सर्वाधिक पढ़ी गईं

दिसंबर में 1% बढ़ा औद्योगिक उत्पादन, खुदरा महंगाई भी पहुंची 16 माह के निचले स्तर पर

पिछले साल दिसंबर 2020 में देश में औद्योगिक उत्पादन के बढ़ने की दर 1 फीसदी रही.

Updated: Feb 12, 2021 10:04 PM
Industrial production grows by 1 per cent in December and Inflation eases in Jan Government data revealsराष्ट्रीय सांख्यिकीय कार्यालय (NSO) द्वारा शुक्रवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक जनवरी 2021 में सब्जी की कीमतों में गिरावट के चलते खुदरा महंगाई 4.06 फीसदी रही.

इकोनॉमिक गतिविधियों में रिकवरी के संकेत दिखने लगे हैं. दिसंबर 2020 में इंडस्ट्रियल प्रोडक्शन में 1 फीसदी की पॉजिटिव ग्रोथ रही जबकि जनवरी 2021 में खुदरा महंगाई 16 महीने के निचले स्तर 4.06 फीसदी पर पहुंच गई. आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक मैनुफैक्चरिंग सेक्टर के बेहतर प्रदर्शन के चलते औद्योगिक उत्पादन की ग्रोथ बेहतर रही. मैनुफैक्चरिंग सेक्टर की इंडेक्स ऑफ इंडस्ट्रियल प्रोडक्शन (आईआईपी) में 77.63 फीसदी हिस्सेदारी रहती है और दिसंबर 2020 में इसकी 1.6 फीसदी ग्रोथ रही. दिसंबर 2020 में माइनिंग आउटपुट में 4.8 फीसदी की गिरावट रही जबकि पॉवर जेनेरेशन में 5.1 फीसदी की बढ़ोतरी रही.

कंज्यूमर ड्यूरेबल्स आउटपुट में बढ़ोतरी

आईआईपी डेटा के मुताबिबक दिसंबर 2020 में कंज्यूमर ड्यूरेबल्स आउटपुट में 4.9 फीसदी की बढ़ोतरी हुई जबकि दिसंबर 2019 में यह आंकड़ा 5.6 फीसदी था. नॉन-ड्यूरेबल गु्ड्स की बात करें तो इसका प्रोडक्शन दिसंबर 2019 में 3.2 फीसदी के गिरावट की तुलना में दिसंबर 2020 में 2 फीसदी बढ़ा. दिसंबर 2019 में आईआईपी में 0.4 फीसदी की बढ़ोतरी रही थी. पिछले साल 2020 में कोरोना महामारी के चलते इंडस्ट्रियल प्रोडक्शन बुरी तरह प्रभावित हुआ है. पिछले साल मार्च में आईआईपी में 18.7 फीसदी की गिरावट रही थी.

यह भी पढ़ें- नितिन गडकरी ने लांच किया देश का पहला सीएनजी ट्रैक्टर, किसानों को होगी इतनी बचत

जनवरी में कम हुई खुदरा महंगाई

राष्ट्रीय सांख्यिकीय कार्यालय (NSO) द्वारा शुक्रवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक जनवरी 2021 में सब्जियों की कीमतों में गिरावट के चलते खुदरा महंगाई 4.06 फीसदी रही. यह लगातार दूसरा महीना रहा जब सीपीआई पर आधारित महंगाई दर आरबीआई के टारगेट रेंज 4 फीसदी (2 फीसदी कम या अधिक के साथ) में रहा. सरकारी आंकड़ों के मुताबिक दिसंबर 2020 में कंज्यूमर प्राइस इंडेक्स (CPI) पर आधारित महंगाई दर 4.59 फीसदी रही. इससे पहले खुदरा महंगाई सबसे कम सितंबर 2019 में 4 फीसदी थी. फूड बास्केट में भाव बढ़ने की दर जनवरी 2021 में 1.89 फीसदी रही जबकि उसके पिछले महीने दिसंबर 2020 के लिए यह दर 3.41 फीसदी था. केंद्रीय बैंक आरबीआई से अपनी मॉनीटरी पॉलिसी के निर्धारण के लिए सीपीआई इंफ्लेशन को 4 फीसदी ( 2फीसदी अधिक या कम) पर रखने को कहा गया है. आरबीआई मौद्रिक नीतियों के लिए रिटेल इंफ्लेशन को भी कंसीडर करती है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. दिसंबर में 1% बढ़ा औद्योगिक उत्पादन, खुदरा महंगाई भी पहुंची 16 माह के निचले स्तर पर

Go to Top