सर्वाधिक पढ़ी गईं

महंगे तेल के बावजूद कोरोना से पहले के स्तर पर पहुंची पेट्रोल-डीजल की बिक्री, कम उड़ानों के चलते एटीएफ की मांग सुस्त

महंगे तेल के बावजूद पेट्रोल और डीजल की बिक्री कोरोना से पहले के स्तर पर पहुंच चुकी है.

March 16, 2021 7:18 PM
India fuel PETROL DIESEL sales return to pre-COVID levels sAYS INDIAN OIL CHAIRMAN BUT ATF SALES MAY takE QUARTER time to to normalइकोनॉमी की रफ्तार कैसी है, इसका एक संकेत फ्यूल डिमांड से भी मिलता है.

इकोनॉमी की रफ्तार कैसी है, इसका एक संकेत फ्यूल डिमांड से भी मिलता है. पेट्रोल और डीजल की महंगाई के बावजूद इसकी खपत पर खास असर नहीं पड़ा है और देश का फ्यूल डिमांड अब कोरोना से पहले के स्तर पर पहुंच चुका है. पेट्रोल की बिक्री कुछ महीने पहले ही सामान्य हो चुकी थी लेकिन अब डीजल की बिक्री भी कोरोना से पहले के स्तर पर पहुंच चुकी है. हालांकि एटीएफ (एविएशन टर्बाइन फ्यूल) की मांग अभी भी सुस्त है. यह जानकारी देश की सबसे बड़ी तेल कंपनी इंडियन ऑयल के चेयरमैन श्रीकांत माधव वैद्य ने दी. वैद्य का मानना है कि इससे जल्द ही खपत बढ़ाने में मदद मिलेगी.
पिछले साल अप्रैल में कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए लगाए गए नेशनल लॉकडाउन के चलते तेल की बिक्री अप्रैल 2020 में 45.8 फीसदी गिर गई थी. लॉकडाउन में ढील दिए जाने के बाद धीरे-धीरे इसकी मांग में बढ़ोतरी हुई और अब एटीएफ को छोड़कर पेट्रोल-डीजल की मांग कोरोना से पहले के स्तर पर पहुंच गई है. पिछले साल 16 मार्च को दिल्ली में पेट्रोल 69.59 रुपये प्रति लीटर था जबकि आज पेट्रोल 91.17 रुपये प्रति लीटर है. इसके अलावा दिल्ली में पिछले साल 16 मार्च 2020 को डीजल के भाव 62.29 रुपये था जबकि आज 16 मार्च 2021 को इसके भाव 81.47 रुपये हो गए हैं.

Cabinet Decisions: इंंफ्रा सेक्टर में मोदी सरकार का बड़ा कदम, फंड जुटाने के लिए DFI के गठन को मंजूरी

डीजल बिक्री में 7.4 फीसदी का इजाफा

वैद्य के मुताबिक पेट्रोल की बिक्री कुछ महीने पहले ही कोरोना से पहले की स्थिति में पहुंच चुकी थी लेकिन डीजल की बिक्री अब जाकर सामान्य हुई है. मार्च 2021 के पहले हाफ में डीजल की बिक्री सालाना आधार पर 7.4 फीसदी बढ़ी है. पिछले साल मार्च के दूसरे हाफ में नेशनल लॉकडाउन लगाया गया था. लॉकडाउन के दौरान पेट्रोल और डीजल की बिक्री प्रभावित रही लेकिन एलपीजी की बिक्री में ग्रोथ रही. मार्च 2021 के पहले हाफ में 28.4 लाख टन डीजल की बिक्री हुई जबकि पेट्रोल की बिक्री 5.3 फीसदी बढ़कर 10.5 लाख टन पहुंच गई. सालाना आधार पर अक्टूबर 2020 के बाद पहली बार मार्च 2021 के पहले हाफ में पेट्रोल की बिक्री बढ़ी है.

एटीएफ की सामान्य बिक्री में 3-4 महीने

विमान कंपनियां अपनी पूरी क्षमता से विमानों का संचालन नहीं कर रही हैं जिसके कारण इसकी बिक्री सामान्य से कम बनी हुई है. वैद्य के मुताबिक एटीएफ की बिक्री सामान्य होने में अपनी 3-4 महीने तक का समय लग सकता है. वैद्य का मानना है कि वैक्सीनेशन कार्यक्रम के चलते इकोनॉमी विस्तार होगा और फ्यूल डिमांड में रिकवरी होगी.

ओपेक का अनुमान, बढ़ेगी भारत में तेल की मांग

क्रूड ऑयल सप्लायर्स ग्रुप ओपेक की मासिक ऑयल रिपोर्ट में इस साल 2021 में भारत की ऑयल डिमांड में 13.6 फीसदी की बढ़ोतरी का अनुमान लगाया गया है. इसके मुताबिक भारत की डिमांड हर दिन 49.9 लाख बैरल प्रतिदिन की रहेगी. पिछले साल 2020 में भारत की ऑयल डिमांड 10.54 फीसदी गिरकर 44 लाख बैरल प्रतिदिन रह गई थी जबकि 2019 में यह आंकड़ा 49.1 लाख बैरल प्रतिदिन था.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. महंगे तेल के बावजूद कोरोना से पहले के स्तर पर पहुंची पेट्रोल-डीजल की बिक्री, कम उड़ानों के चलते एटीएफ की मांग सुस्त

Go to Top