LIC IPO Latest Update: एलआईसी का शेयर इश्यू प्राइस से 68 रु नीचे, निवेशकों ने लिस्टिंग से अबतक गंवाए 44 हजार करोड़

Investors had a loss on listing, LIC Investors Lost Rs 50,000 Crore: LIC की कमजोर लिस्टिंग और अबतक शेयर में सुस्ती के चलते मार्केट कैप में बड़ी गिरावट आई है. निवेशकों को लिस्टिंग के बाद से करीब 44 हजार करोड़ का झटका लगा है.

LIC IPO: LIC shares sluggish listing leads to Investors
LIC Investors Lose Money: LIC के शेयर में हल्की तेजी है, लेकिन अभी यह अपने इश्यू प्राइस से नीचे ट्रेड कर रहा है. (reuters)

LIC Latest Stock Price: लाइफ इंश्योरेंस कॉरपोरेशन (LIC) की शेयर बाजार में एंट्री निराश करने वाली रही है. 17 मई को LIC का शेयर बीएसई पर करीब 9 फीसदी डिस्काउंट के साथ 867 रुपये पर लिस्ट हुआ. जबकि इश्यू प्राइस 949 रुपये था. लिस्टिंग डे पर शेयर कारोबार के अंत में 875 रुपये पर बंद हुआ. आज अपनी ट्रेडिंग के दूसरे दिन शेयर में हल्का सुधार देखने को मिल रहा है और यह 6 रुपये बढ़कर 881 रुपये पर ट्रेड कर रहा है. इस भाव पर देखें तो LIC के निवेशकों को लिस्टिंग से लेकर अबतक करीब 44 हजार करोड़ रुपये का घाटा हो चुका है.

मार्केट कैप में 44 हजार करोड़ की गिरावट

LIC ने अपने आईपीओ के लिए अपर प्राइस बैंड 949 रुपये रखा था और यह इश्यू 21000 करोड़ रुपये का था. आईपीओ के दौरान इसका वैल्युएशन 6.01 लाख करोड़ रुपये था. वहीं आज ट्रेडिंग के दूसरे दिन शेयर के 881 रुपये के भाव पर LIC का मार्केट कैप 5,57,864.80 करोड़ है. यानी अबतक इश्यू प्राइस से शेयर में गिरावट के चलते कंपनी के माके्रट कैप में करीब 44 हजार करोड़ रुपये की कमी आई है. इस लिहाज से कंपनी के निवेशकों के लिस्टिंग से अबतक 44 हजार करोड़ साफ हो गए.

Airtel का शेयर दे सकता है 25% रिटर्न, इन वजहों से बन सकता है टेलिकॉम सेक्टर का विनर

2 दिन में कैसी रही शेयर की चाल

LIC का शेयर 17 मई को इश्यू प्राइस 949 रुपये के मुकाबले 867 रुपये पर लिस्ट हुआ. जबकि इंट्राडे में 920 रुपये तक मजबूत होकर 875 रुपये पर बंद हुआ. वहीं आज यह 9 रुपये की बढ़त के साथ 886 रुपये पर खुला और 890 रुपये तक पहुंच गया. लेकिन बाद में इसमें गिरावट आई और यह 877 रुपये पर आ गया. हफलहाल शेयर 881 रुपये पर ट्रेड कर रहा है.

3 गुना हुआ था सब्सक्राइब

LIC के आईपीओ को निवेशकों का ठीक ठाक रिस्पांस मिला था. यह इश्यू 2.95 गुना यानी करीब 295 फीसदी भरा था. कर्मचारियों और पॉलिसीहोल्डर्स के लिए रिजर्व हिस्से को अच्छा रिस्पांस मिला था. कर्मचारियों के लिए रिजर्व कोटा करीब 4.40 गुना भरा था, जबकि पॉलिसीहोल्डर्स के लिए रिजर्व कोटे को 6.11 गुना बोलियां मिली थीं. QIB का हिस्सा 2.83 गुना, NII का हिस्सा 2.91 गुना और रिटेल निवेशकों के लिए रिजर्व कोटा 1.99 गुना भरा था.

बता दें कि LIC देश की सबसे बड़ी बीमा कंपनी है. प्रीमियम (या GWP) के टर्म में कंपनी का मार्केट शेयर 61.6 फीसदी है. वहीं 31 दिसंबर 2021 तक इश्यू हो चुकी इनडिविजुअल पॉलिसी के मामले में मार्केट शेयर करीब 71.8 फीसदी है. LIC का एसेट अंडर मैनेजमेंट 40.1 लाख करोड़ का है, जो सबसे ज्यादा है. FY21 में कंपनी का एनुअल प्रीमियम 4 लाख करोड़ रहा है. कंपनी के पास लाइफ इंश्योरेंस के अलावा सेविंग्स, टर्म इंश्योरेंस, हेल्थ इंश्योरेंस, Ulip, एन्यूटी और पेंशन प्रोडक्ट्स हैं.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

TRENDING NOW

Business News