सर्वाधिक पढ़ी गईं

RIL Stock Outlook: रिलायंस के शेयरों में तिमाही नतीजों के बाद गिरावट, निवेश के बारे में जानकारों की ये है राय

Reliance Industries (RIL) ने अप्रैल-जून 2021 के तिमाही नतीजे पिछले हफ्ते घोषित किए थे, जिसके बाद आज इसके शेयरों में बिकवाली देखने को मिल रही है.

Updated: Jul 26, 2021 3:02 PM
investment tips stock recommendations Reliance Industries share price falls post first-quarter results should you buy sell or holdरिलायंस को चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में 12,273 करोड़ रुपये का नेट प्रॉफिट हुआ था जोकि सालाना आधार पर 7.25 फीसदी कम रहा.

Reliance Industries (RIL) Shares Outlook: मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (RIL) के शेयरों में आज बिकवाली हो रही है. कंपनी ने पिछले हफ्ते अप्रैल-जून 2021 तिमाही के वित्तीय नतीजों का ऐलान किया था जिसे लेकर आज निवेशकों का प्रतिक्रिया मार्केट में दिख रही है. रिलायंस को चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में 12,273 करोड़ रुपये का नेट प्रॉफिट हुआ था जोकि सालाना आधार पर 7.25 फीसदी कम रहा. हालांकि कंपनी के रेवेन्यू में 58.2 फीसदी की बढ़ोतरी हुई और पिछले साल की समान तिमाही में 91238 करोड़ रुपये के मुकाबले इस बार अप्रैल-जून 2021 तिमाही में कंपनी को 1.44 लाख करोड़ रुपये का रेवेन्यू हासिल हुआ. तेल से लेकर टेलीकॉम में कारोबार कर रही इस कंपनी के शेयर सोमवार को एनएसई पर 0.87 फीसदी की गिरावट के साथ 2087.40 रुपये पर ट्रेड कर रहे हैं. इस साल इसके भाव में अब तक 5 फीसदी और पिछले साल मार्च 2020 से अब तक 97 फीसदी का उछाल आया है.

यहां देख सकते हैं लाइव प्राइस

अप्रैल-जून तिमाही में रिलायंस इंडस्ट्रीज का ईबीआईटीडीए सालाना आधार पर 27.6 फीसदी बढ़कर 27,550 करोड़ रुपये हो गया. हाल ही में कंपनी ने सबसे अधिक फोकस रिटेल और टेलीकॉम बिजनेस पर दिया, इसने जून 2021 तिमाही में जबरदस्त प्रदर्शन दिखाया. जियो प्लेटफॉर्म का नेट प्रॉफिट सालाना आधार पर 45 फीसदी बढ़कर 3651 करोड़ रुपये हो गया और रिलायंस रिटेल का प्रॉफिट 123 फीसदी की उछाल के साथ 962 करोड़ रुपये हो गया. खुदरा कारोबार में अब इसका दबदबा बढ़ रहा है और देश भर में इसके 12,803 ऑपरेशनल फिजिकल स्टोर्स हैं.

कल खुलेगा ग्लेनमार्क लाइफ साइंसेज का आईपीओ, ग्रे मार्केट में 20% प्रीमियम पर भाव, सब्सक्रिप्शन के लिए ये है एक्सपर्ट की राय

मोतीलाल ओसवाल: Buy, टारगेट प्राइस- 2485 रुपये (18%)

