मुख्य समाचार:
  1. भूषण पावर एंड स्टील के घोटाले से JSW चिंतित, लेकिन बोली से नहीं हटेगी पीछे

भूषण पावर एंड स्टील के घोटाले से JSW चिंतित, लेकिन बोली से नहीं हटेगी पीछे

जेएसडब्ल्यू स्टील ने BPSL के लिये अपनी बोली को 11,000 करोड़ रुपये से बढ़ाकर 18,000 करोड़ रुपये किया था और बाद में इसे बढ़ाकर 19,000 करोड़ रुपये से अधिक कर दिया था.

July 15, 2019 6:26 PM
JSW tells NCLT about buying Bhushan Power and being anxious about alleged fraud reportsNCLT पीठ ने भूषण पावर के समाधान पेशेवर को जेएसडब्ल्यू स्टील को फॉरेंसिक रिपोर्ट की कॉपी देने के लिए कहा है.

JSW स्टील ने सोमवार को राष्ट्रीय कंपनी विधि न्यायाधिकरण (NCLT) को बताया कि वह भूषण पावर एंड स्टील लिमिटेड (BPSL) की समाधान प्रक्रिया से पीछे नहीं हट रही है. हालांकि, BPSL के पूर्व प्रमोटर द्वारा की गई कथित धोखाधड़ी की खबरों को लेकर वह चिंतित जरूर है. JSW स्टील के वकील ने NCLT को बताया कि वह धोखाधड़ी की खबरों को लेकर चिंतित है और यह जानना चाहती है कि कंपनी में क्या चल रहा है. जस्टिस एम एम कुमार की अध्यक्षता वाली दो सदस्यीय NCLT पीठ ने भूषण पावर के समाधान पेशेवर को JSW स्टील को फॉरेंसिक रिपोर्ट की कॉपी देने के लिए कहा है.

फ्रॉड की खबरों से समाधान योजना पर नहीं पड़ेगा असर

NCLT ने कहा कि इन खबरों से भूषण पावर एंड स्टील लिमिटेड की दिवाला प्रक्रिया और JSW की समाधान योजना पर कोई असर नहीं पड़ेगा. NCLT को JSW की समाधान योजना पर कर्जदाताओं की मंजूरी पर फैसला लेना है. इससे पहले, चार फरवरी को राष्ट्रीय कंपनी विधि अपीलीय न्यायाधिकरण (NCLAT) ने टाटा स्टील की याचिका को खारिज कर दिया था और कर्जदाताओं की समिति के JSW की बोली को मंजूरी देने के फैसले को बरकरार रखा था.

19 हजार करोड़ रु की बोली लगाई

JSW स्टील ने BPSL के लिये अपनी बोली को 11,000 करोड़ रुपये से बढ़ाकर 18,000 करोड़ रुपये किया था और बाद में इसे बढ़ाकर 19,000 करोड़ रुपये से अधिक कर दिया था. वहीं टाटा स्टील की ओर से आखिरी पेशकश 17,000 करोड़ रुपये की गई. इसके बाद टाटा स्टील ने अपनी बोली में संशोधन करने से इनकार कर दिया.

बता दें कि पिछले हफ्ते इलाहाबाद बैंक ने भारतीय रिजर्व बैंक को भूषण पावर एंड स्टील द्वारा 1,774 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी किये जाने की सूचना दी थी. इससे पहले पंजाब नेशनल बैंक ने भी भूषण पावर एण्ड स्टील लिमिटेड द्वारा 3,805.15 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी की जानकारी दी है. इस संबंध में केन्द्रीय जांच एजेंसी CBI पहले ही शिकायत दर्ज कर चुकी है जिसमें कई अन्य बैंकों के नाम हैं.

Go to Top