सर्वाधिक पढ़ी गईं

Kalyan Jewellers: कल्याण ज्वैलर्स की 15% डिस्काउंट पर लिस्टिंग, एक लॉट पर 2236 रु का घाटा; क्या करें निवेशक

Kalyan Jewellers Listing: कल्याण ज्वैलर्स की शेयर बाजार में सुस्त एंट्री हुई है. कंपनी का शेयर बीएसई पर 15 फीसदी डिस्काउंट के साथ लिस्ट हुआ है.

March 26, 2021 10:58 AM
Kalyan Jewellers ListingKalyan Jewellers Listing: कल्याण ज्वैलर्स की शेयर बाजार में सुस्त एंट्री हुई है. कंपनी का शेयर बीएसई पर 15 फीसदी डिस्काउंट के साथ लिस्ट हुआ है.

Kalyan Jewellers (कल्याण ज्वैलर्स): कल्याण ज्वैलर्स की शेयर बाजार में सुस्त एंट्री हुई है. कंपनी का शेयर बीएसई पर 15 फीसदी डिस्काउंट के साथ लिस्ट हुआ है. आईपीओ के तहत प्राइस बैंड 86-87 रुपये प्रति शेयर तय किया गया था, जबकि बीएसई पर शेयर 74 रुपये पर लिस्ट हुआ है. यह आईपीओ 16 मार्च से 18 मार्च तक खुला था. 2012 के बाद ऐसा पहली बार हुआ है, जब शेयर बाजार में कोई ज्वैलरी कंपनी लिस्ट हुई है. कल्याण ज्वैलर्स से पहले पीसी ज्वैलर्स की मार्केट में लिस्टिंग हुई थी. कल्याण ज्वैलर्स में वॉरबर्ग पिनकस (Warburg Pincus) का पैसा लगा हुआ है. आईपीओ 2.61 गुना सब्सक्राइब हुआ था. कल्याण ज्वैलर्स के आईपीओ में लॉट साइज 172 शेयरों का था.

वर्किंग कैपिटल की जरूरतों में फंड का इस्तेमाल

कंपनी ने पहले इश्यू के जरिए 1750 करोड़ रुपए जुटाने की तैयारी की थी. लेकिन बाजार की हालात देखकर अपना इरादा बदल दिया. इसे कम करके 1175 करोड़ रुपये कर दिया. कंपनी ने आईपीओ के जरिए 800 करोड़ रुपये के फ्रेश इश्यू जारी किए हैं. 375 करोड़ रुपये के शेयर्स ऑफर फॉर सेल के जरिए बेचे गए. कंपनी इश्यू से जुटाए फंड का इस्तेमाल अगले दो साल तक कामकाज में करेगी. 30 जून 2020 तक कल्याण ज्वेलर्स के पास देश के 21 राज्यों में 107 शोरूम थे. इसके अलावा विदेशों में भी करीब कंपनी के 30 शोरूम हैं.

आगे क्या करें निवेशक

ब्रोकरेज हाउस एंजेल ब्रोकिंग के अनुसार मजबूत ब्रांड और देशभर में मजबूत नेटवर्क के चलते कंपनी का प्रदर्शन आगे बेहतर रह सकता है. कंपनी के शोरूम का मजबूत नेटवर्क भारत के अलावा विदेशों में भी है. प्रोडक्ट पोर्टफोलियो डाइवर्सिफाइड है. वैल्युएशन टाइटन कंपनी की तुलना में लो है. हालांकि टाइटन का ट्रैक रिकॉर्ड कल्याण ज्वैलर्स की तुलना में काफी बेहतर है.

ब्रोकरेज हाउस जियोजीत फाइनेंशियल के अनुसार शेयर का वैल्युएशन भी लंबी अवधि के लिहाज से ठीक है. कंपनी के भारत में 21 राज्यों में 107 शोरूम हैं. जबकि वेस्ट एशिया में 30 शोरूम हैं. कसटमर बेस मजबूत है. मैनेजमेंट टीम ज्वैलरी और रिटेल इंडस्ट्री के मामले में अनुभवी है, जिसका फायदा कल्याण ज्वैलर्स को मिलेगा. प्राइवेट इक्विटी प्लेयर वारबर्ग पिनकस का बैक होने से भी कंपनी को फायदा होगा. बैलेंसशीट भी आगे बेहतर होने की उम्मीद है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. Kalyan Jewellers: कल्याण ज्वैलर्स की 15% डिस्काउंट पर लिस्टिंग, एक लॉट पर 2236 रु का घाटा; क्या करें निवेशक
Tags:IPO

Go to Top