रिलायंस को लेकर मोतीलाल ओसवाल के एनालिस्ट्स बुलिश हैं और उनके मुताबिक इसमें 18 फीसदी की मजबूती आ सकती है. मोतीलाल ओसवाल के एनालिस्ट्स के मुताबिक कंपनी का ओ2सी (ऑयल टू केमिकल) बिजनस 7.5x FY23E EV/EBITDA पर है और इसके आधार पर स्टैंडएलोन बिजनस का वैल्यूएशन करें तो प्रति शेयर 776 रुपये बैठता है जबकि एक्स्प्लोरेशन और प्रोडक्शन को ब्रोकरेज फर्म ने 68 रुपये प्रति शेयर असाइन किया है. मोतीलाल ओसवाल ने रिलायंस जियो का 20x FY23E EV/EBITDA पर 875 रुपये प्रति शेयर और रिलायंस रिटेल का 34x FY23E EV/EBITDA पर 771 रुपये प्रति शेयर का इक्विटी वैल्यूएशन किया है. इस कैलकुलेशन में हाल ही में रिलायंस द्वारा हिस्सेदारी की बिक्री को शामिल किया गया है. ब्रोकरेज फर्म का अनुमान है कि डिजिल व फाइबर लैंडस्केप के साथ-साथ टैरिफ में बढ़ोतरी से जियो के जरिए रिलायंस के मुनाफे में बढ़ोतरी होगी. इसके अलावा जियोमार्ट प्लेटफॉर्म को आक्रामक तरीके से लाने की तैयारियों से रिटेल इकाई की ग्रोथ होगी.

कोटक सिक्योरिटीज: Add, फेयर वैल्यू- 2260 रुपये (7%)

ब्रोकरेज फर्म कोटक सिक्योरिटीज के मुताबिक रिलायंस के वित्तीय नतीजे अनुमान के मुताबिक ही आए. हालांकि जियो के नतीजे अनुमान से अधिक बेहतर रहे. कोरोना के चलते रिस्ट्रिक्शंस के बावजूद जियो ने 1.43 करोड़ नेट सब्सक्राइबर अपने नेटवर्क से जोड़े और उसका प्रति यूजर से औसतन रेवेन्यू (ARPU) लगभग स्थिर रहा. अप्रैल-जून तिंमाही में कंपनी के बेहतर प्रदर्शन, अन्य स्रोतों से आय में बढ़ोतरी और वित्तीय लागत में कमी के चलते वित्त वर्ष 2022-24 के लिए कंसालिडेटेड ईपीएस में 3-4 फीसदी की बढ़ोतरी की है. कोटक सिक्योरिटीज के एनालिस्ट्स ने अर्निंग्स ग्रोथ की मजबूत संभावना को देखते हुए फेयर वैल्यू को 2200 रुपये से संशोधित कर 2260 रुपये कर दिया है.

पासपोर्ट बनवाने के लिए परेशान होने की जरूरत नहीं, नजदीकी पोस्ट ऑफिस पर भी अब कर सकते हैं आवेदन

ICICI सिक्योरिटीज: Hold, टारगेट प्राइस- 2107 रुपये

कमजोर ग्रॉस रिफाइनिंग मार्जिन्स (जीआरएम), पेट्रोकेमिकल मार्जिन में गिरावट और तीसरी लहर की आशंका के चलते खुदरा कारोबार में रिकवरी में देरी के चलते वित्त वर्ष 2022 में ईपीएस (प्रति शेयर आय) में गिरावट आ सकती है. आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज के मुताबिक स्टॉक का प्रदर्शन कमजोर बना रहेगा जब तक कि टैरिफ में बढ़ोतरी नहीं होती है और रिटेल ग्रोथ कोरोना से पहले के स्तर पर नहीं पहुंच जाता है या जीआरएम में रिकवरी नहीं हो जाती है. ब्रोकरेज फर्म के मुताबिक रिलायंस का पेट्रोकेमिकल मार्जिन्स पहले से ही रिकॉर्ड ऊंचाई से काफी नीचे है और प्रॉडक्ट्स में लार्ज कैपेसिटी एडीशन से इसमें और भी करेक्शन हो सकता है. निफ्टी50 पर इस साल रिलायंस के शेयर अंडरपरफॉर्म किए हैं.

(Article: Kshitij Bhargava)
(डिस्क्लेमर: स्टोरी में दिए गए स्टॉक रिकमंडेशन संबंधित रिसर्च एनालिस्ट व ब्रोकरेज फर्म के हैं. फाइनेंशियल एक्सप्रेस ऑनलाइन इनकी कोई जिम्मेदारी नहीं लेता. पूंजी बाजार में निवेश जोखिमों के अधीन हैं. निवेश से पहले अपने सलाहकार से जरूर परामर्श कर लें.)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. RIL Stock Outlook: रिलायंस के शेयरों में तिमाही नतीजों के बाद गिरावट, निवेश के बारे में जानकारों की ये है राय

Go to Top