबर को खुल रहा है. इसमें 3 साल से 7 साल तक की मेच्योरिटी वाले प्लान हैं, जहां निवेशकों को सालाना 8.65 फीसदी तक ब्याज मिलेगा.

नॉन बैंकिंग लेंडर एलएंडटी फाइनेंस का NCD के जरिए 1500 करोड़ रुपये जुटाने की योजना है. इस फंड का इस्तेमाल कंपनी फाइनेंसिंग के अलावा मौजूदा डेट के रीफाइनेंसिंग के लिए करेगी. इश्यू का बेस साइज 500 करोड़ रुपये का है, जबकि कंपनी के पास 1000 करोड़ रुपये तक ओवर सब्सक्रिप्सन का भी विकल्प होगा. कंपनी ने खुद ये जानकारी दी है.

निवेश के लिए 3 विकल्प

एलएंडटी फाइनेंस के NCD के तहत निवेश के लिए 3 विकल्प होंगे. निवेशक इसमें 3 साल, 5 साल औा 7 साल की मेच्योरिटी वाले विकल्पों में निवेश कर सकेंगे. यह इश्यू 16 दिसंबर से खुल रहा है और इसमें 30 दिसंबर तक निवेश का मौका होगा. यह इश्यू बीएसई और एनएसई पर लिस्ट होगा.

ब्याज दर

अलग अलग टेन्योर में मेच्योरिटी वाली स्कीम के लिए कंपनी 8.25 फीसदी से 8.65 फीसदी सालाना ब्याज दे रही है. इसकी तुलना में भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) के 5 साल वाले फिक्स्ड डिपॉजिट स्कीम पर अभी अधिकतम ब्याज दर 6.25 फीसदी है. यानी एफडी की तुलना में इसमें ब्याज दर बेहद आकर्षक है.

रेटिंग

-NCD को क्रिसिल ने AAA/स्टेबल रेटिंग दी है.
-CARE ने NCD को AAA/स्टेबल रेटिंग दी है.
-IND ने NCD को AAA/स्टेबल रेटिंग दी है.

लीड मैनेजर्स

इडेलवाइस फाइनेंशियल सर्विसेज, AK कैपिटल सर्विसेज, ट्रस्ट इन्वेस्टमेंट एडवाइजर्स और JM फाइनेंशियल.

क्या है NCD?

अगर आप रेग्युलर इनकम चाहते हैं तो नॉन-कंवर्टिबल डिबेंचर (NCD) बेहतर विकल्प है, इसे रेग्युलर इनकम को ध्यान में रखकर ही लाया जाता है. NCD किसी कंपनी की ओर से जारी किए गए एक तरह के बॉन्ड होते हैं. इन पर ब्याज दरें तय होती हैं, जो कंवर्टिबल डिबेंचर के मुकाबले ज्यादा होती हैं. ये सिक्योर्ड या अनसिक्योर्ड हो सकते हैं. सिक्योर्ड का मतलब गारंटी की जरूरत से है, वहीं अनसिक्योर्ड में गारंटी की जरूरत नहीं होती है.

(हम यहां निवेश की सलाह नहीं दे रहे हैं. ये रिपोर्ट कंपनी के ऑफर को लेकर बनाई गई है. निवेश से पहले एडवाइजर की सलाह जरूर लें.)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. 7 साल के निवेश पर मिलेगा 8.65% सालाना रिटर्न, 16 दिसंबर से आपके लिए खुल रहा है ये विकल्प

Go to Top