सर्वाधिक पढ़ी गईं

मार्च तक और महंगा हो जाएगा तेल, पड़ोसी देशों में भारत से सस्ता है पेट्रोल

23 जनवरी को राजस्थान के गंगानगर में पेट्रोल के भाव प्रति लीटर 97.47 रुपये पहुंच गए यानी 100 रुपये प्रति लीटर के भाव के बिल्कुल करीब.

Updated: Jan 23, 2021 5:20 PM
know here the reason why petrol and Diesel Price on Record High gold crude ratio down and corona vaccine is positve to increase priceपड़ोसी देशों में भारत से सस्ता पेट्रोल बिक रहा है.

Petrol and Diesel Price on Record High: देश में पेट्रोल और डीजल लगातार नए रिकॉर्ड बना रहे हैं. आज 23 जनवरी को राजस्थान के गंगानगर में पेट्रोल के भाव प्रति लीटर 97.47 रुपये पहुंच गए यानी 100 रुपये प्रति लीटर के भाव के बिल्कुल करीब. डीजल भी 89.19 रुपये प्रति लीटर के भाव पर है. भारत में तेल के भाव में तेजी का सबसे बड़ा कारण भारी-भरकम टैक्स है क्योंकि ब्रेंट क्रूड ऑयल के रेट लगभग 50 के करीब चल रहे हैं और पड़ोसी देशों में भारत से सस्ता तेल बिक रहा है. पेट्रोल का जितना दाम हम चुकाते हैं, उसमें से 62 फीसदी हिस्सा टैक्स का होता है. अभी जल्द तेल सस्ता होने की उम्मीद कम है क्योंकि कोरोना वैक्सीन आने के बाद अब धीरे-धीरे हर चीजें पटरी पर आ रही हैं तो तेल की खपत बढ़ेगी और नतीजतन इसकी मांग बढ़ेगी.

करीब तीन साल पहले ब्रेंट क्रूड ऑयल जब करीब 75 डॉलर प्रति बैरल के भाव पर था तो यहां भी 75 रुपये प्रति लीटर के करीब पेट्रोल था. इस समय क्रूड 50 डॉलर प्रति बैरल के करीब है तो पेट्रोले के भाव 100 रुपये प्रति लीटर की तरफ बढ़ रहे हैं.

पेट्रोल जल्द ही हो जाएगा 100 के पार

कोरोना वैक्सीन आने के बाद आर्थिक गतिविधियों में विस्तार हो रहा है. इसकी वजह से तेल की मांग बढ़ेगी. इसे लेकर एंजेल ब्रोकिंग के वाइस प्रेसिडेंट (कमोडिटीज एंड रिसर्च) अनुज गुप्ता का कहना है कि इस साल 2021 की पहली तिमाही यानी मार्च तक एक बैरल क्रूड के भाव 55 डॉलर तक जा सकते हैं. अनुज गुप्ता के मुताबिक क्रूड के भाव बढ़ने पर जल्द ही पेट्रोल के भाव 100 भी पार कर सकते हैं क्योंकि अब लगभग सभी कंपनियां, स्कूल-कॉलेज, ट्रांसपोर्टेशन शुरू हो चुका है तो इसकी खपत बढ़ेगी. इस समय भी तेल की खपत बढ़ने के कारण इसके भाव में तेजी आ रही है.

जून तक क्रूड के भाव 60 डॉलर प्रति बैरल

यूएस एनर्जी इंफॉर्मेशन एडमिनिस्ट्रेशन (ईआईए) के मुताबिक 2021 की पहली छमाही जून तक ब्रेंट क्रूड के भाव 60 डॉलर प्रति बैरल तक जा सकते हैं. ईआईए का अनुमान है कि ऑर्गेनाइजेशन ऑफ पेट्रोलियम एक्सपोर्टिंग कंट्रीज (ओपेक) और सहयोगी देशों (ओपेक प्लस) साझेदारी के तहत तेल उत्पादन सीमित रख सकती हैं. सऊदी अरब ने घोषणा की है कि वह फरवरी और मार्च में तेल उत्पादन में 10 लाख बैरल प्रतिदिन कटौती करेगा. इस कटौती के बावजूद ईआईए का अनुमान है कि ओपेक पिछले साल की तुलना में इस बार अधिक तेल उत्पादित करेगा और पिछले साल 2020 में औसतन 2.56 करोड़ बैरल प्रतिदिन की तुलना में इस साल 2021 में औसतन 27.2 करोड़ बैरल प्रतिदिन उत्पादित करेगा.

Gold-Crude Ratio में गिरावट से मिल रहे खपत के संकेत

केडिया कमोडिटी के डायरेक्टर अजय केडिया के मुताबिक इकोनॉमी विस्तार हो रहा है और इसका संकेत गोल्ड-क्रूड रेशियो से देखा सकता है. इस रेशियो में गोल्ड का मतलब अनिश्चितता से है और क्रूड का इकोनॉमिक विस्तार से यानी अगर रेशियो अधिक है तो इकोनॉमिक अनिश्चितता बढ़ रही है और अगर रेशियो कम है तो इकोनॉमिक विस्तार हो रहा है. इकोनॉमिक विस्तार में क्रूड की खपत बढ़ जाती है. अप्रैल 2020 में यह रेशियो 91.12 था जब दुनिया भर में कोरोना महामारी का प्रकोप था और क्रूड के भाव निम्नतम स्तर पर चले गए थे. हालांकि धीरे-धीरे इकोनॉमी पटरी पर आने लगी और आर्थिक गतिविधियों में तेजी आई. इस समय यह रेशियो 35.12 है यानी क्रूड की खपत बढ़ी है. दिसंबर 2019 में यह रेशियो 24.94 और जनवरी 2020 में यह रेशियो 30.66 था. अजय केडिया के मुताबिक इस रेशियो के कम होने का अर्थ है कि अब आर्थिक अनिश्चितता की आशंका लोगों के बीच नहीं है और इकोनॉमिक विस्तार हो रहा है. खपत बढ़ने के कारण इसके भाव में तेजी आ रही है.

