मुख्य समाचार:

Jet Airways: दिवाला प्रक्रिया पर कल से सुनवाई करेगा NCLT, बैंक छोड़ चुके हैं रिवाइवल की कोशिशें

Jet Airways: जेट एयरवेज के पास मात्र 16 विमान हैं जिनका मूल्य 5,000 करोड़ रुपये है.

Updated: Jun 18, 2019 8:46 PM
Jet airways bankruptcy process in nclt will start from wednesdayजेट एयरवेज का शेयर 41 फीसदी टूटकर 40.45 रुपये पर आ गया.

Jet Airways: भारतीय स्टेट बैंक (SBI) की अगुवाई में 26 बैंकों के गठजोड़ ने निजी क्षेत्र की विमानन कंपनी जेट एयरवेज (Jet Airways) के मामले को इंसॉल्वेंसी एंड बैंकरप्सी कोड (IBC) के तहत कार्रवाई के लिए राष्ट्रीय कंपनी विधि न्यायाधिकरण (NCLT) में भेज दिया है. NCLT इस पर बुधवार से सुनवाई करेगा. बैंकों को ठप पड़ी एयरलाइन से 8,500 करोड़ रुपये की वसूली करनी है.

कभी जेट एयरवेज देश की निजी क्षेत्र की सबसे बड़ी एयरलाइन के तौर पर जानी जाती थी. 25 साल पहले इस एयरलाइन को टिकटिंग एजेंट से उद्यमी बने नरेश गोयल ने शुरू किया था. नकदी संकट और एयरलाइन को पट्टे पर विमान देने वाली कंपनियों को भुगतान नहीं कर पाने की वजह से लगातार 17 अप्रैल से जेट एयरवेज का ऑपरेशन बंद है.

कुल 36,500 करोड़ रुपये का बकाया

जेट एयरवेज को कर्ज देने वाले बैंक पिछले पांच महीने से एयरलाइन को चलती हालत में बेचने का प्रयास कर रहे थे, लेकिन कई कारणों से वे अपने प्रयास में सफल नहीं हो पाए. बैंकों के अलावा एयरलाइन पर उसे गुड्स और सर्विसेज देने वालों का 10,000 करोड़ रुपये और कर्मचारियों के वेतन का 3,000 करोड़ रुपये का बकाया है. जेट एयरवेज के कर्मचारियों की संख्या 23,000 है. पिछले कुछ साल के दौरान जेट एयरवेज का कुल नुकसान 13,000 करोड़ रुपये पर पहुंच चुका है. इस तरह एयरलाइन पर कुल 36,500 करोड़ रुपये का बकाया है.

जेट के पास मात्र 16 विमान

घरेलू हवाई अड्डों पर एयरलाइन के स्लॉट सरकार ने अन्य विमानन कंपनियो को दे दिए हैं. अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डों पर भी उसके कुछ स्लॉट अन्य एयरलाइन को दिए गए हैं. बेड़े में विमानों की बात की जाए, तो जेट एयरवेज के पास मात्र 16 विमान हैं जिनका मूल्य 5,000 करोड़ रुपये है. एयरलाइन के बेड़े में शेष 123 विमान पट्टे पर थे. भुगतान नहीं होने की वजह से इनका पंजीकरण रद्द हो चुका है और इन्हें वापस लिया जा चुका है.

Jet Airways का शेयर बुरी तरह टूटा

बंबई शेयर बाजार में मंगलवार को जेट एयरवेज का शेयर 41 फीसदी टूटकर 40.45 रुपये पर आ गया. दिन में कारोबार के दौरान एक समय यह 52.78 फीसदी के नुकसान से 32.25 रुपये पर आ गया था. बैकों को अब तक के प्रयास में कर्ज में डूबी इस एयरलाइन के पुनरोद्धार के लिए किसी कंपनी से कोई पुख्ता प्रस्ताव प्राप्त नहीं हुआ है. एतिहाद-हिंदुजा गठजोड़ ने हालांकि एयरलाइन में रुचि दिखाई है लेकिन उसकी ओर से कोई पुख्ता प्रस्ताव प्राप्त नहीं हुआ है. इसी वजह से बैंकों की सोमवार को हुई बैठक में एयरलाइन के मामले को NCLT में भेजने का फैसला किया गया.  यह फैसला इन खबरों के बाद लिया गया है कि संघीय विधि प्रवर्तन एजेंसियों ने गोयल को निगरानी नोटिस में रखा है. साथ ही वे उनके खिलाफ मनी लॉड्रिंग जांच शुरू करने जा रही हैं.

उल्लेखनीय है कि जेट एयरवेज के साथ व्यवसायिक सौदों में उधार देने वाली दो फर्मों शैमन व्हील्स और गग्गर एंटरप्राइजेज ने एयरलाइन के खिलाफ दिवाला प्रक्रिया शुरू करने के लिए 10 जून को NCLT में अपील की थी. एयरलाइन पर शैमन व्हील्स का 8.74 करोड़ रुपये और गग्गर का 53 करोड़ रुपये का बकाया है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. Jet Airways: दिवाला प्रक्रिया पर कल से सुनवाई करेगा NCLT, बैंक छोड़ चुके हैं रिवाइवल की कोशिशें

Go to Top