Stock Market Investmnt Tips: स्टॉक मार्केट में लगाते हैं पैसे? बचें इन पांच गलतियों से

Stock Market Investmnt Tips: अगर आप स्टॉक मार्केट में पैसे लगाते हैं तो पांच ऐसे गलतियां हैं जो आमतौर पर कई लोग करते हैं जिनसे बचना चाहिए.

Stock Market Investmnt Tips: स्टॉक मार्केट में लगाते हैं पैसे? बचें इन पांच गलतियों से
अगर आप शेयर मार्केट में ट्रेडर के माइंडसेट से पैसे निवेश करते हैं तो यह बहुत बड़ी गलती साबित हो सकती है.

Stock Market Investmnt Tips: स्टॉक मार्केट में पैसे निवेश करते समय कुछ ऐसी आम गलतियां होती हैं जिनसे बचा जाना चाहिए. इन गलतियां से बचा जाना चाहिए ताकि आपको अपने निवेश पर घाटा न उठाने पड़े. घरेलू ब्रोकरेज फर्म मोतीलाल ओसवाल ने ऐसी ही पांच गलतियों की सूची बनाई है जो आमतौर पर निवेशक करते हैं और इनसे बचा जाना चाहिए.

ट्रेडर के हिसाब से निवेश करना

अगर आप शेयर मार्केट में ट्रेडर के माइंडसेट से पैसे निवेश करते हैं तो यह बहुत बड़ी गलती साबित हो सकती है. ट्रेडर्स आमतौर पर कोई स्टॉक खरीदते हैं और इसे एक सीमित समय तक ही होल्ड करते हैं और फिर इसे मुनाफे पर बेच देते हैं. वहीं एक निवेशक के तौर पर आपको लांग टर्म के हिसाब से निवेश करना चाहिए. ट्रेडर्स बाजार की वोलैटिलिटी के हिसाब से अपनी पूंजी बचाने के लिए कभी-कभी नुकसान में भी अपनी होल्डिंग बेच देते हैं.

किसी कंपनी में निवेश को लेकर इमोशनल होना

निवेशक कभी-कभी एक कंपनी में निवेश करते हैं और फिर उसमें अपना पैसा बनाए रखते हैं चाहे उसका प्रदर्शन कैसा भी रहे. किसी कंपनी में ऐसा इमोशनल इंवेस्टमेंट आपके वित्तीय लक्ष्य को नुकसान पहुंचा सकता है. इमोशनल रूप से जुड़ने पर रेड फ्लैग की स्थिति में भी आप पैसे नहीं निकाल पाएंगे और घाटा हो सकता है. निवेशकों को कंपनी में वित्तीय अनियमितता, लगातार वित्तीय घाटा, खराब कॉरपोरेट गवर्नेस और लगातार सीनियर मैनेजमेंट पोजिशन में बदलाव पर चौकन्ना होना चाहिए और अपने वित्तीय लक्ष्यों के हिसाब से फैसले लेने चाहिए.

Covid Effect on Travel Insurance: कोरोना ने बदल दी ट्रैवल इंश्योरेंस की दुनिया, सर्वे में हुआ अहम खुलासा

स्टॉक रिकमंडेशंस पर बहुत अधिक भरोसा करना

कुछ निवेशक खुद स्टॉक का चयन करने की बजाय अपने मित्रों और स्टॉक एनालिस्ट्स इत्यादि से मिले सुझावों के हिसाब से मार्केट में पैसे लगाते हैं. ऐसा करने से बचना चाहिए और सिर्फ उसी कंपनी में पैसे लगाने चाहिए जो उनके प्रोफाइल और ऑब्जेक्टिव से मैच होते हों.

पोर्टफोलियो कॉपी करना

यह भी आम गलती है. इसमें कोई निवेशक अपने मित्र या किसी अन्य के पोर्टफोलियो के हिसाब से अपना भी पोर्टफोलियो तैयार करते हैं. हालांकि इसमें दिक्कत ये है कि दोनों निवेशक के प्रोफाइल, रिस्क लेने की क्षमता और वित्तीय लक्ष्य जरूरी नहीं कि समान हों.

पोर्टफोलियो डाइवर्सिफाई न हो

डाइवर्सिफिकेशन का मतलब है कि अपने पैसों को कई इंडस्ट्री और सेक्टर के शेयरों में निवेश करना. अपने पूरे पैसे को एक ही सेक्टर के शेयरों में रखने की बजाय अलग-अलग सेक्टर की कंपनियों में रखें. इससे अगर कुछ सेक्टर का प्रदर्शन बेहतर नहीं है तो अन्य सेक्टर्स की तेजी आपके पोर्टफोलियो को स्वस्थ बनाए रखेगी.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

TRENDING NOW

Business News