मुख्य समाचार:

बाजार के जोखिम से चाहते हैं सुरक्षा, मल्टीकैप फंड में करें निवेश, मिलेगा अच्छा रिटर्न

मल्टीकैप फंड के जरिए पोर्टफोलियो डाइवर्सिफाई किया जा सकता है.

January 5, 2019 9:23 AM
Equity Multi Cap Mutual Fund, Multi Cap Fund, Mutual Fund Category, Invest, Return, Low Risk, Diversify Portfolioमल्टीकैप फंड के जरिए पोर्टफोलियो डाइवर्सिफाई किया जा सकता है.

साल 2018 में दूसरे इक्विटी म्यूचुअल फंड की तरह मल्टीकैप फंड का रिटर्न भी निगेटिव रहा है. शेयर बाजार में बड़ा करेक्शन इसकी वजह रही है. हालांकि एक्सपर्ट मान रहे हैं इस साल म्यूचुअल फंड की यह कटेगिरी निवेश के लिए लिहाज से बेहतर होगी. 2019 में शेयर बाजार के बेहतर रहने की उम्मीद है. ऐसे में मल्टीकैप फंड अच्छा रिटर्न दे सकते हैं. म्यूचुअल फंडों के दोबारा वर्गीकरण के बाद मल्टीकैप फंड कटेगरी ज्यादा आकर्षक दिख रही है. उनका कहना है कि जो निवेशक बाजार के जोखिम से बचना चाहते हैं, उन्हें अच्छे मल्टीकैप फंड में निवेश करना चाहिए.

3 साल के दौरान टॉप 5 म्यूचुअल फंड

फंड                                                              रिटर्न
Axis फोकस्ड 25 फंड                                  14.27%
मिराए एसेट इंडिया इक्विटी फंड- RP          13.31%
आदित्य बिरला सनलाइफ इक्विटी फंड      12.94%
कोटक स्टैंडर्ड मल्टीकैप फंड- RP                12.58%
JM मल्टीकैप फंड                                      12.35%

क्या हैं मल्टीकैप फंड

असल में मल्टीकैप फंड डायवर्सिफाइड म्यूचुअल फंड हैं. म्यूचुअल फंड की इस कटेगिरी के तहत अलग अलग मार्केट कैप वाली कंपनियों में निवेश किया जाता है. सेबी की गाइडलाइन के अनुसार इन स्कीम को अपने पोर्टफोलियो का 65 फीसदी इक्विटी और इक्विटी से जुड़े इंस्ट्रूमेंट में निवेश करना होता है. पोर्टफोलियो में लार्जकैप, मिडकैप और स्मॉलकैप स्टॉक शामिल होते हैं.

निवेश का फायदा

बहुत से निवेशक हैं जो इक्विटी में पैसा लगाना चाहते हैं, लेकिन उन्हें ट्रेंड पता नहीं होता कि कहां पैसा लगाएं. लॉर्जकैप, मिडकैप या स्मालकैप को लेकर वे कनफ्यूज होते हैं कि कहां निवेश किया जाए. कौन सी कटेगिरी बेहतर कर सकती है. ऐसे में मल्टीकैप फंड बेहतर विकल्प होता है. इसके जरिए फंड मैनेजर्स के पास विकल्प होता है और वे जरूरत के हिसाब से लार्ज, मिड और स्मॉलकैप शेयरों में निवेश घटाते या बढ़ाते रहते हैं. मसलन जब मिडकैप या स्मॉलकैप सेगमेंट का वैल्यूएशन ज्यादा होता है और उनमें गिरावट का डर होता है तो वे लॉर्जकैप में शिफ्ट कर सकते हैं. इसी तरह से लॉर्जकैप से मिडकैप या स्मालकैप में शिफ्ट करने का विकल्प होता है.

लो रिस्क वालों के लिए बेहतर

फाइनेंशियल एडवाइजर फर्म BPN फिनकैप के डायरेक्‍टर एके निगम का कहना है कि साल 2019 में शेयर बाजार में 2018 की तुलना में बेहतर रिटर्न दिख रहा है. 2019 की दूसरी छमाही में बाजार में रैली देखने को मिल सकती है. मिडकैप और स्मालकैप भी आकर्षक वैल्युएशन पर हैं. ऐसे में उनमें भी तेजी आने की उम्मीद है. ऐसे में दूसरे कटेगिरी के मुकाबले मल्टीकैप फंड ज्यादा सुरक्षा के साथ स्टेबल रिटर्न देे सकते हैं.

लंबी अवधि के लिए करें निवेश

जो निवेशक हाई रिस्क नहीं लेना चाहते हैं, उनके लिए यह कटेगिरी निवेश के लिए बेहतर है. हालांकि निवेशकों को मल्टीकैप फंड में लंबी अवधि के लिए ही आना चाहिए. निवेश का नजरिया 5 सराल का हो तो रिटर्न बेहतर हो सकता है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. बाजार के जोखिम से चाहते हैं सुरक्षा, मल्टीकैप फंड में करें निवेश, मिलेगा अच्छा रिटर्न

Go to Top