पेट्रोल के लिए 62 फीसदी टैक्स चुकाते हैं हम

तेल इतना महंगा इसलिए है क्योंकि उस पर टैक्स अधिक है. राजधानी दिल्ली में पेट्रोल का खुदरा भाव 16 जनवरी को 84.7 रुपये था. इसका ब्रेक अप करें तो बेस प्राइस 28.13 रुपये और किराया (फ्रेट) इत्यादि खर्च 0.37 रुपये यानी पेट्रोल का भाव हुआ 28.5 रुपये. इसके बाद इस पर डीलर्स को 32.98 रुपये की एक्साइज ड्यूटी और 19.55 रुपये का वैट (डीलर कमीशन पर भी वैट शामिल) देना होता है. डीलर का औसतन कमीशन 3.67 रुपये हुआ. इन सबको जोड़कर पेट्रोल का भाव 16 जनवरी 2021 को 84.70 रुपये प्रति लीटर हुआ. इस प्रकार एक लीटर पेट्रोल पर 52.53 रुपये का टैक्स देना पड़ा यानी 62 फीसदी. तेल के भाव एक राज्य से दूसरे राज्य में जाने पर भिन्न हो सकते हैं क्योंकि इस पर स्थानीय बिक्री कर या वैट (वैल्यू एडेड टैक्स) लगता है. इसके अलावा इस पर एक्साइज ड्यूटी भी लगाई जाती है जो सेंट्र लेवी है.

2018 में केंद्र सरकार ने एक्साइज ड्यूटी में दी थी राहत

केंद्र सरकार के सामने सबसे बड़ी चुनौती तेल की महंगाई से लोगों को निजात दिलाना है. सरकार से लोगों ने आग्रह किया कि टैक्सेज में कटौती किया जाए. इससे पहले अक्टूबर 2018 में तेल के भाव रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंच गए थे तो सरकार ने पेट्रोल और डीजल पर एक्साइज ड्यूटी में 1.50 रुपये प्रति लीटर की कटौती की थी. इसके अलावा सरकारी तेल कंपनियों ने भी अतिरिक्त एक रुपये प्रति लीटर की कटौती कर लोगों को राहत दिया था. हालांकि इस बार ऐसी उम्मीद अभी नहीं दिख रही है क्योंकि सरकार के सामने कोरोना महामारी से बुरी तरह प्रभावित हुए इकोनॉमी को संभालने के लिए राजस्व की जरूरत है. इस हफ्ते की शुरुआत में ऑयल मिनिस्टर धर्मेंद्र प्रधान ने तेल की बढ़ती कीमतों को लेकर सऊदी अरब द्वारा तेल उत्पादन में कटौती के फैसले को जिम्मेदार ठहराया.

पड़ोसी देशों में भारत से सस्ता पेट्रोल

गैसोलीनपेट्रोलप्राइसेजडॉटकॉम पर दिए गए डेटा के मुताबिक पड़ोसी देशों में भारत से सस्ता पेट्रोल बिक रहा है. वेबसाइट पर 18 जनवरी को पेट्रोल के भाव दिए गए हैं. उस दिन भारत में प्रति लीटर पेट्रोल 87.87 रुपये के भाव पर था. इसकी तुलना पड़ोसी देशों से करें तो 18 जनवरी को प्रति लीटर पाकिस्तान में 49.87 रुपये, भूटान में 49.56 रुपये, श्रीलंका में 61.37 रुपये, नेपाल में 68.84 रुपये, चीन में 74.14 रुपये और बांग्लादेश 77.01 रुपये था. यहां सभी देशों में पेट्रोल के भाव को भारतीय रुपये में बदलकर दिया गया है. सबसे सस्ता पेट्रोल वेनेजुएला में 1.46 रुपये प्रति लीटर और हांगकांग में 172.66 रुपये प्रति लीटर के भाव बिका.
डीजल की बात करें तो 18 जनवरी को प्रति लीटर डीजल का भाव 79.29 रुपये था. पड़ोसी देशों की बात करें तो प्रति लीटर डीजल का भाव श्रीलंका में 39.64 रुपये, भूटान में 46.31 रुपये, पाकिस्तान में 51.7 रुपये, बांग्लादेश में 56.25 रुपये, नेपाल में 58.20 रुपये और चीन में 64.54 रुपये रहा. सबसे महंगा प्रति लीटर डीजल हांगकांग में 145.38 रुपये में बिका और सबसे सस्ता ईरान में 8.75 रुपये में बिका.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. मार्च तक और महंगा हो जाएगा तेल, पड़ोसी देशों में भारत से सस्ता है पेट्रोल

Go to Top