सर्वाधिक पढ़ी गईं

इकोनॉमी बढ़ने के मिले संकेत, फेस्टिव सीजन से पहले सितंबर में बढ़ी ऑयल डिमांड

कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों के बावजूद आवागमन पर प्रतिबंध हटाए जाने के कारण ऑयल डिमांड बढ़ी है.

October 24, 2020 11:11 AM
oil, natural gas, oil refining, prime minister, narendra modiIt is projected that India will emerge as a leading energy consumer and double its energy consumption over the long term.

देश में क्रूड ऑयल की रिफाइनिंग सितंबर महीने में बढ़कर 1.77 करोड़ टन (43.3 लाख बैरल) प्रतिदिन हो गई. यह आंकड़ा पिछले महीने अगस्त के मुकाबले 13.4 फीसदी अधिक है. इसके अलावा यह कोरोना महामारी आने के बाद मार्च से लेकर अब तक की सबसे अधिक रिफाइनिंग है. सरकारी आंकड़ों के मुताबिक उस समय करीब 50.1 लाख बैरल प्रतिदिन क्रूड ऑयल रिफाइन होता था.

आवागमन पर प्रतिबंध हटने से बढ़ी ऑयल डिमांड

जून के बाद से पहली बार फ्यूल डिमांड भी बढ़ी है. मार्च के बाद से पहली बार Gasoil की बिक्री में भी बढ़ोतरी हुई है जिससे फेस्टिव सीजन के पहले औद्योगिक गतिविधियों के बढ़ने का संकेत मिलता है. यूबीएस एनालिस्ट जिओवानी स्ताउनोवो का कहना है कि इन सबसे संकेत मिलता है कि भारतीय अर्थव्यवस्था अब धीरे-धीरे वापस पटरी पर लौट रही है. उनका मानना है कि कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों के बावजूद आवागमन पर प्रतिबंध हटाए जाने के कारण ऑयल डिमांड बढ़ी है.
देश में कोरोना संक्रमितों के मामले अब डाउनवार्ड्स हैं. इसने 17 सितंबर को एक ही दिन में 97894 नए मामलों का पीक छुआ था और उसके बाद से अब एक दिन के नए मामले में कमी आ रही है. हालांकि भारत अभी भी कोरोना से दुनिया का दूसरा सबसे अधिक प्रभावित देश है.

अधिक क्षमता के साथ रिफाइनरी कंपनियों ने किया काम

भारतीय रिफाइनरी कंपनियों ने सितंबर में अपनी 86.22 क्षमता के साथ काम किया जबकि अगस्त में यह आंकड़ा 76.10 फीसदी था. मार्च के बाद यह अपनी क्षमता का यह सबसे अधिक प्रयोग है. देश की सबसे बड़ी रिफाइनरी कंपनी इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन (IOC) ने प्रत्यक्ष रूप से स्वामित्व वाली रिफाइनरी में 81 फीसदी क्षमता के साथ काम किया. दुनिया के सबसे बड़े रिफाइनरी कांप्लेक्स रिलायंस ने 89.37 फीसदी क्षमता के साथ अपने प्लांट को ऑपरेट किया.

पिछले साल सितंबर के मुकाबले गिरावट

क्रूड प्रोसेसिंग में अप्रैल 2003 के बाद से सबसे बड़ी गिरावट आई ती लेकिन सितंबर में उसने 20 फीसदी रिकवरी कर ली है. हालांकि सरकारी आंकड़ों के मुताबिक अभी भी यह पिछले साल सितंबर में क्रूड रिफाइनिंग से तुलना में 8.7 फीसदी कम है. इसके अलावा क्रूड ऑयल प्रोडक्शन पिछले साल सितंबर के मुकाबले 6 फीसदी गिरकर 24.9 लाख टन (6.08 बैरल) प्रतिदिन रह गया.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. इकोनॉमी बढ़ने के मिले संकेत, फेस्टिव सीजन से पहले सितंबर में बढ़ी ऑयल डिमांड

Go to Top